श्रमजीवी पत्रकार यूनियन उत्तर प्रदेश का तहसील ईकाई गठित

  • श्रमजीवी पत्रकार यूनियन उत्तर प्रदेश का तहसील ईकाई गठित
    अमित अध्यक्ष और सतीश उपाध्यक्ष बने

महराजगंज।श्रमजीवी पत्रकार यूनियन उत्तर प्रदेश के बैनर तले नौतनवां तहसील में तहसील इकाई का गठन हुआ जिसकी अध्यक्षता संगठन के जिलाध्यक्ष राजेश जायसवाल ( श्रमजीवी पत्रकार यूनियन उत्तर प्रदेश) ने किया। सर्वसम्मत से अध्यक्ष पद के लिए एडवोकेट अमित सिंह तथा उपाध्यक्ष पद के लिए सतीश त्रिपाठी एवं सुदेश त्रिपाठी का चयन हुआ। इसी के साथ कोषाध्यक्ष देवांशु जायसवाल एवं सचिव पद पर आकाश अग्रहरि नामित किए ग। इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में पदाधिकारियों समेत समस्त सदस्य गण को परिचय पत्र वितरित किया गया। इस मौके पर श्रमजीवी पत्रकार यूनियन के जिला अध्यक्ष राजेश जायसवाल ने पत्रकारों से अपनी राय साझा करते हुए कहा कि हम सभी पत्रकार बंधुओ को एक होकर कार्य करने की जरूरत है। कहा कि अक्सर ऐसा सामने आता रहता है कि पत्रकारों को सच्चाई लिखने पर दबाया जाता है,ऐसे में यदि संगठन के सारे पत्रकार मिलकर कार्य करें तो संगठन मजबूत स्थिति में रहेगा और तब हमें सच लिखने से कोई नहीं दबा सकता। संगठन में ताकत है

कुवैत त्रासदी: एक्शन मोड में विदेश मंत्रालय और भारतीय दूतावास, घटनास्थल पर पहुंचे राज्यमंत्री, हेल्पलाइन नंबर जारी

कि वह पत्रकारों का शोषण होने से बचाता है। वहीं नव निर्वाचित नौतनवा तहसील इकाई की अध्यक्ष अमित कुमार सिंह ने कहा कि वह संस्था की लिए हमेशा तत्पर रहेंगे एवं संस्था से जुड़े सभी सदस्यों के लिए जहां पर जरूरत होगी वहां सभी सदस्यों का नेतृत्व करते हुए उनका साथ निभाएंगे। इस मौके पर हेमंत यादव, प्रवीण कुमार जायसवाल, अजय जायसवाल, कृष्ण गुप्ता, आकाश पांडे, सतीश यादव समेत दो दर्जन पत्रकार बंधु उपस्थित रहे।

Analysis

तीन साल में योगी कितने बदल पायेंगे हालात

अजय कुमार,लखनऊ लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी को उत्तर प्रदेश में काफी नुकसान उठाना पड़ा। यूपी की वजह से केंद्र में मोदी की पूर्ण बहुमत की सरकार नहीं बन पाई,जो बीजेपी यूपी में 80 सीटें जीतने का सपना पाले हुए थी,वह 33 सीटों पर सिमट गई।बीजेपी का ग्राफ इतनी तेजी से गिरा की अब […]

Read More
Analysis

चरण सिंह के करीबी ब्रम्हदत्त की पुस्तक “फाइब हेडेड मांस्टर” में है इमरजेंसी का सच

यशोदा श्रीवास्तव 18 वीं लोकसभा के चुनाव से लेकर मोदी के नेतृत्व में सरकार गठन तक किसी एक मुद्दे को लेकर बवाल मचा तो वह था संविधान! चुनाव के दौरान कांग्रेस की ओर से संविधान की रक्षा का कंपेयन चलाया गया तो भाजपा की ओर से कांग्रेस से ही संविधान को खतरा बताया गया। मोदी […]

Read More
Analysis

बड़ा सवालः शुगर जैसी जानलेवा बीमारी की दवायें इतनी महंगी क्यों?

फार्मा कम्पनियों के रोज रेट बढ़ाने पर लगाम क्यों नही? शुगर की गोली, इन्सुलिन को जीवनरक्षक की श्रेणी में क्यों नहीं लाती सरकारें? GST से केवल राष्ट्रीय सुरक्षा ही नहीं, नागरिकों की शिक्षा, स्वास्थ्य सुरक्षा भी जरूरी विजय श्रीवास्तव भगवान के बाद धरती पर अगर किसी को भगवान का दर्जा मिला है तो वे डॉक्टर […]

Read More