निसान मोटर इंडिया ने स्माइल ट्रेन के साथ बदला 290 बच्चों का जीवन

कारपोरेट सामाजिक जिम्मेदारी के तहत निसान ने बढ़ाया बड़ा कदम

बिजनेस संवाददाता

नई दिल्ली। निसान मोटर इंडिया ने स्माइल ट्रेन इंडिया के साथ अपनी सफल कारपोरेट सामाजिक जिम्मेदारी (CSR) के लिए साझेदारी की है। इसके तहत बच्चों और उनके परिवारों के साथ नई दिल्ली के संत परमानंद अस्पताल में एक कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस कार्यक्रम में वंचित समुदाय के बच्चों की क्लेफ्ट सर्जरी की दिशा में साझा प्रयासों के प्रभाव पर बाच की गई। कार्यक्रम में निसान मोटर इंडिया के प्रबंध निदेशक सौरभ वत्स, स्माइल ट्रेन इंडिया के प्रतिनिधियों और प्रसिद्ध प्लास्टिक सर्जन डॉ. एससी सूद ने भाग लिया।

इस साझेदारी के तहत निसान के समर्थन से वित्त वर्ष 2023 की चौथी तिमाही में 290 क्लेफ्ट सर्जरी को अंजाम दिया गया। इससे समाज के आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के बच्चों के लिए उनका जीवन बदलने वाला उपचार प्राप्त करना संभव हुआ। बच्चों की सर्जरी स्माइल ट्रेन इंडिया के सहयोगी अस्पतालों में की गईं, जिससे जरूरतमंद लोगों के लिए गुणवत्तापूर्ण इलाज तक पहुंच सुनिश्चित हुई।

कार्यक्रम में सौरभ वत्स ने कहा कि स्माइल ट्रेन इंडिया के साथ हमारा जुड़ाव कॉर्पोरेट नागरिकता, सामाजिक जिम्मेदारी और समावेशन के प्रति निसान की प्रतिबद्धता का एक उदाहरण है। इस साझेदारी के माध्यम से हमने इस महत्वपूर्ण स्वास्थ्य समस्या का समाधान करने और इससे प्रभावित लोगों के जीवन में सार्थक बदलाव लाने का लक्ष्य रखा है। हमने गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवा का प्रभाव प्रत्यक्ष रूप से देखा है और हमने सामूहिक रूप से जो सकारात्मक बदलाव हासिल किया है, उस पर हमें बेहद गर्व है।

बच्चों की सर्जरी स्माइल ट्रेन इंडिया के सहयोगी अस्पतालों में की गईं, जिससे जरूरतमंद लोगों को मिला गुणवत्तापूर्ण इलाज।

स्माइल ट्रेन की सीनियर वाइस प्रेसिडेंट और एशिया की रीजनल डायरेक्टर ममता कैरोल ने इस समस्या के समाधान की दिशा में समर्थन के लिए निसान मोटर इंडिया का आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा, “निशुल्क, सुरक्षित और गुणवत्तापूर्ण क्लेफ्ट ट्रीटमेंट का समर्थन करना स्माइल ट्रेन इंडिया की पहली प्राथमिकता है। हमारे सीएसआर साझेदार इस दिशा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। निसान मोटर इंडिया के साथ सहयोग ने न केवल प्रभावित बच्चों को स्वस्थ एवं पूर्ण जीवन जीने में सक्षम बनाया है, बल्कि उनके माता-पिता एवं परिवार के सदस्यों के जीवन की गुणवत्ता में भी उल्लेखनीय वृद्धि की है।

जन्म के समय से ही ऊपरी होंठ और/या तालू के बीच अंतर को क्लेफ्ट या कटे हुए होंठ की समस्या कहा जाता है। 700 शिशुओं में से एक इससे पीड़ित होता है। भारत में हर साल 35,000 से अधिक बच्चे क्लेफ्ट के साथ पैदा होते हैं। उपचार न किया जाए तो बच्चों को खाने, सांस लेने, सुनने, बोलने में कठिनाई होती है और उन्हें सामाजिक स्तर पर भेदभाव का सामना करना पड़ सकता है।

Biz News Business

डिजिटल पेमेंट सर्विस को बेहतर बनाने के लिए विदेश मंत्रालय _एसबीआई के बीच करार

  (रिपोर्ट. शाश्वत तिवारी) नई दिल्ली। विदेश मंत्रालय और भारतीय स्टेट बैंक (NSVACBAI) के बीच भारतीय प्रवासी श्रमिकों, भर्ती एजेंटों (RA) और ई-माइग्रेट पोर्टल के अन्य यूजर्स को एसबीआईई-पे नामक भुगतान गेटवे के माध्यम से एसबीआई की अतिरिक्त डिजिटल भुगतान सेवाएं प्रदान करने के लिए एक समझौता ज्ञापन (MOU) पर हस्ताक्षर किए गए हैं। विदेश […]

Read More
Biz News Business

उत्तर प्रदेश में एक दिन में सर्वाधिक दुर्घटना बीमा कर वाराणसी डाक परिक्षेत्र ने बनाया नया कीर्तिमान

नया लुक संवाददाता मात्र एक दिन में 2679 लोगों का दुर्घटना बीमा करके वाराणसी परिक्षेत्र ने उत्तर प्रदेश में बनाया रिकॉर्ड  उत्तर प्रदेश;  डाक विभाग के उपक्रम रूप में स्थापित इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक ने पाँच वर्षों के अपने सफर में ‘आपका बैंक, आपके द्वार’ को प्रोत्साहित करते हुए तमाम नए आयाम स्थापित किये हैं। […]

Read More
Biz News Business

कियारा आडवाणी पॉन्ड्स स्किन इंस्टीट्यूट की ब्रांड एंबेसेडर बनी

नई दिल्ली : 177 वर्षों से अधिक के इतिहास वाले सौंदर्य ब्रांड, पॉन्ड्स स्किन इंस्टीट्यूट ने आज एक प्रतिष्ठित सेलिब्रिटी चेहरे, कियारा आडवाणी को अपने ब्रांड एंबेसडर बनाने घोषणा की। कियारा आडवाणी की ब्रांड में वापसी के साथ, पॉन्ड्स स्किन इंस्टीट्यूट का लक्ष्य देश भर के प्रमुख उत्तरी बाजारों में पॉन्ड्स स्किन इंस्टीट्यूट के दर्शकों […]

Read More