कविता: अप्रतिम संदेश का देश भारत

कर्नल आदि शंकर मिश्र
कर्नल आदि शंकर मिश्र

उत्तुंग हिमालय शीश बन खड़ा,
सागर वंदन करे चरण रज धोकर,
पर्वतराज ऊँचा उठने को कहता है,
सागर दिखलाता गहरे लहराकर।

सोच समझ है अति ऊँची गहरी,
भाव समर्पण का पावन आदर,
शिखर शिखर पर सूर्य रश्मियाँ,
उषा किरण संग भाल उठाकर।

हमें सोच समझ है ये जो कहती हैं,
उठती गिरती सुतरल विचलित तरंग,
हृदय अंक में भर लो अपने जी भर,
खट्टी मीठी सुमधुर बिखरती उमंग।

ऐसा नव वर्ष 2023 मिले आपको

धरा धैर्य धर स्थिर रहना सिखलाती,
पर्वत मस्तक पर धरकर ज्ञान ध्यान ,
नभ में भारत के है सुरभित शोभित,
गौरव शाली, विजयी स्वाभिमान।

विश्व गुरू थे हम और अब भी हैं,
मस्तक, सीना तानकर खड़े हुये,
बुरी नज़र से आँख उठाकर देख
सके इतना तो दम अब है किसमें।

श्रीराम, श्रीकृष्ण की पावन धरती,
धर्म हेतु लेते हैं हर युग में अवतार,
गौतम, अशोक, नानक, गांधी क्रम
से सबने किया है भारत का उद्धार।

हिंदू, मुस्लिम, सिख, ईसाई हिल
मिल करते अपने भारत से प्यार,
जब भी आँख उठायें देश दुश्मन
सभी एक हो करें दुश्मन पर वार।

जब धोखे बाज़ी करी कपटी चीन ने,
नेहरू ने डट लड़ने को ललकारा था,
नापाक पाक को धूल चटा शास्त्री ने
इंदिरा ने बाँग्लादेश बना डाला था।

अटल बिहारी जी ने फिर एक बार
पाकिस्तान को धर ललकारा था,
कारगिल का छद्म युद्ध भारत ने लड़
दुश्मन का दम खम तोड़ डाला था।

दुनिया भर के कायर दुश्मनों संभल
जाओ, भारत से पंगा कभी नहीं लेना,
आदित्य विश्वगुरू, विश्व विजेता हैं
हम भी, हमसे टकराहट मत लेना।

 

Litreture

 हमने बिसराया और दुनिया ने अपनाया

बात 1959 या 60 की है। भारत के लेखकों का एक प्रतिनिधिमंडल ईरान गया था। उस समय ईरान में शाह का शासन था और भारतीय प्रतिनिधिमंडल के कार्यक्रमों में ईरान के शाह से भी मिलने का कार्यक्रम था। शाह से मुलाकात के दौरान एक भारतीय लेखक ने कहा- ” हमारी लंबी गुलामी ने हमें आर्थिक […]

Read More
Litreture

कविता: विश्वास खोना बहुत आसान होता है,

एक तरफ़ सच्चे सीधे लोग होते हैं, आरोपों को सहन नहीं कर पाते हैं, दूसरी ओर वो हैं जिनके पास झूठे आरोप लगाने के अनेकों हुनर होते हैं। पर देखा यह जाता है कि नफ़रत करने वालों को बहुत मज़ा आता है, वे औरों को परेशान करते रहते हैं, पर ज़िंदादिल फिर भी हँसते रहते […]

Read More
Litreture

कविता : मीडिया को ये ज़िम्मेदारी लेनी होगी

आजकल टीवी सीरियल, फ़िल्में और सोसल मीडिया भी अनैतिक शिक्षा के नैतिक स्कूल बन गये हैं, कैसे कैसे दृश्य यहाँ परोस रहे हैं। हिंसा ताण्डव, अशोभनीय संवाद, अपहरण, बलात्कार,चोरी,डकैती और न जाने क्या क्या फूहड़पन, यहाँ देखते हैं बूढ़े, युवा और बचपन। फ़िज़ूल खर्च, सुगम तलाक़, घरेलू कलह,अवैध सम्बंध दिखाये जा रहे हैं, यह सब […]

Read More