तंत्र ज्योतिष में चन्द्रमा का महत्व

  • सुख-शांति का कारक है चन्द्रमा

जयपुर से राजेंद्र गुप्ता


चन्द्रमा को वैसे तो सुख-शांति का कारक माना जाता है…लेकिन यही चन्द्रमा जब उग्र रूप धारण कर ले तो प्रलयंकर स्वरूप दिखता है। तंत्र ज्योतिष में तो यह कहावत है कि चन्द्रमा का पृथ्वी से ऐसा नाता है कि मानो मां-बेटे का संबंध हो, जैसे बच्चे को देखकर मां के दिल में हलचल होने लगती है, वैसे ही चन्द्रमा को देखकर पृथ्वी पर हलचल होने लगती है, चन्द्रमा जिसकी सुन्दरता से मुग्ध हो कवि रसीली कविताओं और गीतों का सृजन करते हैं, वहीं भारतीय तंत्र शास्त्र इसे शक्तियां अर्जित करने का समय मानता है।

आकाश में पूरा चांद निकलते ही कई तांत्रिक सिद्घियां प्राप्त करने में जुट जाते हैं। चन्द्रमा प्राकृतिक तौर पर बहुत सूक्ष्म प्रभाव डालता है जिसे साधारण तौर से नहीं आंका जा सकता, लेकिन कई बार यह प्रभाव बहुत बढ़ जाता है जिसके कई कारण हो सकते हैं। ज्योतिष शास्त्र इसके संबंध में कहता है कि चन्द्रमा का आकर्षण पृथ्वी पर भूकंप, समुद्री आंधियां, तूफानी हवाएं, अति वर्षा, भूस्खलन आदि लाता हैं। रात को चमकता पूरा चांद मानव सहित जीव-जंतुओं पर भी गहरा असर डालता है।

शास्त्रों के अनुसार भी चन्द्रमा मन का कारक है। चन्द्रमा दिल का स्वामी है। चांदी की तरह चमकती रात चन्द्रमा का विस्तार राज्य है। इसका कार्य सोने चांदी का खजाना शिक्षा और समृद्घि व्यापार है। चन्द्रमा के घर शत्रु ग्रह भी बैठे तो अपने फल खराब नहीं करता। प्रकृति की हलचल में चंद्र के प्रभाव विशेष होते हैं। चन्द्रमा से ही मनुष्य का मन और समुद्र से उठने वाली लहरे दोनों का निर्धारण होता है। माता और चंद्र का संबंध भी गहरा होता है। मूत्र संबंधी रोग, दिमागी खराबी, हाईपर टेंशन, हार्ट अटैक यह सभी चन्द्रमा से संबंधित रोग है।


ज्योतिषी और हस्तरेखाविद/ सम्पर्क करने के लिए मो. 9611312076 पर कॉल करें,


 

Religion

मंगल ग्रह जातक के जीवन पर क्या प्रभाव डालता है, जानिए इसके बारे में…

डॉ उमाशंकर मिश्रा मंगल ग्रह जातक के जीवन पर बहुत ही प्रभाव डालता है। अक्सर मंगलीक लड़का या लड़की दोनों को ही मंगलीक लड़का या लड़की से शादी करवाने की सलाह दी जाती है। मंगल ग्रह लाल वर्ण का होता है। सूर्य, शनि व मंगल की युति हो तो मंगल नेगेटिव प्रभाव देता है। जातक […]

Read More
Religion

राज खोलता है स्त्री की कुंडली का सप्तम भाव

जयपुर से राजेंद्र गुप्ता जन्मकुंडली का सप्तम भाव अत्यंत महत्वपूर्ण होता है। यह वैवाहिक और दांपत्य सुख का दर्पण होता है। सप्तम भाव से किसी स्त्री या पुरुष के संबंधों के बारे में विचार किया जाता है। स्त्री की कुंडली के सप्तम भाव से उसके पति का और पुरुष की कुंडली के सप्तम भाव से […]

Read More
Religion

जन्मपत्रिका में अष्टम भाव की भूमिका,किया जाता है आकस्मिक धन प्राप्ति का विचार

जयपुर से राजेंद्र गुप्ता जितने भी सफल व्यक्ति हुए उनमें से अनेक व्यक्तियों की जन्मपत्रियों में अष्टमेश का संबंध पंचम अथवा लग्न पंचम अथवा लग्न भाव से रहा है। ऐसे योग वाले व्यक्तियों के पास कोई न कोई कला अवश्य रहती है जो उन्हें ईश्वर से उपहार स्वरूप प्राप्त होती है। प्राय: ज्योतिष में अष्टम […]

Read More