मुख्य सचिव ने आज झांसी में महिला सुरक्षा सम्मान एवं स्वावलंबन योजना मिशन शक्ति का किया शुभारंभ 

 


  • मिशन शक्ति में महिलाओं व बालिकाओं की सुरक्षा सम्मान व उनके स्वावलंबन के विभिन्न योजनाओं के संबंध में जागरूकता के कार्यक्रम चलाये जाएंगे
  • थाना कोतवाली में महिला हैल्पडेस्क का निरीक्षण और मिशन शक्ति नारी सुरक्षा, नारी सम्मान के लोगो का अनावरण किया गया
  • बुन्देलखण्ड वीरांगनाओं की धरती है
  • नारी का स्थान पुरुष से ऊँचा है, जहां नारी का सम्मान होता है, वहीं देवताओं का वास होता है
  • मुख्यमंत्री द्वारा नारी सुरक्षा, नारी सम्मान व नारी स्वावलम्बन के लिये नवरात्र में विशेष अभियान अभूतपूर्व
  • वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई की पावन धरती से मिशन शक्ति का शुभारम्भ एक गौरवान्वित क्षण

 

झांसी/लखनऊ।  प्रदेश के मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी ने आज झाँसी में एक भव्य समारोह में मिशन शक्ति अभियान का विधिवत शुभारम्भ किया। उन्होंने कार्यक्रम का शुभारम्भ करने के उपरान्त कहा कि बुन्देलखण्ड वीरांगनाओं की धरती है, झांसी की रानी वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई ने अपने अदम्य साहस और शौर्य से अंग्रेजों का सामना किया।

यहां की हर बच्ची माँ दुर्गा, माँ लक्ष्मी के समान है। उन्होंने बताया कि सीएम ने नारी सुरक्षा, नारी सम्मान व नारी स्वावलम्बन के बारे में विशेष अभियान इस नवरात्रि से अगली नवरात्रि तक चलाये जाने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने झांसी में कार्यक्रम के भव्य आयोजन पर सभी को शुभकामनायें दी।

मुख्य सचिव ने अपने उद्बोधन में कहा कि हमारी संस्कृति में नारी का स्थान पुरुषों से ऊँचा है, जहां नारी का सम्मान होता है, वहीं देवता वास करते हैं। उन्होंने कहा कि नारी ने जब हाथ उठाया तो दुष्टों का नाश हुआ है। त्रेतायुग में माता सीता का हरण नही होता तो दुष्ट व ज्ञानी रावण का अंत नही होता, द्रौपदी का चीरहरण नहीं होता तो महाभारत नहीं होती। उन्होंने कहा कि यदि हम नारी का सम्मान नही करेंगे तो हमारा विनाश निश्चित है।

उन्होंने कहा कि समाज में पुत्र के जन्म लेने पर हर्षोल्लास का वातावरण होता है परन्तु पुत्री का जन्म होने पर वही समाज उतना हर्षित नहीं होता है। उन्होंने कहा कि हमें बच्चियों के प्रति यह दृष्टिकोण बदलना होगा। उन्होंने यह भी कहा कि ऐसा कौन सा क्षेत्र है जहां नारियों ने कदम नहीं रखा है एवं सफलता नहीं प्राप्त की है। नारी को सम्मान तभी मिलेगा, जब वह स्वावलम्बी होगी। आर्थिक रुप से जब नारी सशक्त होगी तो उसको सम्मान जरुर मिलेगा। उन्होने कहा कि माननीय उच्चतम न्यायालय ने भी पिता की सम्पत्ति में पुत्री को पुत्र की भांति समान अधिकार दिये जाने का प्राविधान कर दिया है।

मुख्य सचिव ने कहा कि मिशन शक्ति के शुभारम्भ पर हम सभी यह संकल्प लें कि प्रदेश में महिलाओं पर होने वाले अत्याचार को रोकेंगे। उन्होने कहा कि बुन्देलखण्ड से उनका पुराना नाता है। झांसी वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई की पावन कर्मभूमि भूमि को नमन करते हुये मिशन शक्ति का शुभारम्भ किया जाना उनके लिए एक अत्यंत गौरवान्वित क्षण है।

मिशन शक्ति कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुये सांसद झांसी-ललितपुर अनुराग शर्मा ने समस्त उपस्थितजनों को नवरात्र की शुभकामनायें देते हुये माँ पीताम्बरा माई व माँ बगुलामुखी का आशीर्वाद समस्त बुन्देलखण्ड वासियों पर रहे, यह कामना की। उन्होंने कहा कि बुन्देलखण्ड में नारी शक्ति हमेशा से रही है। वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई सहित माँ पीताम्बरा माई व माँ बगुलामुखी का भी इस धरती पर वास रहा है। उन्होंने बताया कि हमारे घर में भी नारी शक्ति का वास है, घर में मेरी माँ, पत्नी तथा दो बेटियाँ है।

विधायक सदर रवि शर्मा ने कहा कि झांसी की रानी वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई ने अंग्रेजों से लड़ाई की शुरुआत की तभी हमारा देश आजाद हुआ। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जी का संकल्प है कि उत्तर प्रदेश को उत्तम प्रदेश बनाएंगे, उद्यमी आएंगे तो विकास के अवसर बढेंगे।  मुख्यमंत्री ने बुन्देलखण्ड को अनेकों सौगात दी हैं। आज बुन्देलखण्ड की दशा और दिशा सुधरी है और प्रगति की ओर अग्रसर है।

उन्होंने कहा कि प्रदेश की बदलती सूरत में महिलाओं की भूमिका महत्वपूर्ण है।
आईजी सुभाष सिंह बघेल ने मण्डल में महिलाओं के साथ हुये अपराधों में की गयी कार्यवाही की जानकारी देते हुये कहा कि अपराधियों को सजा दिलाया जाना प्राथमिकता है साथ ही अपराध रोकना और उनका अनुश्रवण करना भी महत्वपूर्ण है जिस कारण महिलाओं पर होने वाले अत्याचारों को रोका जा सकता है।

मिशन शक्ति कार्यक्रम के शुभारम्भ पर जिलाधिकारी आन्द्रा वामसी ने अतिथियों का स्वागत करते हुये कहा कि समाज में महिला की सुरक्षा के लिये कानून बने है, महिलाओं के प्रति होने वाले अपराधों को शून्य करने के लिये आयोजन करना होगा, वंचित लोगों के जीवन को सुरक्षित रखने के लिये घर-घर लोगों को जागरुक करना है। महिलाओं को कानून की जानकारी देने के लिये भी उन्हें जागरुक करना है। साथ ही वह जहां रहती है या काम करती है यदि कोई कठिनाई आ रही है तो उसे दूर करना होगा। कुरीतियों को समाज से कैसे बाहर किया जाये इस पर मिलजुल कर काम शुरु करना होगा।

जिलाधिकारी ने पावर प्वांइट प्रेजेन्टेशन के माध्यम से पाॅक्सो एक्ट की जानकारी दी। उन्होने बालिकाओं एवं महिलाओं से आव्हान किया कि उनके साथ होने वाली किसी भी प्रकार की असभ्य घटना की जानकारी निसंकोंच दें, आपकी पहचान गुप्त रखी जायेगी।

बच्चों के खिलाफ जो उत्पीड़न हो रहा है उसे पाॅक्सो एक्ट से कैसे रोका जा सकता है, के सम्बन्ध में जानकारी दी। जनपद में 35 करोड़ की लागत से फोरेंसिक लैब का निर्माण हो गया है जल्द उद्घाटन होगा। जिससे अपराधियों पर कार्यवाही त्वरित हो सकेगी, की जानकारी भी दी। उन्होने कहा कि एक साथ संगठित होकर सामाजिक परिवर्तन लाना जरुरी है।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक दिनेश कुमार पी ने पावर प्वांइट प्रेजेन्टेशन के माध्यम से मिशन शक्ति के अन्तर्गत पुलिस दृष्टिकोण की जानकारी दी। उन्होने शक्ति परी, परिवार परामर्श, आपरेशन मुस्कान, महिला सशक्तिकरण, महिला हैल्पडेस्क की बिन्दुवार जानकारी दी। उन्होने बताया कि विगत वर्षों में 27 अभियोगों में पाॅक्सो एक्ट अन्तर्गत सजा करायी जा चुकी है।

उन्होने बताया कि महिला सम्मान हेतु जागरुकता अभियान, साइबर एवं लौगिक, अपराध जागरुकता की जानकारी देते हुये कहा कि हैल्पलाइन 1090, 181, 1076, 112, 1098, 102 तथा 108 के बारे में बिन्दुवार बताया और बच्चियों तथा महिलाओं को निसंकोंच इन हैल्पलाइन नम्बरों पर जानकारी देने को कहा। मिशन शक्ति कार्यक्रम में एमएलसी सुश्री रमा निरंजन ने भी अपने उद्गार व्यक्त किये।

मिशन शक्ति कार्यक्रम के शुभारम्भ के पूर्व सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग द्वारा उपलब्ध एलईडी वैन सहित एन्टीरोमियो स्क्वायड तथा महिला शक्ति मोबाइल वैन का फ्लैग आफ किया गया। समस्त एलईडी वैन ग्रामीण क्षेत्र में नारी सुरक्षा, नारी सम्मान, नारी स्वावलम्बन के लिये जागरुक करेगी। मिशन शक्ति की जागरुकता हेतु रंग-बिरंगे गुब्बारें उड़ाये गये।

पं0 दीनदयाल उपाध्याय सभागार में माँ दुर्गा, माँ सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण और दीप प्रज्जवलित करते हुये मिशन शक्ति कार्यक्रम का शुभारम्भ किया गया।
इस कार्यक्रम में पधारे समस्त अधिकारियों, महिलाओं व बच्चियों के प्रति आभार मण्डलायुक्त सुभाष चन्द्र शर्मा ने किया। कार्यक्रम का संचालन डाॅ नीति शास्त्री ने किया। कार्यक्रम के दौरान विभिन्न स्कूलों की छात्राओं द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किये गये।

कार्यक्रम के उपरान्त मुख्य सचिव, सांसद थाना कोतवाली पहुंचे। वहां उन्होने थाना कोतवाली का निरीक्षण करते हुये महिला हैल्पडेस्क को देखा और मिशन शक्ति नारी सुरक्षा, नारी सम्मान का लोगो का अनावरण करते हुये निर्देश दिये कि महिलाओ के प्रति होने वाले अपराधों पर प्रभावी व त्वरित कार्यवाही करें।

वहां उन्होंने कोतवाली परिसर में स्थापित पं0 दीनदयाल अन्त्योदय योजना, एनआरएलएम, उत्तर प्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन ग्राम्य विकास विभाग उ0प्र0, तुलसी महिला स्वयं सहायता समूह प्रेरणा कैन्टीन का फीता काटकर उद्घाटन किया और महिलाओं से उनके उत्पादों की जानकारी ली।

उन्होंने समूह की महिलाओं से कहा कि आप स्वावलम्बी बनें और अन्य महिलाओं को स्वावलम्बी बनने के लिये प्रेरित करें। महिलाओं से बात करते हुये मुख्य सचिव ने कोविड-19 के बचाव के उपायों की जानकारी ली और उन्होंने महिलाओं से पूछा कि आप लोगों को आने जाने के दौरान यदि कोई अभद्रता या छेड़खानी होती है तो तत्काल हेल्पलाइन में निसंकोंच शिकायत दर्ज कराये।