सपा नेता स्वामी प्रसाद मौर्य के रामचरितमानस पर दिए गए आपत्तिजनक बयान पर भाजपा, कांग्रेस ने जताया कड़ा ऐतराज, साधु-संतों में भी आक्रोश

समाजवादी पार्टी के नेता और एमएलसी स्वामी प्रसाद मौर्य के गोस्वामी तुलसीदास रचित रामचरितमानस पर सवाल उठाने पर भाजपा, कांग्रेस समेत तमाम साधु-सतों ने कड़ी आपत्ति जताई है। रविवार शाम को समाजवादी पार्टी के नेता स्वामी प्रसाद मौर्य ने रामचरितमानस पर विवादित टिप्पणी की थी। स्वामी प्रसाद मौर्य ने कहा था तुलसीदास द्वारा रचित रामचरितमानस के कुछ हिस्सों पर यह कहते हुए पाबंदी लगाने की मांग की है कि उनसे समाज के एक बड़े तबके का जाति, वर्ण और वर्ग के आधार पर अपमान होता है। उन्होंने कहा कि रामचरितमानस में सब बकवास है। क्या यही धर्म है, ऐसे धर्म का सत्यानाश हो। रामचरितमानस के कुछ हिस्सों पर मुझे आपत्ति है। तुलसीदास ने शुद्र को अधम जाति का कहा है। सपा नेता मौर्य के इस विवादित बयान के बाद भाजपा और कांग्रेस ने हमला बोला है। बीजेपी के ओर से प्रदेश अध्यक्ष भूपेंद्र चौधरी ने कहा, इस मामले पर सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव, शिवपाल यादव, डिंपल यादव और रामगोपाल यादव को जवाब देना चाहिए।

अब स्वामी प्रसाद मौर्य सपा में एक बड़ा नेता बनने के लिए छटपटा रहे हैं लेकिन उनकी कोई सुन नहीं रहा है। सपा ने हमारी धार्मिक गतिविधियों को बाधित करने की कोशिश की थी। सपा को यह तय करना होगा कि स्वामी प्रसाद मौर्य का बयान पार्टी का आधिकारिक बयान है या नहीं। मौर्य ने यह बयान दिया है और उन्हें इसके लिए क्षमा मांगनी चाहिए। कांग्रेस नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम ने सपा एमएलसी के बयान को घटिया बताया है। कांग्रेस नेता ने कहा, प्रतिबंध इस तरह की घटिया और बेहूदी बयानबाजी करने वाले मूर्धन्य नेताओं पर लगना चाहिए। जो रोज हिंदुओं की धार्मिक भावनाओं का अपमान करने को ही अपनी बहादुरी समझते हैं। मौर्य के बयान पर अयोध्या के संतों ने नाराजगी जताई है। श्रीरामवल्लभाकुंज के प्रमुख स्वामी राजकुमार दास ने कहा है कि स्वामी प्रसाद का मानसिक संतुलन बिगड़ गया है।

वे पिछड़े लोगों का खिसक चुका जनाधार वापस पाने के लिए बेतुका बयान दे रहे हैं। वहीं, उदासीन ऋषि आश्रम रानोपाली के महंत भरत दास ने कहा कि विरोधी राजनीति के लोग किसी भी स्तर पर चले जा रहे हैं। यह ठीक नहीं है। रामचरित मानस देव ग्रंथ है, जो हर मनुष्य के कल्याण के लिए है। इस पर अनुचित टिप्पणी करना मानवता के साथ अपराध है। बता दें कि स्वामी प्रसाद मौर्य से पहले इसी महीने 11 जनवरी को बिहार के शिक्षा मंत्री चंद्रशेखर ने भी रामचरितमानस पर आपत्तिजनक टिप्पणी की थी। चंद्रशेखर ने तुलसीदास की रामचरितमानस को समाज में नफरत फैलाने वाला बताया था। उन्होंने कहा था कि रामचरितमानस और मनुस्मृति समाज को विभाजित करने वाली पुस्तकें हैं। बयान के बाद चंद्रशेखर के खिलाफ मुजफ्फरपुर और किशनगंज जिले में हिंदू भावनाओं को ठेस पहुंचाने के आरोप में दो मामले दर्ज किए गए थे।

Raj Dharm UP

नियामक संस्थाओं और सरकार का चुप्पी साध लेना देश की जनता के लिए सबसे दुर्भाग्यपूर्ण समय : विकास श्रीवास्तव

लखनऊ। कांग्रेस प्रवक्ता विकास श्रीवास्तव ने कहा कि अमेरिकी रिसर्च फर्म हिंडनबर्ग की रिपोर्ट सामने आने के बाद भारत के मशहूर उद्योगपति गौतम अडानी की कंपनियों के शेयर में गिरावट का दौर जारी है। नियामक संस्थाओं और सरकार का चुप्पी साध लेना देश की जनता के लिए सबसे दुर्भाग्यपूर्ण समय है। वह भी जब देश […]

Read More
Raj Dharm UP

माघी पूर्णिमा स्नान पर्व के साथ कल्पवास का संकल्प पूर्ण

शाश्वत तिवारी सौभाग्य सर्वार्थ सिद्धि आयुष्मान के योग से युक्त माघी पूर्णिमा पर सुनहरे मौसम व खिलखिलाती धूप के बीच गंगा यमुना अदृश्य सरस्वती के संगम में लाखो श्रद्धालुओं ने पुण्य व आस्था की डुबकी लगायी। माघी पूर्णिमा स्नान पर्व के साथ ही कल्पवास का संकल्प पूर्ण हुआ तथा कल्पवासी अध्यात्मिक उर्जा एकत्र कर वर्षभर […]

Read More
Raj Dharm UP

फार्मा का बड़ा केंद्र बनकर उभरेगा उत्तर प्रदेश : योगी

योगी आदित्यनाथ दो दिवसीय दौरे पर पहुंचे वाराणसी फार्मा सेक्टर के नेशनल सेमिनार में योगी हुए शामिल क्वालिटी के साथ समयबद्ध तरीके से करें काम, विश्व के फार्मा बाजार पर होगा भारत का राज वाराणसी । मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने फार्मा सेक्टर से जुड़े विशेषज्ञों, स्टेक होल्डर्स, उद्यमियों को संबोधित करते हुए उत्तर प्रदेश में […]

Read More