देश के सभी टोल प्लाजा पर टोल कलेक्शन निलंबित

इमरजेंसी सेवाओ में आ रही बाधा और घटते राजस्व व बढ़ते खर्चे के चलते लिया निर्णय

नई दिल्‍ली। देश भर में सभी टोल प्लाजा पर टोल कलेक्‍शन आगामी आदेश तक निलंबित रहेगा।  केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने बुधवार को ट्वीट करके यह जानकारी दी। ट्वीट में बताया गया है कि कोरोना वायरस के प्रकोप को देखते हुए देश के सभी टोल प्लाजा पर टोल कलेक्‍शन को अस्थायी रूप से निलंबित कर दिया गया है। यह निर्णय आपातकालीन सेवाओं की आपूर्ति में आ रही दिक्‍कतों को देखते हुए लिया गया है।

केंद्र सरकार ने कोरोना लॉक डाउन के कारण राजमार्गों पर सीमित यातायात,  टोल कर्मियों के लिए जोखिम और आपातकालीन सेवाओं की आपूर्ति में आ रही दिक्‍कतों को देखते हुए यह फैसला लिया है। कोरोना लॉक डाउन के कारण पिछले तीन दिनों में राष्ट्रीय राजमार्गों पर वाहनों का यातायात लगभग ठप पड़ गया है और केवल जरूरी वस्तुओं की सप्लाई करने वाले ट्रक, अनिवार्य सेवाओं से संबंधित सरकारी वाहन तथा एंबुलेंस ही आती-जाती दिखाई पड़ती हैं। यही नहीं पुलिस इक्का-दुक्का प्राइवेट कारों को ही वाजिब कारण बताने पर हाईवे पर जाने की अनुमति दे रही है। ऐसे में बमुश्किल 20 फीसद ट्रैफिक रह गया है तथा दिन ब दिन और घट रहा है।

NHAI के टोल संग्रह में 75 फीसद की गिरावट

लॉकडाउन से पहले NHAI के टोल जंक्शन पर रोजाना का टोल टैक्स 85 करोड़ था। जो अब घटकर 30 करोड़ पर आ गया है। सख्ती के चलते इक्का दुक्का निजी वाहनों के अलावा आवश्यक आपूर्ति वाले व्यावसायिक वाहनों की ही आवाजाही हो रही है। ज्यादातर लेनें बंद हैं और दोनों ओर एक या दो लेन से काम चलाया जा रहा है।

ऐसे में टोल कर्मचारियों की जरूरत सीमित रह गई है जो कर्मी ड्यूटी कर रहे हैं उनमें, खासकर हाइब्रिड लेन में लगे कर्मियों के संक्रमण का भी खतरा है। टोलकर्मियों के आने-जाने की भी दिक्‍कतें हैं। साथ ही आपातकालीन सेवाओं की आपूर्ति में बाधाएं आ रही हैं। ऐसे में एनएचएआई प्रशासन ने सरकार को सलाह दी थी कि टोल प्लाज़ाओं पर कमाई कम और खर्च ज्यादा की स्थिति पैदा हो उससे पहले ही टोल संग्रह स्थगित कर वाहनों को टोल मुक्त कर देना चाहिए।