झारखंड के ऋषभ ने जीता पोकरबाजी का भारतीय पोकर मास्टर्स 2023 टूर्नामेंट

लखनऊ। राँची के रहने वाले पेशेवर पोकर खिलाड़ी, ऋषभ हर्ष ने पोकर की अपनी उपलब्धियों के ताज में एक और हीरा जड़ लिया है। 2.17 लाख रुपए का नकद पुरस्कार जीतने वाले ऋषभ, पोकरबाजी द्वारा आयोजित भारतीय पोकर मास्टर्स टूर्नामेंट में विजेता बने हैं। उनका यह बेहतरीन सफर, शानदार उपलब्धियों के लिए उनकी प्रतिबद्धता को दर्शाता है। ऋषभ एक उत्सुक पोकर खिलाड़ी हैं, जोकि किसी भी अन्य खेल की तरह ही पोकर के खेल में निरंतर अभ्यास और कौशल को निखारते रहने की जरूरतों को समझते हैं। उन्होंने कॉलेज के दिनों में पोकर की दुनिया में कदम रखा था, जहाँ पोकर के खेल से जुड़ी कुशलता और रणनीतियों ने उनका ध्यान अपनी तरफ खींचा था। इससे वे इस खेल के बारे में और ज्यादा जानने के लिए प्रेरित हुए। शुरूआत में उन्होंने सोशल प्लेटफॉर्म पर पोकर में हाथ आजमाना शुरू किया और ऑनलाइन पोकर प्लेटफॉर्म पर महारत हासिल की। पहली बार ऋषभ को काफी नुकसान उठाने पड़े, लेकिन उन्होंने इसे अपनी सीख के रूप में लिया। उनहोंने अपने खेल पर लगातार काम करके और फ्रीरॉल एवं छोटे-छोटे टूर्नामेंट्स में रजिस्टर करने आत्मविश्वास हासिल किया।

अपनी जीत प, ऋषभ हर्ष ने कहा कि, “पोकर के मेरे सफर में आईपीएम टूर्नामेंट जीतना बहुत ही बड़ा मौका रहा है। यह जीत अपने खेल को बेहतर बनाने और कौशल को निखारने की मेरी प्रतिबद्धता और लगन का सबूत है। लोग भले ही पोकर को आसान और किस्मत का खेल मानते हों, लेकिन असल में यह मल्टीपल-हैंड रैंकिंग, कुशलता, धैर्य और रणनैतिक सोच का मिला-जुला खेल है। मैं इस टूर्नामेंट के लिए पोकरबाजी का शुक्रिया अदा करना चाहता हूँ, जोकि मेरे जैसे पोकर खिलाड़ियों को लगातार अपना कौशल निखारने और इस खेल को सीखते रहने का मौका देता है।

ऋषभ, नेशनल पोकर सीरीज इंडिया 2023 के कई सारे फॉर्मेट में मेडल जीत चुके हैं। उनके माता-पिता पहले तो ऋषभ के इस शौक और इसे पेशेवर खेल के रूप में अपनाने को लेकर दुविधा में थे। लेकिन जब उनके माता-पिता को इसमें लगने वाला कौशल समझ आया, तब कॅरियर के चुनाव में उनका सहयोग किया और अब उनके सबसे बड़े समर्थक भी हैं। IMPS 2023 जीतने केक लिए ऋषभ को बधाई देते हुए, बाजी गेम्स के सीईओ और को-फाउंडर, नवकिरण सिंह ने कहा कि, “ऋषभ की जीत इस बात का सबूत है कि पोकर का खेल बड़े शहरों की सीमा पार कर चुका है और इसमें एक सफल कॅरियर बनाया जा सकता है। उनकी जीत की प्रशंसा करने के साथ मुझे पक्का यकीन है कि भविष्य में अनेक और दृढ़संकल्प खिलाड़ी पोकर में बड़ी उपलब्धियाँ हासिल करेंगे। ऋषभ जैसे लोगों की कहानियों से मुझे यकीन है कि आगे आने वाले सालों में भारतीय पोकर कम्युनिटी में केवल वृद्धि ही होगी।

ऋषभ की उपलब्धि एक प्रेरक कहानी रही है, विशेषकर झारखंड जैसे क्षेत्रों के लिए जहाँ इसकी तरक्की और इसके प्रति लगन को प्रत्यक्ष रूप से देखा है। ऋषभ के इस सफर से साबित होता है कि लगातार सीखने और गहरे जुड़ाव से पोकर में ईनाम जीतने की संभावना उन लोगों के लिए काफी बढ़ जाती है जो इसकी जटिलता में महारत हासिल करने के प्रति समर्पित होते हैं। 28% GST के हालिया संशोधन के बारे में ऋषभ ने कहा कि मेरा मानना है भारत में कई सारे लोगों को ऑनलाइन गेमिंग इंडस्ट्री ने काफी मदद की है। इस संशोधन का यह बुरा प्रभाव पड़ सकता है कि कई सारे बेहतरीन खिलाड़ियों को हम खो दें। उन्होंने सरकार को साझा समाधान निकालने का आग्रह किया जो इस क्षेत्र के लिए मददगार हो सके।

Jharkhand

बिरसा जैविक उद्यान में बाघिन के चार नवजात की मौत

चारों 10 मई की आधी रात को पैदा हुए थे नया लुक ब्यूरो, झारखंड रांची। राजधानी के ओरमांझी ब्लॉक स्थित बिरसा जैविक उद्यान में बाघिन के चार नवजात की मौतमें बाघिन के चार नवजात शावकों की दु:खद मौत हो गई है। 10 मई को ही उनका जन्म हुआ था। बाघ के बच्चों की मौत से […]

Read More
Jharkhand

दूसरे दिन की पूछताछ के बाद झारखंड सरकार के मंत्री आलमगीर आलम गिरफ्तार,

आप्त सचिव और इसके निजी सहायक के अवैध धंधों की नहीं है जानकारी रंजन कुमार सिंह रांची (झारखंड)। जैसी आशंका थी, दूसरे दिन छह घंटे की पूछताछ के बाद प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने ग्रामीण विकास मंत्री आलमगीर आलम को गिरफ्तार कर लिया। बुधवार को आलमगीर आलम 11:30 बजे ED ऑफिस पहुंचे। ED ने उनसे पूछताछ […]

Read More
Jharkhand

खेत में 11 हज़ार वोल्ट की चपेट में आकर जंगली हाथी की मौत, जंगल में दफनाया गया,

नया लुक ब्यूरो, रांची/हजारीबाग: झारखण्ड के हजारीबाग जिले के सदर प्रखंड अंतर्गत चुटियारो पंचायत के सरोनी कला गांव में करंट लगने से एक हाथी की दर्दनाक मौत हो गई। किसान पटवन करने के लिए बिजली का तार अपने खेत में ले गये थे। उसी तार की संपर्क में आने से हाथी की मौत हुई।हाथी झुंड […]

Read More