परफ्यूम बनाने वाली कंपनी के नाम पर 5500 करोड़ का हवाला कारोबार

  • राजस्व आसूचना निदेशालय क्षेत्रीय ईकाई नोएडा ने कार्रवाई की
  • परफ्यूम आयात के एवज में 5500 करोड़ रुपये विदेश तो भेज दिए लेकिन निर्यात किए माल का पैसा देश में वापस नहीं आया

नोएडा। राजस्व आसूचना निदेशालय की क्षेत्रीय ईकाई नोएडा ने एक बडे़ गिरोह को पकड़ा है। यह गिरोह परफ्यूम का कारोबार करता था। दुबई, हांगकांग, सिंगापुर और चीन समेत अन्य देशों में आयात के नाम पर 5500 सौ करोड़ रूपये विदेश भेज दिए, लेकिन निर्यात किए गये गये माल का पैसा देश में वापिस ही नहीं आया। एसईजेड और दादरी के इनलैंड कंटेनर डिपो में माल मंगाकर कंपनी ड्यूटी फ्री का लाभ भी सरकार से लेती थी। निदेशालय से मिली जानकारी के मुताबिक अब तक की जांच में सरकार को 70 करोड़ रुपये आयात ड्यूटी का चूना लगाने का पता लगा है और यह मामला हवाला कारोबार से जुड़ा माना जा रहा है।

राजस्व आसूचना निदेशालय, लखनऊ के अपर निदेशक वीके सिंह ने बताया कि इस हवाला रैकेट के तार दुबई, हांगकांग, सिंगापुर और चीन समेत अन्य देशों से जुड़े हैं। गिरोह का मास्टर माइंड दुबई से इस रैकेट को संचालित करता था। इस रैकेट से जुड़े लोगों ने भारत और अन्य देशों में बहुत सारी कंपनियां बना रखी थी, जो सस्ते माल को बहुत ऊंची दर पर आयात और निर्यात करती थी। बीते दो साल से 5500 करोड़ रुपये का सामान आयत दिखाकर एसईजेड और आईसीडी से ही वापस भेज देती थी। आयात के एवज में 5500 करोड़ रुपये तो विदेश भेज दिए लेकिन निर्यात किए माल का पैसा देश में वापस नहीं आया।

दादरी के इनलैंड कंटेनर डिपो स्थित कंपनी से जांच शुरू हुई थी। उन्होंने बताया कि राजस्व आसूचना निदेशालय, क्षेत्रीय इकाई नोएडा ने दिसंबर 2019 में भारत में कई स्थानों पर रैकेट से जुड़े 15 कंटेनर परफ्यूम को जब्त किए थे। इसकी कीमत 600 करोड़ रुपये गिरोह ने दिखाई थी। इस माल को श्रीसिटी, आंध्र प्रदेश, कांडला और पनवेल मुंबई से एसईजेड और आईसीडी पर आयात किया जाता था। जब्त किए गए माल से पता लगा कि जिस माल की कीमत गिरोह 40 से 45 हजार रुपये प्रति लीटर बता रहा था, उसकी कीमत 200 से 400 रुपये लीटर थी। 150 करोड़ रुपये का माल सीज हुआ है। ईडी को भी मामले की जांच दी जा रही है और इस प्रकरण की विस्तृत जांच अब ईडी द्वारा की जाएगी।