कुंडली के ये योग व्यक्ति को बनाते हैं पागल

जयपुर से राजेंद्र गुप्ता


ज्योतिष के अनुसार कुंडली में कुछ ऐसे योग होते हैं जो व्यक्ति के पागल होने की संभावना बताते हैं। पागलपन की बीमारी किसी को बचपन से ही रहती है तो किसी को बड़ी उम्र में इस परेशानी का सामना करना पड़ता है। यदि किसी व्यक्ति की कुंडली में पागल होने के योग बन रहे हैं तो ऐसे लोगों को सावधान रहने की जरुरत होती है। ऐसे योगों के अशुभ प्रभावों को दूर करने के लिए ज्योतिष शास्त्र के अनुसार बताए गए उपाय अपनाने चाहिए। वैसे तो कुंडली में सभी नौ ग्रह अपनी-अपनी प्रकृति के अनुसार किसी ना किसी रोग की सूचना देते हैं, लेकिन कुंडली में दो या दो से अधिक ग्रहों कि युति अपना अलग प्रभाव प्रकट करती है। यह युति रोगों को और जटिल बना देती है। हम आपको कुंडली में ग्रहों के कुछ ऐसे योग बताएंगे जो पागलपन की बीमारी के योग बताते हैं।

 

  1. जब किसी व्यक्ति की कुंडली में यदि बुध-मंगल एक साथ हों तो ऐसे व्यक्ति को खून से जुड़ा रोग होता है। साथ ही जब मंगल के कारण बुध ज्यादा खराब हो तो यह ब्‍लड प्रेशर की परेशानी देता है। मंगल-बुध दोनों के बहुत अधिक खराब होने की स्‍थिति में व्यक्ति को पागलपन की बीमारी हो जाती है।
  2. यदि किसी व्यक्ति की कुंडली में चंद्र, बुध की युति केंद्र स्थान में बन रही हो या यह दोनों ग्रह लग्न भाव में स्थित हो तो व्यक्ति उन्मादी या अल्पबुद्धि वाला हो सकता है।
  3.  जब व्यक्ति की कुंडली के भाग्य एवं संतान भाव में सूर्य, चंद्र हो तो व्यक्ति का मानसिक विकास ठीक से तरिके से नहीं हो पाता और वह मानसिक रुप से कमजोर रह जाता है।
  4. यदि कुंडली में मंगल सप्तम स्थान में हो तथा लग्न में गुरु हो तो व्यक्ति के किसी सदमे के कारण पागल होने की आशंका होती है।
  5. यदि कुंडली में गुरु और शनि केंद्र में स्थित हो और शनिवार या मंगलवार का जन्म हो तो व्यक्ति पागल हो सकता है।

यदि कुंडली में सूर्य-मंगल एक साथ हों अथवा सूर्य-शनि एक साथ हो या फिर सूर्य-शनि और मंगल एक साथ हों तो ऐसे व्यक्ति को क्रोध बहुत अधिक आता है। और इस स्थिती में वह व्यक्ति अपने गुस्से को कंट्रोल नहीं कर पाते। कुंडली के इन योगों के साथ कुछ परिस्थितियों में दूसरे ग्रहों के प्रभाव ये अशुभ फल अपने आप ही नष्ट हो जाते हैं। पूरी कुंडली व ग्रहों का अध्ययन किए बिना कीसी भी कुंडली के व्यक्ति की भविष्यवाणी नहीं की जा सकती।

ये हैं पागलपन से बचने के कुछ उपाय

 

  1. किसी विशेषज्ञ ज्योतिषी से परामर्श लेकर अशुभ योगों का ज्योतिषीय उपचार करवाना चाहिए।
  2. प्रतिदिन गौमूत्र का सेवन करना अच्छा होगा।
  3. बुध के मंत्रों का जाप करें।
  4. हर दिन शिवजी की विधि-विधान से पूजा करें इससे मानसिक शांति मिलती है।
  5. बुधवार के दिन गाय को चारा खिलाएं।
  6. हनुमान चालीसा का पाठ करने से अच्छे परिणाम मिलते हैं।

ज्योतिषी और हस्तरेखाविद/ सम्पर्क करने के लिए मो. 9611312076 पर कॉल करें,


Religion

मंगल ग्रह जातक के जीवन पर क्या प्रभाव डालता है, जानिए इसके बारे में…

डॉ उमाशंकर मिश्रा मंगल ग्रह जातक के जीवन पर बहुत ही प्रभाव डालता है। अक्सर मंगलीक लड़का या लड़की दोनों को ही मंगलीक लड़का या लड़की से शादी करवाने की सलाह दी जाती है। मंगल ग्रह लाल वर्ण का होता है। सूर्य, शनि व मंगल की युति हो तो मंगल नेगेटिव प्रभाव देता है। जातक […]

Read More
Religion

राज खोलता है स्त्री की कुंडली का सप्तम भाव

जयपुर से राजेंद्र गुप्ता जन्मकुंडली का सप्तम भाव अत्यंत महत्वपूर्ण होता है। यह वैवाहिक और दांपत्य सुख का दर्पण होता है। सप्तम भाव से किसी स्त्री या पुरुष के संबंधों के बारे में विचार किया जाता है। स्त्री की कुंडली के सप्तम भाव से उसके पति का और पुरुष की कुंडली के सप्तम भाव से […]

Read More
Religion

जन्मपत्रिका में अष्टम भाव की भूमिका,किया जाता है आकस्मिक धन प्राप्ति का विचार

जयपुर से राजेंद्र गुप्ता जितने भी सफल व्यक्ति हुए उनमें से अनेक व्यक्तियों की जन्मपत्रियों में अष्टमेश का संबंध पंचम अथवा लग्न पंचम अथवा लग्न भाव से रहा है। ऐसे योग वाले व्यक्तियों के पास कोई न कोई कला अवश्य रहती है जो उन्हें ईश्वर से उपहार स्वरूप प्राप्त होती है। प्राय: ज्योतिष में अष्टम […]

Read More