कुरा से जानें कौन हैं आपके आराध्य देव 

जयपुर से राजेंद्र गुप्ता
अरबी ज्योतिष में पासों, जिन्हें ‘कुरा’ कहते हैं, से बनने वाली आकृति के आधार पर आप जान सकते हैं कि आपके आराध्य देव कौन से हैं। इनकी साधना शीघ्र फलीभूत होती है और सुख-समृद्धि, सफलता इत्यादि भी जल्दी मिलती है। रमल (अरबी ज्योतिष) में जातक यानी प्रश्नकर्ता रमल ज्योतिष विद्वान से प्रश्न करें कि किस देवी-देवता की आराधना करें जिससे लाभ, शांति, पारिवारिक बढ़त, भौतिक, सम्पदा, धन-धान्य में वृद्धि, शांति, तथा संतान सुख प्राप्त हो। आराध्य देव की जानकारी के लिए पासे जिसे अरबी भाषा में ‘कुरा’ कहते हैं, किसी शुद्ध पवित्र स्थान पर डलवाए जाते हैं। यह सारी प्रक्रिया विद्वान के समक्ष होती है। अरबी ज्योतिष में किए गए सारे प्रश्न मय समाधान बिना कुंडली सेहल किए जाते हैं। अरबी ज्योतिष में 12 राशियां, नौ ग्रह और 27 नक्षत्र माने गए हैं। यह विधा 12 राशियों पर आधारित है, जिनका संबंध मूल सात ग्रहों से है। हर राशि का एक अधिष्ठाता देवता होता है।
अरबी ज्योतिष के प्रस्तार के लग्न स्थान में यदि शक्ल (आकृति) ‘हमरा नकी’ हो जो मेष और वृश्चिक राशि से संबंध रखती है तो आपके आराध्य देव हनुमान जी होंगे। इनकी आराधना से शांति, लाभ, वैभव प्राप्त होगा व दुश्मन परास्त होकर नत मस्तक होंगे या शांत होकर घर बैठ जाएंगे।
यदि लग्न स्थान में शक्ल ‘अतवे दाखिल’ व ‘फरह’ हो जो वृष व तुला राशि को निर्धारित करती है, यह आकृति होने पर जातक को लक्ष्मी मां की आराधना से लाभ प्राप्ति होगी। मां लक्ष्मी की कृपा आप पर बनी रहेगी।
प्रस्तार के लग्न स्थान में शक्ल ‘इज्जतमा’ व ‘जमात’ हो, जो मिथुन व कन्या राशि की शक्ल से संबंधित है, तो जातक द्वारा विष्णु भगवान की आराधना करना श्रेष्ठकर रहेगा। इनकी आराधना करने से परिवार और संतान सुख व शांति मिलेगी।
यदि लग्न स्थान में शक्ल ‘ब्याज’ हो जो चंद्रमा ग्रह और कर्क राशि की शक्ल है, तो जातक द्वारा शिव भगवान की आराधना करना लाभकारी है। इनकी आराधना से धन-धान्य की पूर्ति के साथ यश मान मिलेगा। साथ ही ईश्वर की अदृश्य शक्ति की कृपा बराबर बनी रहेगी।
लग्न स्थान में शक्ल ‘कब्जूल दाखिल’, ‘नुस्तुल खारिज’ हो, जो सिंह राशि से संबंधित है, तो जातक द्वारा सूर्य देव व शिवजी महाराज की आराधना करना हितकर है।
लग्न स्थान में शक्ल ‘लहियान’, ‘नुस्तुल दाखिल’ हो जो धनु व मीन राशि से संबंधित है, तो जातक द्वारा श्रीराम, श्रीकृष्ण, नारायण देव की आराधना करना उपयोगी है। इनकी आराधना से संतान सुख, परिवार में सुख-शांति बराबर स्थायी तौर पर कायम रहेगी। परिवार में वंश वृद्धि नियमानुसार होती रहेगी।
लग्न स्थान में शक्ल ‘कब्जुल खारिज, अंकिश, उपला, अतवे खारिज शक्ल हो, जो कुंभ व मकर राशि से संबंधित है, तो जातक द्वारा शिवजी की आराधना करना हितकर है। इससे परिवार व कार्य में स्थाई तौर पर बरकत, वैभव-शांति मिलेगी।

Religion

देवशयनी एकादशी का व्रत आजः अब सो जाएंगे श्रीहरि भगवान विष्णु

आइए जानते हैं कि इस साल देवशयनी एकादशी का व्रत कब रखा जाएगा और पूजा मुहूर्त से लेकर पारण का समय क्या रहेगा हरिशयनी, पद्मनाभा और योगनिद्रा एकादशी के नाम से भी जानी जाती है यह तिथि देवशयनी एकादशी के चार माह के बाद भगवान विष्णु देवउठनी एकादशी के दिन जागते हैं जयपुर से राजेंद्र […]

Read More
Religion

मोहर्रम के जुलूस में ना फहराये फिलिस्तीन का झंडा: मौलाना शहाबुद्दीन बरेलवी

अजय कुमार लखनऊ मुहर्रम का महीना चल रहा है. इस दौरान जगह-जगह जुलूस निकाले जाते हैं. ये जुलूस इस्लाम-ए-पैगंबर के सबसे छोटे नवासे हजरत इमाम हुसैन और उनके साथियों की याद में जुलूस निकाला जाता है. ऐसे में इस बार जुलूस में फिलिस्तीन देश का झंडा भी देखने को मिला है, जिसको लेकर आल इंडिया […]

Read More
Religion

जैन धर्म के लिए विशेषः चौमासी अष्टान्हिका विधान आज से प्रारम्भ

राजेन्द्र गुप्ता, ज्योतिषी और हस्तरेखाविद जैन धर्मावलंबियों का महान पर्व पर्यूषण के बाद दूसरा अष्टान्हिका महापर्व कार्तिक, फाल्गुन एवं आषाढ़ के अंतिम आठ दिनों में मनाया जाता है। आषाढ़ माह का यह पर्व अधिकतर जैन मंदिरों में आज से मनाया जाएगा। 8 दिन तक मंदिरों में सिद्ध चक्र महामण्डल विधान, नंदीश्वर द्वीप की पूजा एवं […]

Read More