विभागीय अधिकारियों की भ्रष्ट कार्यप्रणाली पर राहगीरों को चलना दुर्लभ

राजेश कुमार

त्रिवेदीगंज। बाराबंकी एक तरफ जहां राज्य व केंद्र सरकार गड्ढा मुक्त करने का दावा करती है वहीं पर विभागीय कर्मचारियों व अधिकारियों सरकार के बनाए हुए सर्कुलर को पानी फेर कर आदेशों को नजर अंदाज करते हुए नजर आ रहे हैं जिसका जीता जागता उदाहरण आपको आपके सामने दिखाई पड़ रहा है विभागीय अधिकारियों की भ्रष्ट कार्यप्रणाली पर राहगीरों को चलना दुर्लभ ग्रामीणों में आक्रोश व्याप्त होता नजर आ रहा है। आपको बता दें कि नवोदय विद्यालय सम्पर्क मार्ग पर दर्जनों ग्राम पंचायतों व गाँवो से होकर पीडब्ल्यूडी द्वारा रोड बनाई गई थी।

पिछले वर्ष इसी मार्ग का निर्माण विभाग द्वारा करवाया गया था चंद महीना बीत जाने के बाद ही लाखों की लागत से कराई गई रिपेयरिंग नवोदय विद्यालय की खुलती नजर आ रही है नवोदय विद्यालय संपर्क मार्ग पर त्रिवेदीगंज कस्बा स्थिति के,के,शर्मा एडवोकेट के आवास समीप विभागीय अधिकारियों द्वारा हुए सड़क पर गड्ढों पर डामर व गिट्टी का लेप न लगवा कर सिर्फ और सिर्फ सड़क को गड्ढों में तब्दील करवाया जा रहा है जिससे आने जाने वाले राहगीरों को चलने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है वहीं पर क्षेत्रीय ग्रामीणों का कहना है कि सड़क विभाग सिर्फ पूरी तरह भ्रष्टाचार में लिप्त है इसी सड़क में बड़ी बड़ी समस्या उत्पन्न हो रही हैं

अगर इसमे बड़े-बड़े ईटें डाल दिए जाएं तो साइकिल मोटरसाइकिल तथा चार पहिया वाहनों को बड़ी दिक्कतें होती हैं गाड़ियों के टायर से टूट कर ईट के टुकड़ों से कई राहगीरों चोटिल हो जाते हैं लेकिन विभाग को क्या लेना देना उदाहरण के तौर पर बताया गया है की चाहे वर मरे चाहे कन्या उन्हें अपने दक्षिणा से जरूरत है पूरा वही हाल विभाग का फिर हाल इस कार्य से ग्रामीणों में आक्रोश व्याप्त है सड़कों पर गड्ढा मुक्त का दावा फेल होता नजर आ रहा है विभागीय अधिकारियों अपनी जेब भरने मैं लगे हुए हैं गड्ढा मुक्त के नाम सिर्फ खानापूर्ति की जा रही है अब देखना है कि इस कार्यों पर विभाग कोई कदम उठाता है या नहीं या केवल कागजों पर खानापूर्ति ही की जा रही है।