चकबन्दी प्रक्रिया का विरोध कर रहे लोगों पर पुलिस ने भांजी लाठियां , प्रधान सहित दर्जनों महिला, पुरुष घायल

अभिषेक उपाध्याय

जौनपुर। गौराबादशाहपुर थाना क्षेत्र के कुरेथू गांव में मंगलवार पहुंची चकबंदी टीम को एक बार फिर ग्रामीणों के विरोध का सामना करना पड़ा। अंततः पुलिस ने विरोध कर रहे ग्रामीणों पर बल प्रयोग कर मौके से खदेड़ दिया और चकबन्दी का सीमांकन कराया। पुलिस द्वारा किये गए लाठीचार्ज में ग्राम प्रधान सहित दर्जनों महिलाएं पुरुष घायल हो गए।
मंगलवार को पुलिस व पीएसी फोर्स के साथ चकबंदी विभाग की टीम कुरेथू गांव पहुंची।

साथ में एसडीएम मंगलेश दुबे, सीओ यातायात राजेन्द्र कुमार और चकबंदी अधिकारी प्रफुल्ल श्रीवास्तव के नेतृत्व में चकबंदी विभाग के कर्मचारियों ने जैसे ही नाप शुरू की वैसे ही कुछ ग्रामीणों का झुंड महिलाओं के साथ पहुंचकर चकबन्दी का विरोध करने लगी। अधिकारियों के समझाने के बाद भी ग्रामीण कुछ सुनने को तैयार नहीं थे। ग्रामीणों का आरोप है कि चकबंदी विभाग सीमांकन मे अपनी मनमाना कर रहा है।

किसानों की जमीन की कटौती जो की जा रही है, वह कहां जा रही है। यह विभाग अब नहीं बता पा रहा है। जबकि विभाग कटौती की गयी जमीन को पहले बता रहा था कि गांव में चकरोड व नाली के लिये कटौती की जा रही है। जब विरोध कर रहे लोग नहीं माने तो पुलिस ने बलपूर्वक वहां से लोगों को खदेड़ दिया। पुलिस द्वारा बल प्रयोग करने के पश्चात विरोध कर रहे लोग वहां से भाग खड़े हुए तत्पश्चात चकबंदी प्रक्रिया पुनः शुरू कर दी गई और देर शाम तक सीमांकन का कार्य चलता रहा।

इस मामले मे थानाध्यक्ष रामप्रवेश कुशवाहा ने बताया कि विरोध कर रहे लोग अचानक उग्र हो उठे और उन्होंने फोर्स पर पथराव कर दिया जिसके प्रतिउत्तर में लोगों को हल्का बल प्रयोग कर खदेड़ दिया गया घटना में कोई घायल नहीं हुआ है। विरोध करने वालों में ग्रामप्रधान राजदेव, रामचन्द्र कनौजिया, गामा यादव, बृजभूषण, मनोज सिंह, संतोष, लालबहादुर, ओमप्रकाश आदि सम्मलित थे।