चीन में खुद को हीरो साबित करने के लिए भारत के खिलाफ बड़ी साजिश कर रहे राष्‍ट्रपति शी जिनपिंग!

उमेश तिवारी


काठमांडू / नेपाली। चीन के राष्‍ट्रपति शी जिनपिंग इस समय काफी परेशान हैं। एक तरफ देश में कोविड-19 की वजह से हालात बेकाबू हैं तो दूसरी तरफ वास्‍तविक नियंत्रण रेखा पर भारतीय सेना आक्रामक बनी हुई है। उनका तीसरा कार्यकाल अभी शुरू भी नहीं हुआ है और चुनौतियां पहले ही राक्षस की तरह खड़ी हैं। चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने हाल ही में पांच और वर्षों के लिये देश की कमान संभाली है। भारत के साथ रिश्तों पर जमी बर्फ के नए साल में पिघलने के आसार कम ही हैं। यांंग्‍त्‍से झड़प से रिश्तों में आई तल्खी को दूर करने के प्रयास प्रभावित हो सकते हैं

जिनपिंग के सामने इस समय दोहरी चुनौतियां

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने हाल ही में पांच और वर्षों के लिये देश की कमान संभाली है लेकिन इसके कुछ ही हफ्तों के भीतर अरुणाचल प्रदेश के यांग्त्से में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच इस महीने की शुरुआत में हुई झड़प के बाद दोनों देशों के रिश्तों पर जमी बर्फ के नए साल में पिघलने के आसार कम ही हैं। चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) द्वारा वर्ष 2020 में पूर्वी लद्दाख में यथास्थिति को बदलने की कोशिशों के बाद से बीजिंग और नयी दिल्ली के रिश्ते तनावपूर्ण हो गए हैं। यांग्त्से में चीन के सैकड़ों सैनिकों ने वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के इस पार भारतीय सीमा में अतिक्रमण करने की असफल कोशिश की थी। क्षेत्र में दोनों देशों के सैनिकों के बीच हुई झड़प से रिश्तों में आई तल्खी को दूर करने के प्रयास प्रभावित हो सकते हैं। दोनों देश हाल ही में 16 दौर की बातचीत के जरिये पूर्वी लद्दाख में कई बिंदुओं से सैन्य वापसी पर सहमति बनाने में कामयाब रहे थे।

नेतन्याहू ने गठबंधन सरकार बनाने में सफल रहने का किया दावा

चीनी सैनिकों की पिटाई

अरुणाचल प्रदेश के तवांग सेक्टर के यांग्त्से में नौ दिसंबर को हुई झड़प पर संसद में दिए बयान में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा था, ‘भारतीय सेना ने बहादुरी से पीएलए को हमारे क्षेत्र में अतिक्रमण करने से रोका और उन्हें अपनी चौकियों पर वापस जाने के लिए मजबूर किया। इस झड़प में दोनों पक्षों के कुछ सैनिकों को चोटें आई हैं।’ चीनी विदेश मंत्रालय ने जहां भारत के साथ सीमा पर स्थिति ‘सामान्यत: स्थिर’ होने की बात कही थी। वहीं, पीएलए के पश्चिमी थिएटर कमान के प्रवक्ता एवं वरिष्ठ कर्नल लॉन्ग शाओहुआ ने एक बयान में दावा किया था कि संघर्ष उस समय हुआ, जब भारतीय सैनिकों ने एलएसी पर चीनी सीमा में नियमित गश्त कर रहे उसके जवानों को रोका। लॉन्ग ने कहा था, ‘ हमारे सैनिकों की प्रतिक्रिया पेशेवर, दृढ़ और मानक के अनुरूप थी, जिससे स्थिति को नियंत्रित करने में मदद मिली। तब से दोनों पक्ष पीछे हटने लगे हैं।’

चीन की आक्रामक नीति

पर्यवेक्षकों का कहना है कि पीएलए का बयान संकेत देता है कि चीनी सेना 3,488 किलोमीटर लंबी गैर-सीमांकित एलएसी पर प्रमुख बिंदुओं पर कब्जा करने के लिए सैकड़ों सैनिकों को गश्त पर भेजने की अपनी लद्दाख में अपनाई गई रणनीति जारी रख सकती है। यह जून 2020 में गलवान घाटी में भारत और चीन के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प के बाद दोनों देशों के जवानों में हुआ सबसे बड़ा संघर्ष था। गलवान में झड़प के बाद भारत और चीन के रिश्तों में दरार बढ़ गई थी। भारत ने स्पष्ट किया था कि सीमा पर शांति और सद्भाव द्विपक्षीय संबंधों के समग्र विकास के लिए अनिवार्य है।
यांग्त्से की घटना राजनीतिक रूप से भी अहम है, क्योंकि यह अक्टूबर में राष्ट्रपति जिनपिंग के अभूतपूर्व रूप से पांच साल के तीसरे कार्यकाल के लिए चुने जाने के बाद भारत-चीन सीमा पर हुई पहली बड़ी घटना थी। सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना (CPC) ने जिनपिंग को चीन के सर्व-शक्तिशाली केंद्रीय सैन्य आयोग (CMC) के अध्यक्ष के रूप में भी फिर से नियुक्त किया था, जो पीएलए की समग्र उच्च कमान है।

भारत-चीन: बातचीत जारी रहेगी, सैन्य/डिप्लोमेटिक तरीके से होगा समाधान

जिनपिंग का तीसरा कार्यकाल

जिनपिंग के तीसरे कार्यकाल में चीन में नए मंत्री और अधिकारी भी अहम पद संभालते नजर आएंगे। इनमें एक नए विदेश मंत्री की नियुक्ति शामिल है, क्योंकि मौजूदा समय में इस पद को संभाल रहे वांग यीन को पदोन्नत कर सीपीसी के उच्च स्तरीय राजनीतिक ब्यूरो में भेज दिया गया है। वांग और भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) अजित डोभाल भारत-चीन सीमा तंत्र के विशेष प्रतिनिधि हैं, जो सीमा पर हाल ही में पैदा हुए गतिरोध के बाद निष्क्रिय है। अगले साल मार्च में चीन की संसद ‘नेशनल पीपुल्स कांग्रेस’ के वार्षिक सत्र के बाद नया मंत्रिमंडल और अधिकारी अपना कार्यभार संभालेंगे। भारत और चीन के विवाद वाले कई बिंदुओं से अपने सैनिकों को वापस बुलाने के लिए सहमत होने के बाद यांग्त्से में पीएलए द्वारा उठाए गए कदम को चीनी नेताओं और सैन्य अधिकारियों में व्याप्त उस दुविधा के प्रतिबिंब के रूप में देखा जा रहा है कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर लगातार अपनी मौजूदगी बढ़ा रहे भारत से कैसा निपटा जाए।

चीन को बदलनी होगी नीति

भारत शंघाई सहयोग संगठन (SCO) का मौजूदा अध्यक्ष है। वह अगले साल आठ देशों वाले इस समूह के शासनाध्यक्षों की मेजबानी करने को तैयार है। भारत प्रतिष्ठित जी-20 नेताओं के शिखर सम्मेलन की मेजबानी के लिए भी कमर कस रहा है। चीन इन दोनों ही समूहों का सदस्य है। इसके अलावा, भारत ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) में अपनी दो साल की अस्थायी सदस्यता (2021 और 2022) के दौरान अंतरराष्ट्रीय स्तर पर काफी लोकप्रियता अर्जित की है। विदेश मंत्री एस जयशंकर ने वर्ष 2028-29 में भी UNSC की अस्थायी सदस्यता के लिए भारत की दावेदारी पेश कर दी है।

चीन की मुसीबत

पर्यवेक्षकों का कहना है कि चीन को भारत के संबंध में अपनी नीति पर पुनर्विचार करना चाहिए, वरना वह ऐसे समय में नयी दिल्ली के साथ झड़प में उलझा रहेगा, जब ‘शून्य-कोविड’ नीति के चलते उसकी अर्थव्यवस्था बेहद मुश्किल दौर से गुजर रही है और ताइवान एवं दक्षिण चीन सागर से जुड़े विवादों को लेकर बीजिंग और वाशिंगटन के बीच तनाव लगातार बढ़ रहा है।

International

लुंबिनी विकास कोष के उपाध्यक्ष ने किया मोरारी बापू का स्वागत

गौतम बुद्ध का दर्शन पाना मेरे लिए सौभाग्य की बात: मोरारी बापू उमेश तिवारी लुंबिनी/नेपाल। नेपाल के लुंबिनी में रामकथा करने के लिए सोमवार को पहुंचे मोरारी बापू ने भगवान गौतम बुद्ध के जन्मस्थली माया देवी मंदिर का दर्शन किया। बुद्ध जन्मस्थली का दर्शन करने के बाद मोरारी बापू ने कहा कि गौतम बुद्ध की […]

Read More
International National

कनाडा की विदेश मंत्री “मेलानी जोली” का भारत दौरा

शाश्वत तिवारी कनाडा की विदेश मंत्री मेलानी जोली भारत यात्रा के दौरान अपने भारतीय समकक्ष डॉ. एसo जयशंकर के साथ द्विपक्षीय वार्ता करेंगी। मंत्रालय की माने तो दोनों विदेश मंत्रियों के बीच एहम मुद्दों को लेकर द्विपक्षीय वार्ता होगी। कनाडा की विदेश मंत्री मेलानी जोली भारत की दो दिवसीय यात्रा पर सोमवार को नई दिल्ली […]

Read More
International Purvanchal

बौद्ध धर्म से जुड़े संगठनों ने लुंबिनी में राम कथा के विरोध में किया प्रदर्शन

कई संगठनों ने किया रामकथा प्रवचन का समर्थन उमेश तिवारी नौतनवा /महराजगंज। बौद्ध धर्म से जुड़े संगठनों ने नेपाल के लुंबिनी में होने वाले रामकथा प्रवचन के विरोध में प्रदर्शन किया है। रुपन्देही जिले के भैरहवा में सड़क पर उतर कर बौद्ध धर्म के अनुयायियों ने मंगलवार से होने वाले राम कथा के विरोध प्रदशर्न […]

Read More