भाजपा का मजबूत विकल्प बनने का मुहूर्त अभी नहीं!

के. विक्रम राव
             के. विक्रम राव

कांग्रेस का पुराना नारा कि “सेक्युलरवाद बचाओ” अब बेसुरा हो गया है। सभी दल कभी न कभी भाजपा से मेलजोल कर चुके हैं। हमाम में सभी डुबकी लगा चुके हैं। परिणामत : समाजवादी पार्टी तथा तृणमूल कांग्रेस भी अब गंगाजमुनी नारे से सत्ता की डगर नहीं पकड़ पाएंगी। फिर नरेंद्र मोदी कोई पितामह भीष्म तो हैं नहीं (दाढ़ी के सिवाय) जो खुद को मारने का उपाय विरोधियों को बता दें ताकि वे लोग शिखंडी खोज लें।

भाजपा का मजबूत विकल्प बनने का मुहूर्त अभी नहीं!

मान भी ले यदि सभी राजनीतिक पार्टियां एकजुट होकर 1977-वाली कांग्रेस- विरोधी जनता पार्टी टाइप मोर्चा गठित कर लें तो सवाल वही होगा की मूलभूत आंतरिक विसंगतियों तथा विरोधाभास के फलस्वरुप एकता में दरार पड़ने में देर नहीं होगी। घृणा का फेवीकोल फिर फीका पड़ जाएगा। मोरारजी देसाई वाली सरकार का नमूना अधिक पुराना नहीं है। इन सारे तर्कों, तथ्यों, परिस्थितियों जोड़-घटाने का सारांश यही है कि भाजपा का मजबूत विकल्प बनने का मुहूर्त अभी सर्जा नहीं है। हो सकता है उन्नीसवीं लोकसभा के चुनाव तक कोई सामंजस्य उपजे।

इसी बीच एक आशंका और है कि चीन और पाकिस्तान सीमा पर ऐसी दुरूह हालत पैदा कर रहें हैं जिनका गहरा प्रभाव लोकसभा चुनाव पर पड़े। जैसे पुलवामा में पाकिस्तानी आतंकियों ने कर दिखाया था। मोदी को अपार लाभ हुआ। इस बार भी कहीं ऐसी ही दोबारा ना हो जाए। तब चुनाव का अंकगणित ही पलट जाए।

K Vikram Rao
Mobile : 9415000909
E-mail: [email protected]
Twitter ID: Kvikram Rao

Analysis

आस्था से खिल्ली न करें ! संवेदना से फूहड़पन होगा!!

के. विक्रम राव  मान्य अवधारणा है की दैवी नाम केवल मनुष्यों को ही दिए जाते हैं। मगर सिलिगुड़ी वन्यप्राणी उद्यान में शेर और शेरनी का नाम अकबर और मां सीता पर रख दिया गया। भला ऐसी बेजा हरकत किस इशोपासक को गवारा होगी ? अतः स्वाभाविक है कि सनातन के रक्षक विश्व हिंदू परिषद ने […]

Read More
Analysis

स्मृति शेष : हिंदी के वैश्विक उद्घोषक, बहुत याद आयेंगे अमीन सयानी

संजय तिवारी (21 दिसंबर 1932 – 20 फरवरी 2024) विश्व में हिंदी के लोकप्रिय रेडियो उद्घोषक अमीन सयानी अब नहीं रहे। अपनी आवाज में यादों का सागर छोड़ कर उन्होंने विदा ले ली है। उन्होंने पूरे भारतीय उपमहाद्वीप में प्रसिद्धि और लोकप्रियता हासिल की जब उन्होंने रेडियो सीलोन के प्रसारण पर अपने बिनाका गीतमाला कार्यक्रम […]

Read More
Analysis

गुलजार को मंडित करके विद्यापीठ ऊंचा हो गया!

के. विक्रम राव मुकफ्फा (अनुप्रास) विधा के लिए मशहूर सिख शायर, पाकिस्तान से भारत आए, एक बंगभाषिनी अदाकारा राखी के पति सरदार संपूरण सिंह कालरा उर्फ गुलजार को प्रतिष्ठित पुरस्कार देकर श्रेष्ठ संस्था भारतीय ज्ञानपीठ ने हर कलाप्रेमी को गौरवान्वित किया है। भारतीयों को इस पर नाज है। वस्तुतः हर पुरस्कार गुलजार के पास आते […]

Read More