बढ़ रहे दूध के दाम, पौष्टिक आहार के लिए चुन सकते हैं दूसरे विकल्प? जानिए विशेषज्ञों की राय

लखनऊ। अधिकांश शाकाहारी परिवारों में प्रोटीन के लिए दूध और दुग्ध उत्पादों पर निर्भरता बहुत अधिक है। साथ ही दूध की मात्रा में कमी चिंता का एक प्रमुख कारण है क्योंकि बच्चे भी इससे वंचित हो रहे हैं। ऐसे में शरीर की पोषण संबंधी जरूरतों को पूरा करने के बारे में विशेषज्ञ की राय जानना भी जरूरी है। रोजाना दूध पीना जरूरी नहीं है मंजरी चंद्रा, क्लिनिकल न्यूट्रिशनिस्ट, मैक्स हेल्थकेयर और मंजरी वेलनेस की संस्थापक, ने कहा, कि मेरी राय में, डेयरी उत्पादों का हमारे शरीर पर कम प्रभाव पड़ता है। विदेशों में बहुत से लोग शाकाहारी भोजन भी चुनते हैं। जो अब भारतीय संस्कृति का हिस्सा बनता जा रहा है।

शाकाहारी होने का मतलब डेयरी सहित पशु उत्पादों का सेवन नहीं करना है। शरीर को आवश्यक सभी पोषक तत्व प्राप्त करने के लिए डेयरी उत्पादों का सेवन करना आवश्यक नहीं है। उन्होंने आगे कहा, “डेयरी उत्पादों को बढ़ावा दिया जाता है। क्योंकि कहा जाता है, कि शरीर को कैल्शियम और प्रोटीन सप्लीमेंट की जरूरत होती है और दूध को संपूर्ण भोजन माना जाता है। शरीर के लिए जरूरी पोषक तत्वों की पूर्ति के लिए दूध को रोजाना जरूरी नहीं माना जाता है।

एक बच्चे को कैल्शियम या शरीर के अन्य पोषक तत्वों की जरूरतों को पूरा करने के लिए रोजाना दूध पीने की जरूरत नहीं होती है। चंद्रा ने कहा, ‘खाद्य पदार्थ जैसे सब्जियां, जौ, बाजरा और दालें भी पौष्टिक होती हैं।’ डेयरी का पोषण मूल्य पहले की तुलना में बहुत अलग है उन्होंने कहा कि दूध में ज्वलनशील प्रभाव होता है। इन दिनों बाजार में उपलब्ध डेयरी का पोषण मूल्य पहले की तुलना में बहुत अलग है। दूध का दूषित होना अब एक आम बात हो गई है। गाय-भैंसों से गाढ़ा दूध निकालने और उन्हें बीमारी से दूर रखने के लिए एंटीबायोटिक्स दिए जा रहे हैं, जिससे डेयरी उत्पाद बहुत ज्वलनशील हो जाते हैं।

ऑटोइम्यून बीमारियों वाले मरीजों को आहार से दूध और दूध से बने उत्पादों को दूर करने की सलाह दी जाती है। चंद्रा ने कहा, कि डेयरी उत्पादों का सेवन करना जरूरी नहीं है। डेयरी उत्पादों का सेवन बंद करने वाले वयस्क लंबे समय तक जीवित रहते हैं। स्वस्थ आहार लेने की सलाह दी जाती है। दूध को पूर्ण आहार नहीं माना जा सकता। जो लोग दूध नहीं पीते हैं या इसे खरीदने में सक्षम नहीं हैं, उन्हें सलाह दी जाती है। कि वे अन्य विकल्पों का सेवन करें, जिनमें दूध के समान या उच्च पोषण मूल्य सस्ते दामों पर हों। (BNE)

Biz News

विद्यांत हिंदू कॉलेज में केंद्रीय बजट 2023_24 पर परिचर्चा का हुआ आयोजन

लखनऊ। 10 लाख करोड़ के भारी भरकम पूंजीगत व्यय से दौड़ेगी भारतीय अर्थव्यस्था, ये बातें आज विद्यांत पी जी कॉलेज में वाणिज्य एवं अर्थशास्त्र विभाग के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित केंद्रीय बजट 2023-24; परिचर्चा में मुख्य वक्ता सिद्धार्थ कलहंस, ब्यूरो चीफ, बिजनेस स्टैंडर्ड ने कही। कलहंस ने बजट पर चर्चा करते हुए, बहुत ही स्पष्ट […]

Read More
Biz News Business Uttarakhand

एयरटेल पेमेंट्स बैंक ने छोटे व्यवसायों और व्यापारी सहयोगीयों के लिए बिज़खाता लॉन्च किया

देहरादून। एयरटेल पेमेंट्स बैंक ने सोमवार को अपने करंट एकाउंट बिज़खाता के लॉन्च की घोषणा की, जो उत्तराखण्ड सहित देश भर के छोटे व्यवसायियों और व्यापार करने वालों के लिए असीमित लेनदेन’ और तत्काल एक्टिवेशन के साथ आता है। बड़ी संख्या में छोटे व्यवसाय के मालिक व्यावसायिक उद्देश्यों के लिए बचत खातों का उपयोग करना […]

Read More
Biz News Business Health

तंबाकू उत्पादों पर NCCD लगाने का स्वागत

लखनऊ/ देश भर के चिकित्सकों, अर्थशास्त्रियों और सार्वजनिक स्वास्थ्य की चिन्ता करने वालों ने 2023-24 के वार्षिक बजट में सिगरेट पर राष्ट्रीय आपदा आकस्मिक शुल्क (एनसीसीडी) को बढ़ाकर 16 प्रतिशत करने की केंद्रीय वित्त मंत्री की घोषणा का स्वागत किया है। वे भारत में तंबाकू के उपयोग को कम आसान बनाने की अपनी पहल को […]

Read More