दुनिया पर चढ़ा योग का खुमार: विदेशों में भारतीय दूतावास के योग सत्रों में पहुंचे हजारों लोग

नई दिल्ली। पीएम नरेंद्र मोदी के प्रयासों से योग अब भारत से निकलकर वैश्विक पटल पर पहुंच गया है। इसकी बानगी एक बार फिर शुक्रवार को देखने को मिली, जब भारत के श्रीनगर से लेकर अमेरिका के न्यूयॉर्क तक दुनिया के लगभग सभी देशों में 10वां अंतरराष्ट्रीय योग दिवस बड़े उत्साह के साथ मनाया गया।
दुनिया के विभिन्न देशों की राजधानी और अन्य शहरों में स्थित भारतीय दूतावास, उच्चायोग और महावाणिज्य दूतावास ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर विभिन्न योग सत्र आयोजित किए, जिनमें हजारों की संख्या में भारतीय समुदाय और स्थानीय लोगों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। एशिया से लेकर अफ्रीका व अमेरिका से लेकर ऑस्ट्रेलिया और यूरोप से लेकर खाड़ी के देशों तक योग की गूंज सुनाई दी।

 

न्यूयॉर्क के विख्यात टाइम्स स्क्वायर पर योग को लेकर लोगों में गजब का क्रेज देखने को मिला। यहां स्थित भारत के महावाणिज्य दूतावास ने टाइम्स स्क्वायर एलायंस के साथ मिलकर विशेष योग सत्र आयोजित किए, जिसमें सैकड़ों लोगों ने हिस्सा लिया। महावाणिज्य दूतावास ने सोशल मीडिया मंच ‘एक्स’ पर एक पोस्ट में कहा न्यूयॉर्क के प्रतिष्ठित टाइम्स स्क्वायर पर 10वां अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया गया! दिन भर चलने वाले कार्यक्रम में सात योग सत्र शामिल थे, जिसमें विभिन्न देशों के लगभग 10 हजार योग प्रेमियों ने भाग लिया।

वाइब्रेंट इकोनॉमिक हब के रूप में विकसित होगी ‘पीतल नगरी’

 

जापान के टोक्यो में बारिश के बीच भारतीय दूतावास ने योग सत्र आयोजित किया और यहां लोग छाता लेकर योग करते नजर आए। ऑस्ट्रेलिया की राजधानी कैनबरा में लोगों ने योग सत्र की तस्वीरें सोशल मीडिया पर पोस्ट की। वहीं, चीन की राजधानी बीजिंग में छात्रों ने योग किया। पड़ोसी देश नेपाल के पोखरा में योग के प्रति जागरूक लोगों का सड़कों पर हुजूम उमड़ पड़ा।
लोगों को योग के प्रति जागरूक करने और 10वें अंतरराष्ट्रीय योग दिवस को सफल बनाने के लिए भारतीय मिशन ने 1 महीने पहले ही दुनियाभर के शहरों में ‘योगा प्री-इवेंट’ शुरू कर दिए थे। भारतीय मिशनों द्वारा इन योग सत्रों में योग प्रशिक्षकों की सुविधा प्रदान की गई और भारतीय समुदाय के अलावा स्थानीय लोगों को भी योग को अपनी दिनचर्या में शामिल करने के लिए प्रेरित किया गया।

इस दौरान सोशल मीडिया पर इस वर्ष की थीम हैशटैग ‘योगा फॉर सेल्फ एंड सोसाइटी’ ट्रेंड कर रहा था। भारतीय मिशनों ने अपने आधिकारिक ‘एक्स’ हैंडल पर हैशटैग के साथ योग सत्रों की तस्वीरें साझा कीं, जिनमें पड़ोसी देश श्रीलंका, बांग्लादेश, नेपाल, भूटान, म्यांमार, चीन और आसियान देशों के अलावा अमेरिका, ब्रिटेन, जर्मनी, इटली, ऑस्ट्रेलिया, ऑस्ट्रिया, स्वीडन, स्विट्जरलैंड, मलेशिया, सिंगापुर, नीदरलैंड, मैक्सिको, नॉर्वे, थाईलैंड, मॉरीशस, सऊदी अरब, यूएई, कुवैत, ओमान, बहरीन, इराक, सीरिया, मिस्त्र, वियतनाम, अर्जेंटीना, ब्राजील, युगांडा, पनामा, निकारागुआ और कोस्टा रिका, पेरू एवं बोलीविया, गुयाना, हांगकांग, माल्टा, जिम्बाब्वे, नाइजीरिया, तंजानिया, इथोपिया, फुएंत्शोलिंग, जॉर्डन, याउंडे, कोटे डी आइवर, मेक्सिको, सेशेल्स, कोलंबिया, इंडोनेशिया, एस्वातिनी, मॉरिटानिया, सिएटल, बीरगंज, सिलहट, स्कॉटलैंड, अजरबैजान और अन्य कई देश शामिल हैं।

विदेशों के अलावा भारत में भी हर वर्ष की तरह योग की धूम रही, जहां कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक केंद्र और राज्य सरकारों के अलावा विभिन्न सरकारी और निजी संगठनों ने योग सत्र आयोजित किए। पीएम मोदी ने जहां श्रीनगर की डल झील के किनारे योग किया, वहीं विदेश मंत्री डॉ. एस. जयशंकर, विदेश राज्य मंत्री कीर्तिवर्धन सिंह और पबित्रा मार्गेरिटा के साथ अन्य मंत्रियों और नेताओं ने राष्ट्रीय राजधानी में आयोजित विभिन्न योग सत्रों में शिरकत की।
(रिपोर्ट. शाश्वत तिवारी)

Analysis

पहले अपने गिरेबान में झाँकना सीख लीजिए..

अतुल मलिकराम (लेखक एवं राजनीतिक रणनीतिकार) अंबानी जी ने अपने सागर में से एक गागर पानी निकाला है, सागर भी उन्हीं का, और गागर भी उन्हीं का, लेकिन सारी की सारी समस्या हमें है.. सच में बड़े ही अजीब लोग हैं हम.. आजकल की शादियाँ रीति-रिवाजों पर नहीं, बल्कि दिखावे पर आधारित होती हैं। अच्छे […]

Read More
Analysis

पर्यावरण संरक्षण के प्रति जागरूक होने का समय, पर्यावरण समस्या और समाधान

डॉ. सौरभ मालवीय भारत सहित विश्व के अधिकांश देश पर्यावरण संबंधी समस्याओं से जूझ रहे हैं। ग्रीष्मकाल में भयंकर गर्मी पड़ रही है। प्रत्येक वर्ष निरंतर बढ़ता तापमान पिछले सारे रिकॉर्ड तोड़ रहा है। देश में गर्मी के कारण प्रत्येक वर्ष हजारों लोग दम तोड़ रहे हैं। यह सब ग्लोबल वार्मिंग के कारण हो रहा […]

Read More
Analysis Uncategorized

दो टूकः एक बार फिर योगी बन गए देश में मोदी से बड़ा चेहरा

राजेश श्रीवास्तव वर्ष 2006 में खाद्य सुरक्षा कानून के तहत तत्कालीन केंद्र की मनमोहन सरकार ने एक कानून बनाया था कि दुकान खोलने वाले को अपनी दुकान से संबंधित जानकारी अपनी दुकान के बोर्ड पर डिस्पले करनी होगी और ऐसा न करने वाले को दस लाख रुपये का जुर्माना देना होगा। लेकिन इस कानून को […]

Read More