देश की राजनीति जल्द ले सकती है करवट : मायावती

नई दिल्ली। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमो मायावती ने रविवार को कहा कि जुमलेबाजी और धर्म की राजनीति से जनता उकता चुकी है जिससे निकट भविष्य में देश की राजनीति करवट ले सकती है। सुश्री मायावती ने आज यहां दिल्ली, हिमाचल प्रदेश, जम्मू-कश्मीर और झारखण्ड में पार्टी संगठन के कार्यकलापों की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि राजनीति दलों के चुनावी वादे, वादाखिलाफी, विषैले भाषणों के अलावा धर्म का राजनीतिक स्वार्थ के लिए अत्याधिक और अनुचित इस्तेमाल लोगों को रास नहीं आ रहा है। लोगों की जागरुकता से आने वाले समय में देश की राजनीति के करवट बदलने की संभावना है। देश के विभिन्न राज्यों और केन्द्र शासित क्षेत्रों में गरीबों, मजदूरों, उपेक्षितों-शोषितों के जीवन में आपेक्षित बेहतरी की बजाय उनके हालात बदतर होते जा रहे हैं जो चिंता का विषय है।

बसपा अध्यक्ष ने कहा कि वास्तव में करोड़ों गरीबों, मेहनतकशों और उपेक्षितों के अपेक्षित विकास तथा तरक्की को लेकर सरकारों की नीयत व नीति सही व ईमानदार नहीं होने के कारण इनके हालात नहीं सुधर रहे हैं जो बहुप्रचारित विकास के सरकारी दावे की पोल खोलता है। साथ ही, रिजर्व सरकारी नौकरी में बैकलॉग तथा आरक्षण को निष्क्रिय और निष्प्रभावी बना दिये जाने से एससी, एसटी तथा ओबीसी वर्ग के परिवार चिन्तित एवं उद्वेलित है। उन्होंने कहा कि केन्द्र और दिल्ली सरकार में आपसी अविश्वास, असहयोग तथा टकराव से आम जनहित प्रभावित हो रहे है जबकि दिल्ली को आपसी सहयोग से विकास, जनहित एवं जनकल्याण की बेहतरीन मिसाल होना चाहिए।

दोनों सरकारों के बीच अन्तहीन टकराव दुःखद एवं चिंता का विषय है। जम्मू-कश्मीर के राजनीतिक हालात की चर्चा करते हुये उन्होंने कहा कि पर्वतीय प्रदेश में भी पार्टी के लोग अपनी तैयारी पूरी रखें क्योंकि और अधिक समय तक चुनाव टालने के बजाय वहां विधानसभा का आमचुनाव कभी भी संभव हो सकता है वहीं हिमाचल प्रदेश में भी बसपा को अपनी तमाम कमियों को दूर करके आगे बढ़ना जरूरी हो गया है। झारखंड में पार्टी में यंग ब्लड को जोड़कर आगे बढ़ने की रणनीति की जरूरत है। उन्होंने कहा कि देश या राज्यों में चाहे किसी भी पार्टी की सरकार हो, खासकर करोड़ों एससी, एसटी, ओबीसी, अल्पसंख्यक समाज के लोगों को न्याय तथा बराबरी के उनके संवैधानिक हक से वंचित रखना तथा शिक्षा एवं सरकारी नौकरी में आरक्षण के जरिये उनका जीवन थोड़ा संतृप्त करने के मामले में उनकी उपेक्षा से लोगों में बेचैनी है, जो उनकी चिन्ताओं को और गंभीर बना रही है। (वार्ता)

 

Delhi

मोदी की काशी यात्रा

डॉ दिलीप अग्निहोत्री प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की काशी यात्रा के कई रोचक संदर्भ है। वह अयोध्या धाम में श्रीराम मन्दिर प्राण प्रतिष्ठा के एक माह पूरे होने पर काशी पहुँचे। इसके पहले उन्होंने मेहसाणा गुजरात में एक मन्दिर का उद्घाटन किया। करीब चैदह सौ करोड़ रुपए की विकास योजनाओं का शुभारंभ किया। इसी प्रकार काशी […]

Read More
Delhi

सुप्रीम कोर्ट ने ‘वीडियो रीट्वीट-मानहानि’ मामले में केजरीवाल को दी अंतरिम राहत

नई दिल्ली । उच्चतम न्यायालय ने सोमवार को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को यूट्यूबर ध्रुव राठी की भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) आईटी सेल से संबंधित कथित अपमानजनक वीडियो को ‘रीट्वीट’ करने के आरोप में निचली अदालत में चल रही मानहानि मामले में राहत देते हुए संबंधित कानूनी कार्यवाही पर 18 मार्च तक रोक लगा दी। न्यायमूर्ति […]

Read More
Delhi

कानून के समक्ष समानता के बिना लोकतंत्र नहीं : धनखड़

नई दिल्ली। उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने सोमवार को कहा कि कानून के समक्ष समानता के बिना कोई भी लोकतंत्र जीवित और विकसित नहीं हो सकता। धनखड़ ने मिजोरम विश्वविद्यालय के 18वें दीक्षांत समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि अब कानून के समक्ष समानता जमीनी हकीकत है और जो लोग खुद को कानून से ऊपर […]

Read More