इस दिन इस रंग और इस चीज का लगाएँ तिलक, घर में आएगी सुख, शांति और समृद्धि

शुक्रवार, शनिवार और रविवार को लगाएँ लाल चंदन और पाएँ जीवन में बहुत कुछ…

डॉ. उमाशंकर मिश्र

सनातन धर्म नियम, आचरण और व्यवहार को भी अपनी पूजा पद्धति मानता है। इसी क्रम में एक आचरण शामिल है, तिलक का। वैदिक पंचांग और हिन्‍दू मान्‍यताओं के अनुसार किसी भी देवी या देवता की पूजा तभी सम्पन्‍न मानी जाती है, जब पूजा विधि-विधान से की जाए। पूजा के दौरान माथे पर भगवान के नाम का तिलक भी लगाया जाता है। ऐसे में सनातन धर्म के अनुसार सप्‍ताह के सातों दिन अलग-अलग देवी-देवताओं के नाम समर्पित है, जो हमें हर तरह के कष्‍ट और दुखों से दूर रखते हैं। ऐसे में हर दिन तिलक लगाने का तरीका भी अलग है।

दिन के अनुसार माथे पर तिलक लगाने के नियम
सोमवार
Monday को शिव जी (Shiv Ji) का दिन माना जाता है. इस दिन के स्‍वामी ग्रह चंद्रमा हैं इसलिए इस दिन सफेद चंदन, विभूति या फिर भस्म का तिलक लगाना चाहिए। ऐसा करने से भोलेनाथ अत्‍यंत प्रसन्‍न होते हैं और उनकी कृपा बनी रहती है।

2. मंगलवार
Tuesday के दिन हनुमानजी की पूजा की जाती है और इस दिन का स्वामी ग्रह मंगल है। इस दिन लाल चंदन या चमेली के तेल में घुला हुआ सिंदूर का तिलक लगाने की परंपरा है। ऐसा करने से जीवन में सभी संकट दूर होते हैं और मनोकामना पूर्ण होती है।

3. बुधवार
Wednesday का दिन गणेश जी (Ganesha Ji) का दिन होता है। इस दिन के ग्रह स्वामी बुध हैं। इस दिन सूखे सिंदूर का तिलक किया जाता है।ऐसा करने से जातकों की कार्य क्षमता बढती है यश मिलता है।

4. गुरुवार
Thursday को भगवान विष्‍णु की पूजा की जाती है। इस दिन के स्वामी ग्रह बृहस्पति हैं। इस दिन सफेद चंदन की लकड़ी को पत्थर पर घिसकर उसमें केसर मिलाकर तिलक लगाया जाता है। मान्‍यता है कि इससे धन संबंधी समस्‍या दूर होती है।

5. शुक्रवार
Friday के दिन माता लक्ष्मी की पूजा की जाती है। इस दिन के ग्रह स्वामी शुक्र हैं। इस दिन लाल चंदन का तिलक लगाया जाता है। इससे घर में सुख सुविधाओं का वास होता है। इस दिन सिंदूर का भी तिलक लगाने से लक्ष्‍मी जी की कृपा बरसती है।

6. शनिवार
Saturday भगवान भैरव, शनि और यमराज का दिन है। इस दिन के ग्रह स्वामी शनि (Shani) हैं। इस दिन विभूती, भस्म या लाल चंदन लगाने से भैरव प्रसन्न होते हैं और जीवन लाभ मिलता है।

7. रविवार
Sunday सूर्यदेव को समर्पित है। इस दिन के ग्रह स्वामी सूर्य हैं, जो ग्रहों के राजा भी हैं। इस दिन लाल चंदन या रोली का तिलक लगाना चाहिए। ऐसा करने से मान-सम्मान बढ़ता है और डर खत्‍म होता है।

वास्तु दोष
जिनके घर का मुख दक्षिण में हो, वे अपने घर के दरवाजे के बाहर एक गमले में आम का पौधा लगायें और गुरुमंत्र का जप करें इससे घर का वास्तु दोष दूर होगा।

Religion

गुरू बिन भवनिधि तरहिं न कोई, जो बिरंचि संकर सम होई

संजय तिवारी सनातन भारतीय वांग्मय में गुरु को इस भौतिक संसार और परमात्म तत्व के बीच का सेतु कहा गया है। सनातन अवघारणा के अनुसार इस संसार में मनुष्य को जन्म भले ही माता पिता देते है लेकिन मनुष्य जीवन का सही अर्थ गुरु कृपा से ही प्राप्त होता है । गुरु जगत व्यवहार के […]

Read More
Religion

विशेषः गुरु पुर्णिमा पर कैसे करें गुरुदेव का मानस-पूजन?

गुरुपूर्णिमा : आज 21 जुलाई 2024 डॉ. उमाशंकर मिश्र ‘शास्त्री’ गुरु पूनम को सुबह उठें, नहा-मधोकर थोडा-बहुत धूप, प्राणायाम आदि करके श्रीगुरुगीता का पाठ कर लें। फिर इस प्रकार मानसिक पूजन करें: ‘मेरे गुरुदेव ! मन-ही-मन, मानसिक रूप से मैं आपको सप्ततीर्थों के जल से स्नान करा रहा हूँ। मेरे नाथ! स्वच्छ वस्त्रों से आपका […]

Read More
Religion

गुरुपूर्णिमा- वेदव्यास जयंती आजः इस वर्ष ग्रह गोचर दीप्त अवस्था में विलक्षण संयोग

वशिष्ठ जी के वंशज- पराशर पुत्र हैं ,कृष्ण द्वैपायन व्यास वेद का विस्तार किया वेदव्यास ने, महाभारत के रचयिता भी व्यास लेखन मे मददगार रहे सिद्धि -बुद्धि स्वामी गणेश गुरु पूर्णिमा में होगा गुरु पूजन बीके मणि त्रिपाठी गुरु पूर्णिमा-व महर्षि वेदव्यास जयंती, आषाढ़ शुक्ल पूर्णिमा, 21जुलाई को है। इस तारीख को व्यास जी का […]

Read More