कविता : पुरुष को सजाया स्वयं प्रकृति ने,

कर्नल आदि शंकर मिश्र
कर्नल आदि शंकर मिश्र

पुरुष को सजाया स्वयं प्रकृति ने,
स्त्रियाँ तो काँच का टुकड़ा होती हैं,
शृंगार की चमक पड़ने पर ही वे
सुंदर और खूबसूरत दिखती हैं।

परंतु पुरुष वह हीरा होता है,
जो अँधेरे में भी चमकता है,
उसे शृंगार करने की कभी भी
कोई आवश्यकता नहीं होती है।

खूबसूरत मोर होता, मोरनी नहीं
मोर रंग-बिरंगा और हरे-नीले
रंग से सुंदर सुशोभित होता है,
पर मोरनी काली सफ़ेद होती है।

मोर के पंख होते हैं इसीलिए
उसके पंख मोरपंख कहलाते हैं,
मोरनीपंख नहीं कहते हैं क्योकि
किसी मोरनी के पंख नहीं होते हैं ।

भीड़ बचपन से ही बच्चों को पकड़ लेती है और उसे कौवा बनाने लगती है,

हाथी के दाँत होते, मादा के नहीं,
हांथी के दांत बेशकीमती होते हैं,
नर हाथी मादा हाथी के मुकाबले
देखने में बहुत खूबसूरत होते हैं।

कस्तूरी नर हिरन में पायी जाती है,
मादा हिरन में नहीं पायी जाती है,
मादा हिरन भी तो नर हिरन के
मुकाबले सुन्दर नहीं होती है।

मणि नाग के पास ही होती है,
पर किसी नागिन के पास नहीं,
वह उस नाग की दीवानी होती है,
जिस नाग के पास मणि होती है।

रत्न महासागर में पाये जाते हैं,
नदियो में तो नहीं और अंत में
नदियों को उसी महासागर में
गिर कर मिल जाना पड़ता है।

कविता : सज्जन इंसान सर्वत्र कहाँ होते हैं

संसार के बेशकीमती तत्व इस
प्रकृति ने पुरुषों को ही सौंपे हैं,
प्रकृति ने पुरुष के साथ अन्याय
नहीं किया पूरा न्याय किया है।

नौ महीने माँ के गर्भ में रहने के
बावजूद भी औलाद का नाम व
ख्याति पिता के नाम से होना ही,
संसार का सबसे बड़ा आश्चर्य है।

आदित्य पुरुष को स्त्रियों की तरह,
श्रृंगार करने की ज़रूरत नहीं है,
क्योंकि पुरुष का शृंगार प्रकृति
ने स्वयं ही ऊपर से करके भेजा है।

 

Litreture

 हमने बिसराया और दुनिया ने अपनाया

बात 1959 या 60 की है। भारत के लेखकों का एक प्रतिनिधिमंडल ईरान गया था। उस समय ईरान में शाह का शासन था और भारतीय प्रतिनिधिमंडल के कार्यक्रमों में ईरान के शाह से भी मिलने का कार्यक्रम था। शाह से मुलाकात के दौरान एक भारतीय लेखक ने कहा- ” हमारी लंबी गुलामी ने हमें आर्थिक […]

Read More
Litreture

कविता: विश्वास खोना बहुत आसान होता है,

एक तरफ़ सच्चे सीधे लोग होते हैं, आरोपों को सहन नहीं कर पाते हैं, दूसरी ओर वो हैं जिनके पास झूठे आरोप लगाने के अनेकों हुनर होते हैं। पर देखा यह जाता है कि नफ़रत करने वालों को बहुत मज़ा आता है, वे औरों को परेशान करते रहते हैं, पर ज़िंदादिल फिर भी हँसते रहते […]

Read More
Litreture

कविता : मीडिया को ये ज़िम्मेदारी लेनी होगी

आजकल टीवी सीरियल, फ़िल्में और सोसल मीडिया भी अनैतिक शिक्षा के नैतिक स्कूल बन गये हैं, कैसे कैसे दृश्य यहाँ परोस रहे हैं। हिंसा ताण्डव, अशोभनीय संवाद, अपहरण, बलात्कार,चोरी,डकैती और न जाने क्या क्या फूहड़पन, यहाँ देखते हैं बूढ़े, युवा और बचपन। फ़िज़ूल खर्च, सुगम तलाक़, घरेलू कलह,अवैध सम्बंध दिखाये जा रहे हैं, यह सब […]

Read More