स्वामी जीतेंद्रानंद ने राहुल को ललकारा

  • अयोध्या ले चुके, अब ताल ठोक कर काशी भी लेंगे और मथुरा भी
  • दुकान पर समान बेंचा और खरीदा जाता है , प्रेम की कोई दुकान नहीं होती

विशेष संवाददाता

नई दिल्ली। अखिल भारतीय संत समिति के राष्ट्रीय महामंत्री स्वामी जीतेंद्रानंद सरस्वती ने राहुल गांधी को चुनौती देते हुए कहा है कि हिंदुओं ने अयोध्या पा लिया। अब ताल ठोक कर ज्ञानवापी भी लेंगे और मथुरा भी। राहुल गांधी में दम हो तो हमें रोक कर दिखा दें। स्वामी जी नई दिल्ली स्थित मालवांकर सभागार में संयुक्त हिंदू समाज द्वारा आयोजित विरोध सभा को संबोधित कर रहे थे। यह राहुल गांधी द्वारा संसद में हिंदुओं के बारे में की गई टिप्पणी के विरोध में आयोजित विरोध प्रदर्शन की सभा थी।

स्वामी जी ने कहा कि राहुल गांधी बार बार मोहब्बत की दुकान की बात करते हैं। मोहब्बत अर्थात प्रेम कोई बिक्री की वस्तु नहीं है जिसकी दुकान चलाई जाती है। दुकान तो खरीदने और बेचने का केंद्र होता है। यह किसी तवायफ का कोठा हो सकता है अथवा सिंगापुर में खुली वे दुकानें जहां लोग पैसे खर्च कर अपनी हवस पूरी करते हैं। सनातन संस्कृति में प्रेम एक शाश्वत मूल्य है जिसका कोई धंधा संभव नहीं।
स्वामी जी ने कहा कि राहुल गांधी यह दावा कर रहे हैं कि उन्होंने राम मंदिर आंदोलन को रोक दिया। राहुल की जाहिलियत इसी से स्पष्ट हो जाती है क्योंकि राम मंदिर आंदोलन अयोध्या में श्री राम जन्मभूमि पर भगवान राम के मंदिर की स्थापना के लिए था जो कि अपना लक्ष्य पूरा कर चुका। लगभग 500 वर्षों के लंबे संघर्ष के बाद भारत के सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय के बाद यह हिंदुओं को प्राप्त हुआ है। राहुल को याद रखना चाहिए कि राहुल के पिता जी के कार्यकाल में ही अयोध्या में श्री राम जन्मभूमि पर शिलान्यास हुआ था। कांग्रेस के कार्यकाल में ही बाबरी ढांचा भी ध्वस्त हुआ था। राम मंदिर आंदोलन अपना लक्ष्य प्राप्त कर चुका है। मंदिर बन रहा और वहां गर्भ गृह में श्री राम लला विराजमान हो चुके हैं।
स्वामी जी ने राहुल गांधी को चुनौती देते हुए कहा कि यदि राहुल में हिम्मत है तो अब काशी और मथुरा में हिंदुओं को रोक कर दिखा दें। अब हम खम ठोक कर ज्ञानवापी भी लेंगे और श्री कृष्ण जन्मभूमि भी। राहुल गांधी जिन ताकतों के इशारे पर चल रहे हैं उनके बारे में देश ठीक से जनता है।
स्वामी जी ने कहा कि अयोध्या में लोकसभा की जीत और हार हिंदुओं को जीत और हार नहीं होती। अयोध्या से तो तीन बार मित्रसेन यादव जैसे लोग भी संसद में पहुंचे हैं। वैसे भी अयोध्या की जनता ने इस बार भी भाजपा को ही चुना। आसपास की विधान सभा क्षेत्र ने भाजपा को कम वोट किया। इसका मतलब यह कतई नहीं कि इससे जनता ने राहुल गांधी को जनमत दे दिया हो।

Delhi

लोकसभा चुनाव में हार के बाद उत्तर प्रदेश में बढ़ी योगी आदित्यनाथ की मुश्किलें, नेतृत्व परिवर्तन की लगी अटकलें

नौकरशाही पर निरंकुश और अराजक होने का आरोप नया लुक ब्यूरो, नयी दिल्ली : लोकसभा चुनाव में उत्तरप्रदेश में भाजपा को तगड़ा झटका लगने के बाद अब राज्य की सियासत गर्मा गई है। नतीजों के बाद भाजपा के अंदरखाने की राजनीति में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के खिलाफ विरोध के सुर बुंलद हो गए है। योगी […]

Read More
Delhi

बिम्सटेक सम्मेलन: भारत का ‘पड़ोसी प्रथम’ और ‘एक्ट ईस्ट’ नीति पर जोर

नई दिल्ली। बिम्सटेक के विदेश मंत्रियों के दो दिवसीय सम्मेलन का यहां शुक्रवार को समापन हुआ, जिसमें भारत ने अपनी ‘पड़ोसी प्रथम’ और ‘एक्ट ईस्ट’ नीति के साथ ही सागर दृष्टिकोण पर फोकस किया। विदेश मंत्री डॉ. एस. जयशंकर ने 7 पड़ोसी देशों के संगठन बहु-क्षेत्रीय तकनीकी और आर्थिक सहयोग के लिए बंगाल की खाड़ी […]

Read More
Delhi

कोलंबो सुरक्षा सम्मेलन: बांग्लादेश का 5वें सदस्य के रूप में हुआ स्वागत

नई दिल्ली। कोलंबो सुरक्षा सम्मेलन (सीएससी) की 8वीं उप राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (डीएनएसए) स्तर की बैठक बुधवार को मॉरीशस द्वारा वर्चुअली आयोजित की गई। इस दौरान भारत सहित मॉरीशस, मालदीव और श्रीलंका ने बांग्लादेश का सीएससी के पांचवें सदस्य राष्ट्र के रूप में स्वागत किया। विदेश मंत्रालय के मुताबिक बैठक में सेशेल्स ने पर्यवेक्षक स्टेट […]

Read More