डलमऊ (रायबरेली) पुलिस का कहर, दूध लेने गए युवक को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा

दुर्गेंद्र श्रीवास्तव ‘हेमू’

रायबरेली। कोरोना वायरस को लेकर चल रहे लॉकडाउन के दौरान दवा और दूध लेने गए युवक को डलमऊ पुलिस ने दौड़ा-दौड़ा कर पीटा। युवक को गंभीर चोटें आने से परिजनों ने आनन-फानन स्थानीय अस्पताल में उपचार के लिए भर्ती कराया है। पीड़ित का कहना है कि पीएम का भाषण सुनकर जरूरत की सामान लेने निकला था। पीएम और डीएम ने दवा, दूध की छूट दे रखी है लेकिन पुलिस ने मेरी बड़ी बेरहमी से पिटाई की है। युवक की पिटाई का वीडियो पूरे जिले में तेजी से वायरल भी हुआ है।

पीड़ित युवक के मुताबिक वह अपने बीमार पिता की दवा व दूध लेने के उद्देश्य घर से निकला था आरोप है कि मुराईबाग चौराहे पर मौजूद डलमऊ कोतवाल व उनकी टीम ने बाइक रोककर बगैर कुछ पूछताछ किए ही पिटाई शुरू कर दी। चोटहिल युवक को परिजनों ने CHC डलमऊ में उपचार के लिए भर्ती कराया। पीड़ित ने एसपी से फोन पर गुहार लगाई है, लेकिन अभी तक पुलिस अधीक्षक की ओर से कोई कार्रवाई की सूचना नहीं मिल पाई है।

लोगों का कहना है कि जब पुलिस को मारपीट ही करना है तो दुकान खुलवाने की क्या जरूरत है? अगर दुकान खुली है तो लोग सामान लेने तो जाएंगे ही। यह नहीं कोतवाल डलमऊ के लिए कोई नई बात नहीं इसके पहले भी इन्होंने एक युवक को जबरन पिटाई कर दी थी। पुलिस ने इतनी बेरहमी से पिटाई की है कि वह पैर से चलने में असमर्थ हो गया है। स्थानीय डॉक्टरों ने उसे एक्सरे कराने की सलाह दी है। वहीं क्षेत्राधिकारी डलमऊ ने कहा कि इस तरह की किसी घटना की मुझे कोई जानकारी नहीं है।