अभिजित मुहूर्त 11.45 से 12.45 राहुकाल 02:13 से 03:49 जानें आज का हिन्दू पंचांग

डॉ उमाशंकर मिश्रा


हर दिन कुछ खास लेकर आता है। इस दिन क्या पर्व है और क्या तिथि है, इस बारे में जान लेने से हमें कई फायदे होते हैं। एक दिन के अंदर एक बार राहुकाल आता है, जो हमें कहता है कि इस समय आपको थोड़ी सावधानी बरतनी है। साथ ही पंचाग हमें ये भी बताता है कि आज किस दिशा की ओर दिशाशूल है। यदि हमें मजबूरन यात्रा भी करनी है, तो वह उसका निदान भी बताता है। इसलिए नया लुक आपको नित्य पंचाग देता है, देखिए और लाभ लीजिए।


दिन –                                                      गुरूवार

विक्रम संवत –                                          2080 (गुजरात – 2079)

शक संवत –                                               1945

अयन –                                                   उत्तरायण

ऋतु –                                                  ग्रीष्म ॠतु

मास –                                                  वैशाख (गुजरात एवं महाराष्ट्र के अनुसार चैत्र मास)

पक्ष –                                                   कृष्ण

तिथि –                                                  अमावस्या सुबह 09:41 तक तत्पश्चात प्रतिपदा

नक्षत्र –                                                अश्विनी रात्रि 23:12 तक तत्पश्चात भरणी

योग –                                                  विष्कुंभ दोपहर 13:01 तक तत्पश्चात प्रीति

राहुकाल-                                              दोपहर 14:13 से शाम 15:49 तक

सूर्योदय-                                             06:17

सूर्यास्त-                                              18:58

दिशाशूल-                                            दक्षिण दिशा में,

व्रत पर्व विवरण –                           वैशाख अमावस्या, ग्रीष्म ऋतु प्रारंभ ।

विशेष – अमावस्या और व्रत के दिन स्त्री-सहवास तथा तिल का तेल खाना और लगाना निषिद्ध है। (ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-38)

Religion

जीवन के अनेक रहस्य समेटे होता है शनि पर्वत

जयपुर से राजेंद्र गुप्ता हथेली में स्थित शनि पर्वत आपकी आर्थिक लाइफ से लेकर लव लाइफ तक के खोलता है राज शनि पर्वत पर नक्षत्र का चिन्ह शुभ संकेत नहीं माना जाता है। यदि हथेली के शनि पर्वत पर ये चिन्ह बना हो तो नियमित रूप से शनि देव की अराधना करनी चाहिए। हाथ की […]

Read More
Religion

निर्जला एकादशी ज्‍येष्‍ठ मास के शुक्‍ल पक्ष की एकादशी को कहते हैं, इस साल यह एकादशी 31 मई को है,

लखनऊ। साल की सभी 24 एकादशियों में से इस एकादशी का महत्‍व सबसे ज्‍यादा है। यह व्रत बिना अन्‍न जल ग्रहण किए रखा जाता है, इसलिए इस व्रत को निर्जला एकादशी कहा जाता है। पौराणिक मान्‍यताओं के अनुसार 5 पांडवों में से एक भीम यानी कि भीमसेन ने भी अपने जीवनकाल में एक मात्र निर्जला […]

Read More
Religion

गंगा दशहरा इस वर्ष 30 मई के दिन मनाया जायेगा

लखनऊ। हर साल ज्येष्ठ माह के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को गंगा दशहरा मनाया जाता है। वहीं इस बार गंगा दशहरा दिनांक 30 मई दिन मंगलवार को है। इस दिन मां दुर्गा की विधि-विधान के साथ पूजा-अर्चना करने से व्यक्ति को सभी पापों से मुक्ति मिल जाती है और जीवन में सुख-समृद्धि का वास […]

Read More