पंचक क्यों लगता है, क्या होता है असर

जयपुर से राजेंद्र गुप्ता


हिन्दू पंचांग अनुसार प्रत्येक माह में पांच ऐसे दिन आते हैं जिनका अलग ही महत्व होता है। जिन्हें पंचक कहा जाता है। प्रत्येक माह का पंचक अलग अलग होता है तो किसी माह में शुभ कार्य नहीं किया जाता है। तो किसी माह में किया जाता है।

पंचक क्यों लगता है?

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार चन्द्र ग्रह का धनिष्ठा नक्षत्र के तृतीय चरण और शतभिषा, पूर्वाभाद्रपद, उत्तराभाद्रपद तथा रेवती नक्षत्र के चारों चरणों में भ्रमण काल पंचक काल कहलाता है। इस तरह चन्द्र ग्रह का कुम्भ और मीन राशी में भ्रमण पंचकों को जन्म देता है। अर्थात पंचक के अंतर्गत धनिष्ठा, शतभिषा, उत्तरा भाद्रपद, पूर्वा भाद्रपद व रेवती नक्षत्र आते हैं। इन्हीं नक्षत्रों के मेल से बनने वाले विशेष योग को ‘पंचक’ कहा जाता है।

पंचक के नक्षत्रों का प्रभाव:-

‘अग्नि-चौरभयं रोगो राजपीडा धनक्षतिः।

संग्रहे तृण-काष्ठानां कृते वस्वादि-पंचके।।’-मुहूर्त-चिंतामणि

अर्थात:- पंचक में तिनकों और काष्ठों के संग्रह से अग्निभय, चोरभय, रोगभय, राजभय एवं धनहानि संभव है।

  1. धनिष्ठा नक्षत्र में अग्नि का भय रहता है।
  2. शतभिषा नक्षत्र में कलह होने की संभावना रहती है।
  3. पूर्वाभाद्रपद नक्षत्र में रोग बढ़ने की संभावना रहती है।
  4. उतरा भाद्रपद में धन के रूप में दंड होता है।
  5. रेवती नक्षत्र में धन हानि की संभावना रहती है।

नहीं करते हैं ये कार्य…

  1. 1.लकड़ी एकत्र करना या खरीदना
  2. मकान पर छत डलवाना
  3. शव जलाना
  4. पलंग या चारपाई बनवाना
  5. दक्षिण दिशा की ओर यात्रा करना।
  6. अन्य कोई भी शुभ और मांगलिक कार्य।
  7. मान्यतानुसार किसी नक्षत्र में किसी एक के जन्म से घर आदि में पांच बच्चों का जन्म तथा किसी एक व्यक्ति की मृत्यु होने पर पांच लोगों की मृत्यु होती है। पंचक में मरने वाले व्यक्ति की शांति के लिए गरुड़ पुराण में उपाय भी सुझाए गए हैं।

ज्योतिषी और हस्तरेखाविद/ सम्पर्क करने के लिए मो. 9611312076 पर कॉल करें,


 

Religion

शादी में क्यों लिए जाते हैं सात फेरे? क्या है विवाह का अर्थ

जयपुर से राजेंद्र गुप्ता सनातन धर्म में शादी को सात जन्मों का बंधन माना जाता है। शादी सिर्फ दो लोगों का ही नहीं बल्कि सात जन्मों का बंधन भी है। शादी से इंसान को उसकी जिम्मेदारियों का अहसास होता है।  हिंदू धर्म में 16 संस्कारों का विशेष महत्व माना जाता है। इन 16 संस्कारों में […]

Read More
Religion

यदि विवाह में आ रही है बाधा तो करें ये आसान सा उपाय, इन ग्रहों के कारण नहीं हो पाती है शादी

कुछ ग्रहों का यह प्रभाव नहीं होने देता है विवाह, अगर हो भी जाए तो कर देता है तहस-नहस लखनऊ। विवाह बाधा योग लड़के, लड़कियों की कुंडलियों में समान रूप से लागू होते हैं, अंतर केवल इतना है कि लड़कियों की कुंडली में गुरू की स्थिति पर विचार तथा लड़कों की कुंडलियों में शुक्र की […]

Read More
Religion

माघ पूर्णिमा व्रत के दिन शोभन और रवि योग बन रहे हैं,

जयपुर से राजेंद्र गुप्ता इस साल माघ पूर्णिमा का व्रत और स्नान-दान अलग-अलग दिन है। माघ पूर्णिमा का व्रत पहले होगा और माघ पूर्णिमा का स्नान-दान उसके बाद के दिन होगा। दरअसल, पूर्णिमा के व्रत में चंद्रमा की पूजा और अर्घ्य देने की मान्यता है, उसके बिना व्रत पूर्ण नहीं होता है। वहीं पूर्णिमा का […]

Read More