भारत ने नेपाल के लुंबिनी में रखी स्कूल और हॉस्टल की नींव

भारत ने नेपाल के लुंबिनी में रखी स्कूल और हॉस्टल की नींव

उमेश चन्द्र त्रिपाठी

लुंबिनी नेपाल! भारत ने शुक्रवार को नेपाल के लुंबिनी प्रदेश के प्यूठान जिले में एक स्कूल और हॉस्टल की नींव रखी। यह परियोजना भारत और नेपाल के बीच एक समझौते के तहत एक हाई इंपैक्ट कम्युनिटी डेवलपमेंट प्रोजेक्ट (सामुदायिक विकास परियोजना) के रूप में शुरू की गई है। प्यूठान जिले के ऐरावती ग्रामीण नगर पालिका वार्ड नंबर 1 में डांग-बैंग माध्यमिक स्कूल और हॉस्टल का निर्माण ‘नेपाल-भारत विकास सहयोग’ के तहत हो रहा है।

भारत सरकार इसके लिए 33.92 मिलियन नेपाली रुपये की वित्तीय सहायता दे रही है। नेपाल-भारत विकास सहयोग के तहत भारत सरकार की इस सहायता का उपयोग इस स्कूल के लिए हॉस्टल बिल्डिंग और अन्य सुविधाओं के निर्माण के लिए किया जा रहा है।

भारतीय दूतावास की आधिकारिक विज्ञप्ति के मुताबिक, 2003 से भारत सरकार ने नेपाल में विभिन्न क्षेत्रों में 551 से अधिक हाई इंपैक्ट कम्युनिटी डेवलपमेंट प्रोजेक्ट शुरू किए हैं और 490 परियोजनाएं पूरी की हैं। इनमें से 61 परियोजनाएं विभिन्न क्षेत्रों में लुंबिनी प्रांत में हैं, जिनमें प्यूठान में 2 परियोजनाएं शामिल हैं। इनके अलावा भारत सरकार ने नेपाल के विभिन्न अस्पतालों, स्वास्थ्य चौकियों और शैक्षणिक संस्थानों को 1009 एम्बुलेंस और 300 स्कूल बसें उपहार में दी हैं।

उत्तर प्रदेश में एक दिन में सर्वाधिक दुर्घटना बीमा कर वाराणसी डाक परिक्षेत्र ने बनाया नया कीर्तिमान

 

भारत और चीन के लिए क्यों जरूरी है लुंबिनी?

अब सवाल यह है कि भारत लुंबिनी क्षेत्र में इतनी तेजी से कार्य क्यों कर रहा है? लुंबिनी गौतम बुद्ध का जन्मस्थल है और चीन कई सालों से यहां लगातार अपना प्रभाव बनाने की कोशिश कर रहा है। लगभग एक दशक पहले चीन ने यहां बौद्ध मठ बनवाए थे। साथ ही चीन ने लुंबिनी को ‘वर्ल्ड पीस सिटी’ बनाने के लिए 3 बिलियन डॉलर खर्च करने की योजना बनाई थी। यह कार्य अब जारी है। चीन ने नेपाल में 40 बिलियन नेपाली रुपए खर्च कर एयरपोर्ट भी बनवाया है। नेपाल चीन के बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव का हिस्सा भी है जो भारत के लिए अच्छी खबर नहीं है। लुंबिनी क्षेत्र में अपना हक जताते हुए चीन ने हमेशा से एक और बात को प्रचारित करना शुरू किया कि लुंबिनी बोधगया से नेपाली रुपए खर्च कर एयरपोर्ट भी बनवाया है।

लुंबिनी क्षेत्र में अपना हक जताते हुए चीन ने हमेशा से एक और बात को प्रचारित करना शुरू किया कि लुंबिनी बोधगया से ज्यादा महत्वपूर्ण जगह है। उनका कहना है कि बुद्ध जन्म के वक्त से ही ज्ञान प्राप्त कर चुके थे, इसीलिए बोधगया का कोई खास महत्व नहीं है।

2022 में नरेंद्र मोदी पहले ऐसे प्रधानमंत्री बने जिन्होंने लुंबिनी का दौरा किया और भारत ने यह संदेश देने की कोशिश की कि यहां चीन का एकछत्र राज नहीं चल सकता। मोदी ने यहां यह भी कहा कि बुद्ध सभी देशों की सीमाओं से ऊपर हैं। भारत ने नेपाल के साथ लुंबिनी-बोधगया, काठमांडू-वाराणसी और जनकपुर- अयोध्या को जोड़ने के लिए तीन सिस्टर सिटी समझौते को भी मंजूरी दी है।

Analysis

पहले अपने गिरेबान में झाँकना सीख लीजिए..

अतुल मलिकराम (लेखक एवं राजनीतिक रणनीतिकार) अंबानी जी ने अपने सागर में से एक गागर पानी निकाला है, सागर भी उन्हीं का, और गागर भी उन्हीं का, लेकिन सारी की सारी समस्या हमें है.. सच में बड़े ही अजीब लोग हैं हम.. आजकल की शादियाँ रीति-रिवाजों पर नहीं, बल्कि दिखावे पर आधारित होती हैं। अच्छे […]

Read More
Analysis

पर्यावरण संरक्षण के प्रति जागरूक होने का समय, पर्यावरण समस्या और समाधान

डॉ. सौरभ मालवीय भारत सहित विश्व के अधिकांश देश पर्यावरण संबंधी समस्याओं से जूझ रहे हैं। ग्रीष्मकाल में भयंकर गर्मी पड़ रही है। प्रत्येक वर्ष निरंतर बढ़ता तापमान पिछले सारे रिकॉर्ड तोड़ रहा है। देश में गर्मी के कारण प्रत्येक वर्ष हजारों लोग दम तोड़ रहे हैं। यह सब ग्लोबल वार्मिंग के कारण हो रहा […]

Read More
Analysis Uncategorized

दो टूकः एक बार फिर योगी बन गए देश में मोदी से बड़ा चेहरा

राजेश श्रीवास्तव वर्ष 2006 में खाद्य सुरक्षा कानून के तहत तत्कालीन केंद्र की मनमोहन सरकार ने एक कानून बनाया था कि दुकान खोलने वाले को अपनी दुकान से संबंधित जानकारी अपनी दुकान के बोर्ड पर डिस्पले करनी होगी और ऐसा न करने वाले को दस लाख रुपये का जुर्माना देना होगा। लेकिन इस कानून को […]

Read More