जानिए प्रतिदिन कौन-कौन से काल  पड़ते हैं

2.अरुणोदय काल : सूर्योदय से 1 घंटा 12 मिनट पूर्व का समय अरुणोदयकाल होता है!

3.उषाकाल : सूर्योदय से 2 घंटा पूर्व का समय उषाकाल कहलाता है!

4. अभिजित_काल : दोपहर से 24 मिनट पहले से 24 मिनट बाद तक का समय अभिजित काल कहलाता है, परन्तु बुधवार को वर्जित होता है!

5. प्रदोषकाल : सूर्यास्त के 48 मिनट बाद तक का समय प्रदोषकाल होता है!

 6. गोधूलिकाल : सूर्यास्त के 24 मिनट पहले तथा 24 मिनट बाद तक का समय!

7. राहुकाल : प्रतिदिन डेढ़-डेढ़ घंटे का होता है! रविवार को सायं 4.30 से 6 तक, सोमवार को प्रात: 7.30 से 9 तक, मंगलवार को दोपहर 3 से 4.30 तक, बुधवार को दोपहर 12 से 1.30 तक, गुरुवार को दोपहर 1.30 से 3 तक, शुक्रवार को प्रात: 10.30 से 12 तक, शनिवार को प्रात: 9 से 10.30 तक! राहुकाल को प्रत्येक शुभ कार्य के लिए त्याग देना चाहिए!

8. गुलिक_काल : प्रतिदिन डेढ़-डेढ़ घंटे का होता है! रविवार को दोपहर 3 से 4.30 तक, सोमवार को दोपहर 1.30 से 3 तक, मंगलवार को दोपहर 12 से 1.30 तक, बुधवार को प्रात: 10.30 से 12 तक, गुरुवार को प्रात: 9 से 10.30 तक, शुक्रवार को प्रात: 7.30 से 9 तक, शनिवार को प्रात: 6 से 7.30 बजे तक होता है ! कुछ विशेष कार्यो में यह समय त्याज्य होता है!

9. यमघंट_काल : यह भी प्रतिदिन डेढ़-डेढ़ घंटे का होता है ! रविवार को दोपहर 12 से 1.30, सोमवार को प्रात: 10.30 से 12, मंगलवार को प्रात: 9 से 10.30 तक, बुधवार को प्रात: 7.30 से 9 तक, गुरुवार को प्रात: 6 से 7.30 तक, शुक्रवार को दोपहर 3 से 4.30 तक, शनिवार को दोपहर 1.30 से 3 बजे तक ! यमघंट काल को भी शुभ कार्यो में त्याग देना चाहिए

10. मध्याह्न_काल : सूर्योदय से सूर्यास्त के समय के ठीक मध्य में पड़ने वाले समय को मध्याह्न काल कहते हैं! यह प्रतिदिन बदलता रहता है!

Religion

शारीरिक विशेषताओं से जानिए सौभाग्य

जयपुर से राजेंद्र गुप्ता कहते हैं किसी इंसान को देखकर ही उसकी चारित्रिक विशेषताओं का आकलन किया जा सकता है। चेहरा हमारे व्यक्तित्व और स्वभाव का प्रतिनिधित्व करता है। मन के भीतर जो भाव चलते हैं वही चेहरे पर प्रतिबिंबित होते हैं। आइए जानते हैं ज्योतिष के आधार पर मस्तक और बाल की प्रकृति से […]

Read More
Religion

क्या होता है ऋणबंधन? क्या पितरों का ऋण न चुकाने पर मिलता है श्राप?

प्रत्येक मनुष्य जातक पर उसके जन्म के साथ ही तीन प्रकार के ऋण अर्थात देव ऋण, ऋषि ऋण और मातृपितृ ऋण अनिवार्य रूप से चुकाने बाध्यकारी हो जाते है। जन्म के बाद इन बाध्यकारी होने जाने वाले ऋणों से यदि प्रयास पूर्वक मुक्ति प्राप्त न की जाए तो जीवन की प्राप्तियों का अर्थ अधूरा रह […]

Read More
Religion

बसंत पंचमी पर कैसे करें पूजा, जानिए विधि और उपाय

डॉ उमाशंकर मिश्र बसंत पंचमी को बेहद ही खास माना जाता है ये दिन माता सरस्वती की पूजा आराधना को समर्पित होता है धार्मिक पंचांग के अनुसार माघ मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को बसंत पंचमी मनाई जाती है । मां सरस्वती का अवतरण माघ मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को […]

Read More