बढ़ रहे दूध के दाम, पौष्टिक आहार के लिए चुन सकते हैं दूसरे विकल्प? जानिए विशेषज्ञों की राय

लखनऊ। अधिकांश शाकाहारी परिवारों में प्रोटीन के लिए दूध और दुग्ध उत्पादों पर निर्भरता बहुत अधिक है। साथ ही दूध की मात्रा में कमी चिंता का एक प्रमुख कारण है क्योंकि बच्चे भी इससे वंचित हो रहे हैं। ऐसे में शरीर की पोषण संबंधी जरूरतों को पूरा करने के बारे में विशेषज्ञ की राय जानना भी जरूरी है। रोजाना दूध पीना जरूरी नहीं है मंजरी चंद्रा, क्लिनिकल न्यूट्रिशनिस्ट, मैक्स हेल्थकेयर और मंजरी वेलनेस की संस्थापक, ने कहा, कि मेरी राय में, डेयरी उत्पादों का हमारे शरीर पर कम प्रभाव पड़ता है। विदेशों में बहुत से लोग शाकाहारी भोजन भी चुनते हैं। जो अब भारतीय संस्कृति का हिस्सा बनता जा रहा है।

शाकाहारी होने का मतलब डेयरी सहित पशु उत्पादों का सेवन नहीं करना है। शरीर को आवश्यक सभी पोषक तत्व प्राप्त करने के लिए डेयरी उत्पादों का सेवन करना आवश्यक नहीं है। उन्होंने आगे कहा, “डेयरी उत्पादों को बढ़ावा दिया जाता है। क्योंकि कहा जाता है, कि शरीर को कैल्शियम और प्रोटीन सप्लीमेंट की जरूरत होती है और दूध को संपूर्ण भोजन माना जाता है। शरीर के लिए जरूरी पोषक तत्वों की पूर्ति के लिए दूध को रोजाना जरूरी नहीं माना जाता है।

एक बच्चे को कैल्शियम या शरीर के अन्य पोषक तत्वों की जरूरतों को पूरा करने के लिए रोजाना दूध पीने की जरूरत नहीं होती है। चंद्रा ने कहा, ‘खाद्य पदार्थ जैसे सब्जियां, जौ, बाजरा और दालें भी पौष्टिक होती हैं।’ डेयरी का पोषण मूल्य पहले की तुलना में बहुत अलग है उन्होंने कहा कि दूध में ज्वलनशील प्रभाव होता है। इन दिनों बाजार में उपलब्ध डेयरी का पोषण मूल्य पहले की तुलना में बहुत अलग है। दूध का दूषित होना अब एक आम बात हो गई है। गाय-भैंसों से गाढ़ा दूध निकालने और उन्हें बीमारी से दूर रखने के लिए एंटीबायोटिक्स दिए जा रहे हैं, जिससे डेयरी उत्पाद बहुत ज्वलनशील हो जाते हैं।

ऑटोइम्यून बीमारियों वाले मरीजों को आहार से दूध और दूध से बने उत्पादों को दूर करने की सलाह दी जाती है। चंद्रा ने कहा, कि डेयरी उत्पादों का सेवन करना जरूरी नहीं है। डेयरी उत्पादों का सेवन बंद करने वाले वयस्क लंबे समय तक जीवित रहते हैं। स्वस्थ आहार लेने की सलाह दी जाती है। दूध को पूर्ण आहार नहीं माना जा सकता। जो लोग दूध नहीं पीते हैं या इसे खरीदने में सक्षम नहीं हैं, उन्हें सलाह दी जाती है। कि वे अन्य विकल्पों का सेवन करें, जिनमें दूध के समान या उच्च पोषण मूल्य सस्ते दामों पर हों। (BNE)

Biz News Business

फरवरी में GST राजस्व 1.68 लाख करोड़ के पार

नई दिल्ली। माल एवं सेवा कर (GST) राजस्व संग्रह फरवरी 2024 में 168337 करोड़ रुपये रहा है जो फरवरी 2023 में संग्रहित 149577 करोड़ रुपये की तुलना में 12.50 प्रतिशत अधिक है। इस वर्ष जनवरी में GST संग्रह 172129 करोड़ रुपये रहा था। फरवरी 2024 में संग्रहित GST चालू वित्त वर्ष में 11 महीने में […]

Read More
Biz News Business

महंगाई का झटका : कमर्शियल LPG सिलेंडर की कीमतों में 25.50 रुपये की हुई बढ़ोतरी

नई दिल्ली। हर महीने की पहली तारीख को तेल कंपनियां LPG सिलेंडर की कीमतों को रिवाइज करती है। आज भी सभी शहरों में इनकी कीमतों को अपडेट किया गया है। एक बार फिर से तेल कंपनियों ने कमर्शियल LPG सिलेंडर की कीमतों में बढ़ोतरी की है। इस बार कमर्शियल सिलेंडर में 25.50 रुपये की वृद्धि […]

Read More
Biz News Business

शेयर बाजार में भूचाल, सेंसेक्स और निफ्टी में एक फीसदी से अधिक की गिरावट

मुंबई। वैश्विक स्तर के कमजोर संकेतों के साथ ही घरेलू स्तर पर बाजार नियामक द्वारा संपदा प्रबंधन कंपनियों को निवेशकों को स्मॉलकैप और मिडकैप फंडों से जुड़े जोखिमों के बारे में अधिक और विस्तृत जानकारी देने की अपील करने से बने दबाव के कारण आज शेयर बाजार में भूचाल आ गया और चौतरफा बिकवाली से […]

Read More