मोदी मंत्रिमंडल में उचित प्रतिनिधित्व न मिलने से ब्राह्मणों में नाराजगी

मोदी मंत्रिमंडल में उचित प्रतिनिधित्व न मिलने से ब्राह्मणों में नाराजगी

लखनऊ। वर्तमान में सरकार बड़े-बड़े दावे करती है कि हम प्रबुद्ध वर्ग ब्राह्मणों को उचित सम्मान देते हुए उनके सहयोग से कार्य करेंगे परंतु सरकार का रवैया ब्राह्मणों के विरोध में प्रतीत होता है। मंत्रिमंण्डल में उचित प्रतिनिधित्व न मिलने पर अखिल भारतीय ब्रह्म समाज की एक आवश्यक बैठक केन्द्रीय कार्यालय पर आहूत की गई जिसमें संस्था के महामंत्री देवेन्द्र शुक्ल ने पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए सनातन धर्म और संस्कृति को प्रोत्साहन देने वाली सरकार को बधाई दी है, परन्तु बैठक में इस बात पर पदाधिकारियों ने रोष व्यक्त किया कि उत्तर प्रदेश के ब्राह्मणों को मंत्रिमंडल में उचित प्रतिनिधित्व नहीं दिया गया। अध्यक्ष सी पी अवस्थी ने चिंता जताई कि यदि भाजपा ने अपना रवैया नहीं बदला तो आने वाले समय में ब्राह्मण एकजुट होकर निर्णय लेने को बाध्य होगा कि अपने हित की लड़ाई के लिए क्या कदम उठाए जाएं। प्रदेश अध्यक्ष विजय त्रिपाठी ने सरकार से पुनः अनुरोध किया कि हमको उपेक्षित किया गया तो इसका परिणाम भी भुगतना पड़ेगा। सभी पदाधिकारियों ने एक स्वर में कहा कि हमें उचित कदम उठाना चाहिए।

ब्राह्मणों को एकता का परिचय दिखाना होगा: डा प्रवीण

 

सनातन महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ प्रवीण ने ब्राह्मणों का आवाहन करते हुए कहा कि राजनीति में ब्राह्मण समाज को उचित भागीदारी नहीं मिलती है। ऐसे में सनातन धर्म के प्रेरक व रक्षक ब्राह्मणों को जागरूक होकर एकता का परिचय दिखाना होगा। साथ ही अपनी राजनीतिक हिस्सेदारी के लिए संघर्ष करना होगा।

जयशंकर ने संभाला कार्यभार, विदेश मंत्रालय ने किया 2 नए राज्य मंत्रियों का स्वागत

Analysis

तीन साल में योगी कितने बदल पायेंगे हालात

अजय कुमार,लखनऊ लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी को उत्तर प्रदेश में काफी नुकसान उठाना पड़ा। यूपी की वजह से केंद्र में मोदी की पूर्ण बहुमत की सरकार नहीं बन पाई,जो बीजेपी यूपी में 80 सीटें जीतने का सपना पाले हुए थी,वह 33 सीटों पर सिमट गई।बीजेपी का ग्राफ इतनी तेजी से गिरा की अब […]

Read More
Analysis

चरण सिंह के करीबी ब्रम्हदत्त की पुस्तक “फाइब हेडेड मांस्टर” में है इमरजेंसी का सच

यशोदा श्रीवास्तव 18 वीं लोकसभा के चुनाव से लेकर मोदी के नेतृत्व में सरकार गठन तक किसी एक मुद्दे को लेकर बवाल मचा तो वह था संविधान! चुनाव के दौरान कांग्रेस की ओर से संविधान की रक्षा का कंपेयन चलाया गया तो भाजपा की ओर से कांग्रेस से ही संविधान को खतरा बताया गया। मोदी […]

Read More
Analysis

बड़ा सवालः शुगर जैसी जानलेवा बीमारी की दवायें इतनी महंगी क्यों?

फार्मा कम्पनियों के रोज रेट बढ़ाने पर लगाम क्यों नही? शुगर की गोली, इन्सुलिन को जीवनरक्षक की श्रेणी में क्यों नहीं लाती सरकारें? GST से केवल राष्ट्रीय सुरक्षा ही नहीं, नागरिकों की शिक्षा, स्वास्थ्य सुरक्षा भी जरूरी विजय श्रीवास्तव भगवान के बाद धरती पर अगर किसी को भगवान का दर्जा मिला है तो वे डॉक्टर […]

Read More