साल का पहला प्रदोष व्रत जानिए शुभ मुहूर्त,पूजा विधि और शुभ महत्व…

जयपुर से राजेंद्र गुप्ता


हिंदू धर्म में प्रदोष व्रत का विशेष महत्व होता है। प्रदोष व्रत को त्रयोदशी व्रत भी कहते हैं। प्रदोष व्रत में भगवान शिव की विधि पूर्वक पूजा-उपासना की जाती है। पंचांग के अनुसार, साल 2023 का पहला प्रदोष व्रत 4 जनवरी 2023 दिन बुधवार को है। यह प्रदोष व्रत पौष माह के शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी को पड़ रहा है।

पौष प्रदोष व्रत की तिथि

पंचांग के अनुसार, 3 जनवरी 2023 दिन मंगलवार  को 01 बजकर 1 मिनट PM से पौष माह के शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी तिथि शुरू हो रही है। इस तिथि का समापन 5 जनवरी 2023 गुरूवार को 12:00 बजे AM होगा। प्रदोष व्रत की पूजा सूर्यास्त के बाद करने का विधान है। ऐसे में प्रदोष पूजा का मुहूर्त 4 जनवरी 2023 को प्राप्त हो रहा है। इसलिए यह पौष प्रदोष व्रत 4 जनवरी को रखा जाएगा।

प्रदोष व्रत का पूजा मुहूर्त

पौष प्रदोष व्रत की पूजा का शुभ समय 4 जनवरी को शाम को 5 बजकर 37 मिनट से 8 बजकर 21 मिनट तक है। ऐसे में व्रती को प्रदोष व्रत पूजा के लिए 2 घंटे 43 मिनट का समय प्राप्त हो रहा है।

पौष प्रदोष व्रत पूजा मुहूर्त : 4 जनवरी को शाम 05:37 PM से 08:21 PM

प्रदोष व्रत पूजा मुहूर्त की अवधि : 02 घंटे 43 मिनट,

मंगलवार का ज्योतिषीय महत्व

पौष प्रदोष व्रत की पूजा विधि

भक्त प्रदोष व्रत के दिन प्रात: काल उठकर स्नान आदि करके साफ़ वस्त्र धारण करें और पूजा स्थल पर जाकर भगवान शिव के समक्ष व्रत का संकल्प लें।

अब भोलेनाथ का जलाभिषेक करें। संध्या काल में शुभ मुहूर्त में घर में शिवलिंग का जलाभिषेक कर उनकी विधि पूर्वक पूजा करें।

पूजा के दौरान भगवान शिव को गंगाजल, दूध, दही, घी, शहद, चढ़ाएं और सफेद चंदन से शिवलिंग पर त्रिपुंड बनाएं। अक्षत, भस्म, धतूरा, बेलपत्र, भांग, शमी पत्र भी अर्पित करें।

अब 11 बार ‘ऊँ नमः शिवाय’ मंत्र का जाप कर शिव चालीसा का पाठ करें। मान्यता है ऐसा करने से शत्रुओं पर विजय प्राप्त होगी।

अंत में आरती करें और व्रत का पारण सात्विक भोजन से करें।

पौष प्रदोष व्रत का महत्व

यह प्रदोष व्रत पौष माह का दूसरा प्रदोष व्रत है। धार्मिक मान्यता है कि प्रदोष व्रत सुख और समृद्धि को बढ़ाने वाला होता है। इस दिन व्रत करने तथा भगवान भोलेनाथ की पूजा अर्चना करने से धन, संपत्ति, वैभव और सभी प्रकार के भौतिक सुख-सुविधाओं की प्राप्ति होती है।


ज्योतिषी और हस्तरेखाविद/ सम्पर्क करने के लिए मो. 9611312076 पर कॉल करें,


 

Religion

मंगल ग्रह जातक के जीवन पर क्या प्रभाव डालता है, जानिए इसके बारे में…

डॉ उमाशंकर मिश्रा मंगल ग्रह जातक के जीवन पर बहुत ही प्रभाव डालता है। अक्सर मंगलीक लड़का या लड़की दोनों को ही मंगलीक लड़का या लड़की से शादी करवाने की सलाह दी जाती है। मंगल ग्रह लाल वर्ण का होता है। सूर्य, शनि व मंगल की युति हो तो मंगल नेगेटिव प्रभाव देता है। जातक […]

Read More
Religion

राज खोलता है स्त्री की कुंडली का सप्तम भाव

जयपुर से राजेंद्र गुप्ता जन्मकुंडली का सप्तम भाव अत्यंत महत्वपूर्ण होता है। यह वैवाहिक और दांपत्य सुख का दर्पण होता है। सप्तम भाव से किसी स्त्री या पुरुष के संबंधों के बारे में विचार किया जाता है। स्त्री की कुंडली के सप्तम भाव से उसके पति का और पुरुष की कुंडली के सप्तम भाव से […]

Read More
Religion

जन्मपत्रिका में अष्टम भाव की भूमिका,किया जाता है आकस्मिक धन प्राप्ति का विचार

जयपुर से राजेंद्र गुप्ता जितने भी सफल व्यक्ति हुए उनमें से अनेक व्यक्तियों की जन्मपत्रियों में अष्टमेश का संबंध पंचम अथवा लग्न पंचम अथवा लग्न भाव से रहा है। ऐसे योग वाले व्यक्तियों के पास कोई न कोई कला अवश्य रहती है जो उन्हें ईश्वर से उपहार स्वरूप प्राप्त होती है। प्राय: ज्योतिष में अष्टम […]

Read More