बलिया : वर्चुअल कोर्ट शुरू

  • 11 न्यायालयों में शुरू हुआ कार्य परिसर व न्यायालय प्रतिदिन होगा सेनेटाइज

जयराम अनुरागी

बलिया। उच्च न्यायालय के निर्देश पर जिला जज श्री गजेन्द्र कुमार आदेश पर ग्यारह कोर्ट 21 मई खुलने शुरू हो गया है। इसमे सत्र न्यायाधीश,प्रधान न्यायाधीश, परिवार न्यायालय, विशेष न्यायाधीश, अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम/ अपर सत्र न्यायाधीश, बलिया, विशेष न्यायाधीश, (ई0सी0 एक्ट) अपर सत्र न्यायाधीश, बलिया, विशेष न्यायाधीश(पाक्सो एक्ट)/ अपर जनपद एवं सत्र न्यायाधीश, न्यायालय संख्या- 08, विशेष न्यायाधीश (एन0डी0पी0एस0 एक्ट)/ अपर जनपद एवं सत्र न्यायाधीश, न्यायालय संख्या- 09, विशेष न्यायाधीश (गैंगेस्टर एक्ट)/अपर जनपद एवं सत्र न्यायाधीश, न्यायालय संख्या-05, मुख्य न्यायिक दण्डाधिकारी, सिविल जज (सि0डि0), सिविल जज (जू0डि0) पूर्वी, सिविल जज (जू0डि0) पश्चिमी है। यह जानकारी जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की सचिव रिचा वर्मा ने दी है।

इन वादों पर होगी सुनवाई

अर्जेन्ट प्रकृति के वादों पर सुनवाई होगी, जिसमें लम्बित एवं नवीन जमानत प्रार्थना पत्र, लम्बित एवं नवीन अग्रिम जमानत प्रार्थना पत्र, पुलिस द्वारा मांगी गयी वारेन्ट, 82/83 की कार्यवाही, 164 Cr.PC के अन्तर्गत लिखे जाने वाले बयान, रिमाण्ड/ विचाराधीन बन्दियों से सम्बन्धित अन्य न्यायिक कार्य तथा बहस जैसी कार्यवाहियाॅ सम्मिलित है।

वर्चुअल कोर्ट से होंगें न्यायिक कार्य

समस्त न्यायिक कार्य समाजिक दूरी को बनाये रखते हुए सम्पादित किये जायेंगे। उक्त समाजिक दूरी को देखते हुये दीवानी न्यायालय के सेन्ट्रल हाॅल में वर्चुअल कोर्ट की स्थापना की गयी है। इसमे कैमरा व स्पीकर लगा हुआ है। सम्बन्धित अधिवक्ता अपने निचिश्त समय पर उक्त वर्चुअल कोर्ट में उपस्थित होकर अपना पक्ष रख सकते है। न्यायिक अधिकारी अपने चेम्बर में लेपटाप के माध्यम से वर्चुअल कोर्ट रूम से कनेक्ट होते है।

अनावश्यक रूप से कचहरी न आए अधिवक्ता

क्रिमिनल बार संघ अध्यक्ष देवेन्द्र नाथ मिश्रा व श्री अवधेश राय के माध्यम से समस्त अधिवक्ता बन्धुओं से यह अपील किया गया है कि जिन अधिवक्ताओं का कार्य लगा हो केवल वही कचेहरी आयें। अन्यावश्यक रूप से कचहरी आकर वे वैश्विक महामारी COVID-19 के संक्रमण के नियन्त्रण के सम्बन्ध में जिला प्रशासन एवं जिला न्यायालयों द्वारा किये जा रहे प्रयासों को विफल न करें।

परिसर और न्यायालय प्रतिदिन होगा सेनेटाइज

न्यायालय परिसर एवं कक्षों को प्रतिदिन सेनिटाइज व न्यायालय में प्रवेश करने वाले व्यक्तियों की थर्मल स्क्रीनिंग होगी।