Blue Dart Courier के गेट पर पड़ा रहा NEET का प्रश्न पत्र, जानिए पेपर लीक की पूरी कहानी

  • बैंक और कूरियर एजेंसी कठघरे में, लिफाफे से भी छेड़छाड़, नियमों की घोर अनदेखी
  • बड़ा सवाल: ई-रिक्शा से कूरियर ऑफिस से बैंक तक पहुंचा कैसे प्रश्नपत्र

रंजन कुमार सिंह:

झारखंड के हजारीबाग में नीट परीक्षा के दौरान घोर लापरवाही हुई है. नियमों की अनदेखी की गई है. ईओयू की टीम को जांच के दौरान कई सबूत मिले हैं. बैंक और कूरियर एजेंसी सभी संदेह के घेरे में हैं. हजारीबाग एनटीए के सिटी कोऑर्डिनेटर और ओएसिस स्कूल के प्राचार्य डॉ एहसान उल हक ने इसका खुलासा किया है.

रांची/ हजारीबाग: झारखंड में नीट परीक्षा के दौरान लापरवाही बरती गई है. इसका खुलासा हजारीबाग एनटीए के सिटी कोऑर्डिनेटर और ओएसिस स्कूल के प्राचार्य डॉ एहसान उल हक ने किया है. हालांकि, उन्होंने नीट पेपर लीक मामले में उनके स्कूल पर लगाए जा रहे आरोपों से इनकार किया है. उनका कहना है कि ये आरोप पूरी तरह से गलत हैं. स्कूल में सभी नियमों का सख्ती से पालन किया गया है. उनके अनुसार 5 मई 2024 को सुबह 7:30 बजे बैंक से प्रश्नपत्र का बॉक्स प्राप्त हुआ था. इसके बाद नियमानुसार परीक्षा ली गई. स्कूल से प्रश्नपत्र लीक नहीं हुआ है.

ईओयू की टीम ने की जांच

एनटीए के सिटी कोऑर्डिनेटर डॉ एहसान उल हक ने कहा कि पूर्व के दो प्रश्न पत्र लीक मामले में ईओयू की टीम हजारीबाग आई थी. उन्होंने संदिग्ध स्थानों और स्कूल की जांच की. जांच के दौरान पाया गया कि जिस प्रश्न पत्र के लीक होने की बात कही जा रही है उसके प्लास्टिक पैकेट के साथ छेड़छाड़ की गई है. एनवेलप के पिछले हिस्से को बड़ी ही सावधानी से काटा गया है. ऐसे में प्रश्न पत्र निकाले जाने की आशंका है.

उन्होंने यह भी बताया कि जांच के दौरान पाया गया कि प्रश्न पत्र 3 मई 2024 को ब्लू डार्ट कूरियर सर्विस के माध्यम से एसबीआई बैंक हजारीबाग में पहुंचाया गया था. प्रश्न पत्र लाने के लिए नेटवर्क के एक वाहन का इस्तेमाल किया गया था. ब्लू डार्ट कूरियर सर्विस ने टोटो ई-रिक्शा के जरिए प्रश्न पत्र को हजारीबाग के बैंक तक पहुंचाया. जिस वाहन से प्रश्न पत्र लाया गया था उसमें भी सुरक्षा का ख्याल नहीं रखा गया था. महज एक चालक के भरोसे संवेदनशील प्रश्न पत्र को हजारीबाग भेजा गया था. ऐसे में ट्रांसपोर्ट एजेंसी को प्रथम संदिग्ध माना जा रहा है.
उन्होंने बताया कि हजारीबाग के जिस बैंक में प्रश्नपत्र रखा गया था, वहां भी नियमों का पालन नहीं किया गया. महज एक छोटे से पुर्जे में रिसीविंग दिखाया गया है. ईओयू की टीम जांच के लिए बैंक भी पहुंची, जहां उन्होंने संबंधित अधिकारी से विस्तृत जानकारी ली. वहां भी टीम को घोर लापरवाही के संकेत मिले हैं.

प्रश्नपत्रों को 7 सुरक्षा लेयर में रखा जाता है. इसे एक आयरन बॉक्स में रखा जाता है. आयरन बॉक्स को 5 मई को दोपहर 1:15 बजे ऑटोमेटिकली पूरे देश भर में खुलना था. लेकिन यह पूरे देश भर में नहीं खुला. दूसरे लॉक को कटर से खोलना पड़ता है. जब डिजिटल लॉक नहीं खुला तो इस कटर से पूरे देश में आयरन बॉक्स को काटा गया.

संदेह के घेरे में ट्रांसपोर्ट कंपनी

एनटीए के सिटी कोऑर्डिनेटर का कहना है कि प्रश्नपत्र लाने के लिए जिस ट्रांसपोर्टेशन का इस्तेमाल किया गया है, वह संदेह के घेरे में है. उनका यह भी कहना है कि प्रश्नपत्र के साथ छेड़छाड़ की गई है. यह जांच का विषय है कि आखिर किस तरह से छेड़छाड़ की गई. उन्होंने इस बात पर भी चिंता जताई कि नियमों की धज्जियां उड़ाकर प्रश्नपत्र रांची से हजारीबाग कैसे लाया गया.

उन्होंने यह भी कहा कि प्रश्नपत्र ई-रिक्शा के माध्यम से 2 किलोमीटर दूर बैंक तक पहुंचाया जाता है. ट्रक के माध्यम से प्रश्नपत्र बैंक तक पहुंचाने की जिम्मेदारी कूरियर एजेंसी की थी. जो वीडियो प्राप्त हुए हैं, उनमें भी प्रश्नपत्र कूरियर सर्विस सेंटर के गेट पर पड़ा हुआ दिखाई दे रहा है, यह भी लापरवाही है.

Analysis

तीन साल में योगी कितने बदल पायेंगे हालात

अजय कुमार,लखनऊ लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी को उत्तर प्रदेश में काफी नुकसान उठाना पड़ा। यूपी की वजह से केंद्र में मोदी की पूर्ण बहुमत की सरकार नहीं बन पाई,जो बीजेपी यूपी में 80 सीटें जीतने का सपना पाले हुए थी,वह 33 सीटों पर सिमट गई।बीजेपी का ग्राफ इतनी तेजी से गिरा की अब […]

Read More
Analysis

चरण सिंह के करीबी ब्रम्हदत्त की पुस्तक “फाइब हेडेड मांस्टर” में है इमरजेंसी का सच

यशोदा श्रीवास्तव 18 वीं लोकसभा के चुनाव से लेकर मोदी के नेतृत्व में सरकार गठन तक किसी एक मुद्दे को लेकर बवाल मचा तो वह था संविधान! चुनाव के दौरान कांग्रेस की ओर से संविधान की रक्षा का कंपेयन चलाया गया तो भाजपा की ओर से कांग्रेस से ही संविधान को खतरा बताया गया। मोदी […]

Read More
Analysis

बड़ा सवालः शुगर जैसी जानलेवा बीमारी की दवायें इतनी महंगी क्यों?

फार्मा कम्पनियों के रोज रेट बढ़ाने पर लगाम क्यों नही? शुगर की गोली, इन्सुलिन को जीवनरक्षक की श्रेणी में क्यों नहीं लाती सरकारें? GST से केवल राष्ट्रीय सुरक्षा ही नहीं, नागरिकों की शिक्षा, स्वास्थ्य सुरक्षा भी जरूरी विजय श्रीवास्तव भगवान के बाद धरती पर अगर किसी को भगवान का दर्जा मिला है तो वे डॉक्टर […]

Read More