हाथ जोड़ो अभियान में कांग्रेस से हाथ न जोड़ ले जनता!

भारत जोड़ो यात्रा के बाद कांग्रेस का नया प्रयोग


राकेश यादव


लखनऊ। कांग्रेस के नए-नए प्रयोग में कही जनता ही कांग्रेस पार्टी से हाथ न जोड़ दे। यह सवाल कांग्रेस के हाथ से हाथ जोड़ों अभियान के सामने आने से उठा है। कांग्रेस के राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा अभी समाप्त भी नहीं हो पाई कि कांग्रेस ने अगले अभियान की दस्तक देकर आम जनमानस को चौंका दिया। भारत जोड़ो यात्रा का असर तो आगामी लोकसभा चुनाव में सामने आ ही जाएगा, किंतु हाथ से हाथ जोड़ो अभियान कितना सार्थक होगा यह तो आने वाला समय ही बताएगा।

पुराने जनाधार को वापस लाने के लिए कांग्रेस आला कमान कोई कोर कसर बाकी नहीं रखना चाहता है। इसके लिए कांग्रेस का शीर्ष नेतृत्व आए दिन नए-नए प्रयोग कर रहा हैं। कांग्रेस पार्टी की आम जनता के बीच पहृुंचने के लिए वर्तमान समय में राहुल गांधी की भारत जोड़ों यात्रा चल रही है। भारत जोड़ो यात्रा अभी पूरी भी नहीं हो पाई कि तीन दिन पहले ही कांग्रेस ने एक नया अभियान हाथ से हाथ जोडऩे का कार्यक्रम घोषित कर दिया। हकीकत तो यह है कि पार्टी के नेता भी अभी इस कार्यक्रम के स्वरूप को समझ नहीं पाए। एक नेता ने तो यहां तक कह दिया कि कांग्रेस संस्कारों वाली पार्टी है, अब कार्यकर्ता लोगों के दरवाजे पर जाकर हाथ जोडक़र समर्थन देने की मांग करेगीे।

देश की सबसे बड़ी पार्टी माने जाने वाली कांग्रेस पार्टी वर्तमान समय में हाशिये पर है। पार्टी अपने खोए हुए जनाधार को वापस लाने की कसमकस में लगी हुई है। 70 साल तक देश की सत्ता पर काबिज रहने वाली कांग्रेस पार्टी आपसी गुटबाजी और पुराने कांग्रेसियों की उपेक्षा से ऐसे मुकाम पर पहुंच गई कि अब जनता उसे पूरी तरह से नकार दिया है। इन अभियानों के माध्यम से पार्टी से दूर हुए कार्यकर्ताओं और जनमानस से जुडऩा चाह रही है। अब कांग्रेस पार्टी को पुराने वर्चस्व को वापस लाने के लिए अन्य दलों के नेताओ का सहारा लेने के लिए विवश होना पड़ रहा है। कांग्रेस आला कमान जनाधार को वापस लाने की कवायदों में आगामी लोकसभा चुनाव को देखते हुए हाथ से हाथ जोडऩे के कार्यक्रम की घोषणा कर जनता को लुभाने के लिए एक नया खेला है। कहीं ऐसा न हो कि कांग्रेसी हाथ से हाथ जोड़ते ही रहे और जनता ही पार्टी से हाथ जोड़ ले।

संस्कारों वाली पार्टी कांग्रेस

कांग्रेस के नए अभियान हाथ से हाथ जोड़ो के बाबत जब प्रदेश कांग्रेस के एक प्रवक्ता से बातचीत की गई। तो उन्होंने बताया कि कांग्रेस संस्कारों वाली पार्टी है। राहुल गांधी के भारत जोड़ों अभियान की भारी सफलता के बाद अब पार्टी जनता से जुडऩे के लिए जनताा के दरवाजे पर जाकर हाथ जोडक़र समर्थन मांगेगी। इन अभियानों के माध्यम से पार्टी पुराने जनाधार को वापस लाने की कवायद है।

Raj Dharm UP

संघर्ष समिति की लम्बी वार्ता के बाद सार्थक निर्णयों के साथ चार फरवरी का प्रस्तावित सांकेतिक विरोध स्थगित

लखनऊ। विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति, उप्र ने अपर मुख्य सचिव (ऊर्जा) महेश गुप्त के साथ तीन फरवरी को रात हुई लम्बी वार्ता के बाद, समस्याओं का सार्थक निराकरण होने के साथ चार फरवरी को होने वाले प्रदेशव्यापी विरोध प्रदर्शन को स्थगित कर दिया है। वार्ता में प्रबन्धन की ओर से चेयरमैन एम. देवराज, प्रबन्ध […]

Read More
Raj Dharm UP

महाप्राण निराला की रचना ‘राम की शक्तिपूजा’ मंच पर नौटंकी रूप में

‘कथा बस राम रावण की नहीं, मुक्त सीता करानी है…. लखनऊ। अपनी सीतारूपी भारतीय और सनातनी संस्कृति को अपहरण और क्षरण से बचाना है तो हमें राम की तरह जूझते हुए इसे बचाना होगा। ये संदेश छायावादी महाकवि सूर्यकांत त्रिपाठी निराला की रची अमूल्य काव्य रचना- ‘राम की शक्ति पूजा’ का लोक नाट्य विधा नौटंकी […]

Read More
Raj Dharm UP

रोजगार पर उत्तर प्रदेश की योगी सरकार जरा भी गंभीर नहीं : कांग्रेस

मनरेगा बजट में कटौती का सबसे ज्यादा नुकसान उत्तर प्रदेश को उठाना पड़ेगा। ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट पहले कोई इन्वेस्टर समिट की तरह रोजगार देने में असफल रहेगी लखनऊ। उत्तर प्रदेश में 24 करोड़ की आबादी है और चुनाव के लिए 15 करोड़ लोगों को पांच किलो राशन का वादा किया जा रहा है। जिस प्रदेश […]

Read More