प्रवासी कामगारों से घर वापसी पर अखिलेश का ट्वीट, ये टिकट नहीं है, ये क्या बंधक मजदूरों को छोड़ने की फिरौती रसीद है

  • इस मुद्दे पर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा था,कांग्रेस देगी इन कामगारों और मजदूरों का किरायासरकार ने किया इंकार तो मजदूरों ने दिखाया टिकट, मजदूर भी बोले पैसा दिया है

नया लुक ब्यूरो

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने ट्वीट के जरिए सरकार को कटघरें में कढ़ा किया है। उन्होंने ट्वीट कर कहा है कि ” पूरे देश में भाजपाई ये कहते घूम रहे हैं कि सरकार ने मजदूरों से टिकट के पैसे नहीं लिए हैं जबकि देशभर में बेबस मजदूर अपनी टिकट दिखा रहे हैं। लोग कह रहे हैं कि अगर ये टिकट नहीं है तो क्या बंधक मजदूरों को छोड़ने पर ली गयी फिरौती की सरकारी रसीद है।

 

गरीब विरोधी भाजपा का अंत शुरु!”

अखिलेश से पहले कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने भी दूसरे राज्यों में फंसे प्रवासी मजदूर और कामगारो को ट्रेन से वापस लाए जाने के एवज में पैसे लिये जाने पर सरकार को घेरा था। कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा था कि ये कामगार देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ हैं और कांग्रेस इनका सम्मान करते हुए इनका किराया सरकार को देगी। इसके बाद प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने सरकार से कहा था वो राज्य में वापस आने वाले मजदूरों का किराया देगी।

प्रवासी प्रदेशवासियों की घर वापसी सरकार द्वारा किराए के पैसे लेने के बाद विवादो में घिरती नजर आ रही है। सरकार विपक्ष के इन आरोपों को खारिज कर रही है पर सरकार के इन दावे के उलट मजदूरों से टिकट के पैसे रहे लिए जा हैं। उत्तर प्रदेश लौटने वाले मजदूरों के हाथ में ट्रेन का टिकट है। उन्हें श्रमिक स्पेशल ट्रेन से आने के लिए यात्रा टिकट खरीदना पड़ा है। इसी बात को लेकर मंगलवार को पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ट्वीट कर सरकार पर हमला किया है। रेलवे और योगी सरकार इस मुद्दे पर घिरती नजर आ रही है। ट्रेन से घर लौटे मजदूरों ने पैसा वसलूने की बात कही है।