चीन से तनाव के बाद घाटी में LPG का स्टॉक रखने के आदेश पर अटकले, Umar Abdullah ने कहा अटकलों से दहशत

  • सरकार ने दी सफाई, कहा बरसात के कारण दिया ये आदेश

श्रीनगर। चीन से विवाद के बाद घाटी में एलपीजी गैस सिलेन्डरों का स्टॉक रखने के सरकारी आदेश ने तमाम तरह की अटकलों को जन्म दे दिया है। हालांकि सरकार ने इस आदेश के बाद सफाई देते हुए कहा कि ये आदेश बरसात के मौसम के कारण दिया गया था वहीं नेशनल कांफ्रेंस के नेता उमर अबदुल्ला ने इस तरह के कदम की आवश्यकता पर सवाल उठाया है और कहा कि इस तरह के आदेश दहशत का माहौल पैदा करते हैं।

दरअसल पिछले दिनों तेल विपणन कंपनियों को कश्मीर घाटी में एलपीजी (LPG) सिलेंडरों की दो महीने की आपूर्ति का स्टॉक रखने का निर्देश देने संबंधी एक सरकारी आदेश को लेकर अटकलें लगाई जा रही हैं। वहीं, एलपीजी सिलेंडरों की करीब दो महीने की आपूर्ति का स्टॉक रखने का निर्देश देने संबंधी एक सरकारी आदेश को लेकर जताई जा रही अटकलों पर रविवार को जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने विराम लगाया दिया। उन्होंने स्पष्ट किया है कि मानसून के दौरान भारी बारिश के चलते बार-बार राजमार्गों के अवरुद्ध होने के कारण सिलेंडरों के भंडारण का यह आदेश दिया गया है।

एक आधिकारिक प्रवक्ता ने कहा, “हम सभी जानते हैं कि बारिश के दिनों में राष्ट्रीय राजमार्ग-44 रामबन-जवाहर टनल के बीच प्रभावित रहता है। वर्तमान में हम कश्मीर में करीब एक महीने का भंडार रखकर चलते हैं। उन्होंने कहा, ”हमने एलपीजी कंपनियों को करीब दो महीने का स्टॉक रखने की संभावनाओं पर विचार करने का अनुरोध किया है ताकि अगले तीन महीने तक बारिश अथवा अन्य कारणों के चलते राजमार्ग बंद होने की सूरत में लोगों के बीच अफरा-तफरी का माहौल नहीं बने। उन्होंने कहा कि इस आदेश को लेकर कई लोग अफवाह फैला रहे हैं।