मासिक शिवरात्रि आज, जानें तिथि-शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

  • आषाढ़ महीने की मासिक शिवरात्रि है बेहद खास
  • इस व्रत से होती है अनंत फल की प्राप्ति

जयपुर से राजेंद्र गुप्ता

त्रयोदशी की तहर ही कृष्ण पक्ष चतुर्दशी तिथि भी भगवान शिव की पूजा के लिए समर्पित है। हर महीने के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को मासिक शिवरात्रि मनाई जाती है। इस दिन भक्त व्रत रखकर आराध्य शिव से अपने कल्याण की कामना करते हैं। मान्यता है कि इस व्रत से प्रसन्न होकर भगवान शिव सभी मनोकामना पूरी करते हैं।

शिवरात्रि खास होने की वजह

मासिक शिवरात्रि भगवान शिव की पूजा के लिए समर्पित है। यह शिवरात्रि सोमवार को पड़ रही है, सोमवार भी भगवान चंद्रमौली की पूजा के लिए समर्पित दिन है। इसलिए इस मासिक शिवरात्रि व्रत का दोगुना फल मिलेगा। और भगवान भक्त पर प्रसन्न होंगे।

मासिक शिवरात्रि का महत्वः

धार्मिक ग्रंथों के अनुसार जो व्यक्ति विधि विधान से इस दिन व्रत रखकर भगवान शिव की पूजा करता है उसे अनंत फल मिलता है। मासिक शिवरात्रि के दिन ऊं नम: शिवाय मंत्र का जाप और रात्रि जागरण कर शिव का ध्यान करने से अश्वमेघ यज्ञ के समान फल मिलता है। वहीं शिवरात्रि का व्रत मोक्षदायी भी है। इस दिन शिव पूजा सभी पापों का क्षय करने वाली और नकारात्मक ऊर्जा का प्रभाव खत्म करने वाली होती है।

यह व्रत युवतियों के लिए विशेष महत्व का होता है। धार्मिक ग्रंथों के अनुसार इस दिन पूजा करने से अविवाहित युवतियां भगवान शिव से मनचाहे पति का आशीर्वाद पाती हैं और महिलाएं भगवान शिव से अपने पति और परिवार के लिए मंगल कामना करती हैं।

मासिक शिवरात्रि पूजा विधि  

चैत्र माह की मासिक शिवरात्रि यानी चैत्र कृष्ण चतुर्दशी विशिष्ट है। इस दिन इस विधि से पूजा करने से महादेव कल्याण करेंगे।

  • सुबह जल्दी उठकर स्वच्छ वस्त्र पहनकर मंदिर में दीप जलाएं।
  • शिवजी का स्वच्छ जल, गंगाजल और दूध आदि से अभिषेक करें।
  • भगवान गणेश, भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा करें।
  • ऊँ नमः शिवाय पंचाक्षरीय मंत्र का जाप करें।
  • भगवान भोलेनाथ को सात्विक चीजों का भोग लगाएं, आरती करें।
  • पूजा में त्रुटि के लिए माफी जरूर मांगना चाहिए।

Religion

गुरू बिन भवनिधि तरहिं न कोई, जो बिरंचि संकर सम होई

संजय तिवारी सनातन भारतीय वांग्मय में गुरु को इस भौतिक संसार और परमात्म तत्व के बीच का सेतु कहा गया है। सनातन अवघारणा के अनुसार इस संसार में मनुष्य को जन्म भले ही माता पिता देते है लेकिन मनुष्य जीवन का सही अर्थ गुरु कृपा से ही प्राप्त होता है । गुरु जगत व्यवहार के […]

Read More
Religion

विशेषः गुरु पुर्णिमा पर कैसे करें गुरुदेव का मानस-पूजन?

गुरुपूर्णिमा : आज 21 जुलाई 2024 डॉ. उमाशंकर मिश्र ‘शास्त्री’ गुरु पूनम को सुबह उठें, नहा-मधोकर थोडा-बहुत धूप, प्राणायाम आदि करके श्रीगुरुगीता का पाठ कर लें। फिर इस प्रकार मानसिक पूजन करें: ‘मेरे गुरुदेव ! मन-ही-मन, मानसिक रूप से मैं आपको सप्ततीर्थों के जल से स्नान करा रहा हूँ। मेरे नाथ! स्वच्छ वस्त्रों से आपका […]

Read More
Religion

गुरुपूर्णिमा- वेदव्यास जयंती आजः इस वर्ष ग्रह गोचर दीप्त अवस्था में विलक्षण संयोग

वशिष्ठ जी के वंशज- पराशर पुत्र हैं ,कृष्ण द्वैपायन व्यास वेद का विस्तार किया वेदव्यास ने, महाभारत के रचयिता भी व्यास लेखन मे मददगार रहे सिद्धि -बुद्धि स्वामी गणेश गुरु पूर्णिमा में होगा गुरु पूजन बीके मणि त्रिपाठी गुरु पूर्णिमा-व महर्षि वेदव्यास जयंती, आषाढ़ शुक्ल पूर्णिमा, 21जुलाई को है। इस तारीख को व्यास जी का […]

Read More