पाकिस्तान द्वारा मास्को में भारत का गलत नक्शा पेश करने पर NSA अजित डोभाल ने बैठक का किया बहिष्कार

पाकिस्तान आतंकवाद के मुद्दे पर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बार बार मात खाने के बाद भी अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। भारत की पड़ोसियों के प्रति सामंजस्यपूर्ण नीति को वह कमजोरी मां रहा है। आतंकवाद के मुद्दे पर जोरदार शिकस्त पाने के बावजूद अब उसने नया पैंतरा बदला है।

अभी शंघाई कोऑपरेशन ऑर्गनाइजेशन (एससीओ) के सदस्य देशों के नेशनल सिक्योरिटी एडवाइजरों की बैठक में पाकिस्तान ने भारत विरोधी हरकत की। पाकिस्तान के एनएसए ने इस बैठक में वो नक्शा जानबूझकर प्रोजेक्ट किया, जिसे हाल ही में उनकी सरकार ने मंजूरी दी है।

भारत के एनएसए अजीत डोभाल ने इस हरकत का विरोध जताते हुए बैठक का बायकॉट कर दिया। विदेश मंत्रालय ने कहा कि मॉस्को में रूस की मेजबानी में हो रही इस बैठक में पाकिस्तान ने जो किया, वह साफतौर पर बैठक के नियमों का उल्लंघन है। भारत ने मेजबान के साथ इस पर विचार-विमर्श के बाद बैठक छोड़ दी। हालांकि, पाकिस्तान इसके बाद भी बैठक का गलत नजरिया पेश करता रहा।

5 अगस्त से पहले पाकिस्तान ने जारी किया था नक्शा

पाकिस्तान ने अगस्त में जम्मू-कश्मीर, लद्दाख को पाकिस्तान का हिस्सा बताते हुए एक नक्शा जारी किया था। इसमें गुजरात के जूनागढ़ और सर क्रीक को भी पाकिस्तान का हिस्सा बताया गया था। इस नक्शे का इस्तेमाल पूरे देश के पाठ्यक्रम में किया जाएगा। पाकिस्तान ने यह कदम 5 अगस्त से ठीक एक दिन पहले उठाया था। पिछले साल इसी दिन भारत सरकार ने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाया था।
इमरान कैबिनेट ने दी थी नक्शे को मंजूरी

प्रधानमंत्री इमरान खान ने कैबिनेट बैठक में पहली बार जम्मू-कश्मीर क्षेत्र को अपना हिस्सा बताते हुए पाकिस्तान के नए राजनीतिक नक्शे को मंजूरी दी थी।