गुजरात का विकास व हिंदुत्व बनेगा देश का मॉडल

सुरेश गांधी
सुरेश गांधी

गुजरात में BJP की ऐतिहासिक जीत के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुनामी है, तो योगी का हिन्दुत्व व बुलडोजर भी लोगों को भाया। मतलब साफ है BJP ने गुजरात मॉडल के रूप में हिंदुत्व और विकास का जो सब्जबाग दिखाया, वो लोगों के दिलों में हिट हो गया। देखा जाएं तो 182 विधानसभा सीटों वाले गुजरात में 156 सीटे जीतकर BJP ने पूर्व के सारे रिकॉर्ड को मिट्टी में मिला दिया है। BJP की इतनी बड़ी जीत इसलिए भी ऐतिहासिक हो चुकी है कि वह लगातार 27 वर्षों से राज्य की सत्ता में है। इससे पहले PM मोदी के नेतृत्व में वर्ष 2007 में BJP को 127 सीटों पर जीत मिली थी। यह अलग बात है कि केजरीवाल ने मुकाबले को त्रिकोणीय बनाने की बजाय सीधे कांग्रेस के वोट को दो-फाड़ कर दिया। इस कारण BJP ने गुजरात में सीट और वोट दोनों का एक नया रिकॉर्ड स्थापित कर दिया। इसके अलावा BJP गुजरात में सातवीं जीत के साथ देश की दूसरी ऐसी पार्टी हो गई है, जो लगातार किसी राज्य में 30 वर्ष से अधिक समय तक शासन का रिकॉर्ड बना रही है। अभी तक सबसे लंबे शासन का रिकॉर्ड माकपा के पास है, जिसने पश्चिम बंगाल में लगातार 34 वर्षों तक शासन किया है।

फिरहाल, गुजरात के इतिहास में कभी इतना नीचे कांग्रेस का ग्राफ नहीं रहा। सीट ही नहीं उसका वोट शेयर भी औंधे मुंह गिरा है। जबकि 27 साल बाद एक बार फिर खुले दिल से बीजेपी को स्वीकार किया गया है। सिर्फ स्वीकार नहीं किया गया है, बल्कि 52।5 फीसदी वोटों के साथ 156 से भी ज्यादा सीटों वाला एक ऐसा बहुमत दिया है जो आज से पहले गुजरात में किसी पार्टी को नहीं मिला। जहां तक कांग्रेस की बात है तो 1990 में उसे 33 सीटें मिली थी, लेकिन इस बार तो 17 सीट पर ही सिमट गयी। मतलब साफ है इस प्रचंड जीत ने साबित कर दिया कि गुजरात में जो मोदी कहेंगे वही वहां की जनता सुनेगी। देखा जाएं तो मोदी ने अहमदाबाद में सबसे लंबा 54 किलोमीटर का रोड शो, तीन और रोड शो, साथ ही 31 सभाएं कीं और इन सभी इलाकों में बीजेपी को जीत मिली है, लेकिन ये कहना गलत होगा कि ये सिर्फ मोदी के दम पर है। इसमें कहीं न कहीं सीएम योगी आदित्यनाथ की सभाओं में बुलडोजर बाबा व हिन्दू हृदय सम्राट की गूंजती नारों की भी बड़ी भूमिका है। हालांकि हिंदुत्व की अलख गुजरात की ही धरती से जगी थी। 2002 के गोधरा दंगों के बाद BJP ने हिंदुत्व के मुद्दे पर 127 सीटों के साथ ऐतिहासिक जीत हासिल की थी। फिर 2003 में वाइब्रेंट गुजरात समिट की शुरुआत की। विकास का नया गुजरात मॉडल बनाया। फिर राम मंदिर, तीन तलाक और धारा 370 का खात्मा। या यूं कहे गुजरातियों को BJP ये समझाने में कामयाब रही कि मुफ्त का कुछ भी नहीं चाहिए।

फिर BJP ने दिल्ली मॉडल के मुकाबले गुजरात मॉडल की वकालत की और उसे गुजरात प्राइड से जोड़ दिया। यानी गुजरात मॉडल को गुजरातियों का मॉडल बना दिया और परिणाम सामने है। यह चुनाव ठीक उस मैच की तरह हो गया, जब किसी एक खिलाड़ी ने दूसरी टीम की जीत की उम्मीदों पर पानी फेरते हुए अकेले दम पर बड़ी जीत दिला दे। गुजरात में 27 वर्षों तक सत्ता में  रहने और चुनावी महासमर में आप के कूदने के बाद BJP भी अंदर ही अंदर जीत को लेकर आशंकित हो गई  थी। मगर आखिर में PM मोदी की ऐसी सुनामी चली कि कांग्रेस और आप हवा में उड़ गए। इससे प्रधानमंत्री की लोकप्रियता और गुजरातवासियों का उनके प्रति लगाव का अंदाजा भी आसानी से लगाया जा सकता है। गुजरात ने यह साबित कर दिया है कि PM मोदी उस राज्य के लाडले हैं। वह गुजारत के गौरव और लोगों के अभिमान बन चुके हैं। PM मोदी ने 13 वर्षों तक गुजरात के सीएम रहने के दौरान राज्य को जिन बुलंदियों पर ले गए जनता आज भी उनकी कायल दिखती है। इसलिए PM मोदी के सम्मान में जनता ने उनकी झोली में अब तक की सबसे बड़ी जीत डाल दिया। इसके अलावा BJP गुजरात में सातवीं जीत के साथ देश की दूसरी ऐसी पार्टी हो गई है, जो लगातार किसी राज्य में 30 वर्ष से अधिक समय तक शासन का रिकॉर्ड बना रही है। अभी तक सबसे लंबे शासन का रिकॉर्ड मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी 1⁄4माकपा1⁄2 के पास है, जिसने पश्चिम बंगाल में लगातार 34 वर्षों तक शासन किया है। माकपा पश्चिम बंगाल में वर्ष 1977 से 2011 तक लगातार सत्ता में रही। अब BJP गुजरात में लगातार 32 वर्ष तक सत्ता में रहेगी। वर्ष 2022 में BJP का यह रिकॉर्ड इस मायने में बेहद खास हो गया है।

अगले साल मध्य प्रदेश में होने वाले चुनाव समेत BJP शासित राज्यों में ये प्रयोग देखने को मिल सकता है। साथ ही मोदी-शाह की जोड़ी पर देश और BJP का विश्वास और बढ़ा है। इससे 2024 के लोकसभा चुनाव से पहले BJP अपने एजेंडे पर तेजी से बढ़ेगी। बता दें, गुजरात में अभी तक सबसे अधिक सीटों पर जीतने का रिकॉर्ड कांग्रेस के पास था। कांग्रेस ने वर्ष 1985 में माधव सिंह सोलंकी के नेतृत्व में रिकॉर्ड 149 सीटों पर जीत हासिल की थी। सोलंकी तीन बार गुजरात के सीएम रहे। इससे पहले वर्ष 1980 में भी कांग्रेस को 141 सीटों पर विजय मिली थी। मगर BJP ने अब 156 से अधिक सीटें जीतकर कांग्रेस के इस रिकॉर्ड को तोड़ दिया है। राम मंदिर आंदोलन और आपातकाल के दौर में भी कांग्रेस को गुजरात में इतनी करारी हार का सामना नहीं करना पड़ा था। हालांकि वर्ष 2022 का गुजरात विधानसभा चुनाव इस बार BJP के लिए बहुत टफ माना जा रहा था। आम आदमी पार्टी के मैदान में उतरने से BJP, कांग्रेस और आप के बीच त्रिकोणीय मुकाबलों के आसार थे। इसने BJP को टेंशन में डाल दिया था। BJP नेताओं को भी चुनाव से पहले अंदाजा नहीं था कि वह इतनी बड़ी जीत गुजरात विधान सभा चुनावों में 27 वर्षों तक सत्ता में रहने के बावजूद हासिल कर सकती है। मगर अब BJP ने एंटी इन्कंबेंसी की सारी गुंजाइशों को खत्म करते हुए गुजरात में जीत का सबसे बड़ा रिकॉर्ड बनाकर कांग्रेस को राज्य में हासिये पर ला   दिया है। इस चुनाव में कांग्रेस सिर्फ 17 सीटों पर ही सिमट गयी। इतनी बड़ी हार कांग्रेस की इससे पहले कभी नहीं हुई थी। गुजरात में वर्ष 1990 के चुनाव में कांग्रेस को सबसे कम 33 सीटें मिली थीं, लेकिन इस बार कांग्रेस उस रिकॉर्ड से भी पीछे रह गई है।

ये भी पढ़ें

‘वन मैन शो’ में तब्दील हो गया गुजरात चुनाव, बड़ी विजय की ओर BJP

राम मंदिर आंदोलन और आपातकाल में भी कांग्रेस की इतनी दुर्गति नहीं,

यह गुजरात में कांग्रेस का अब तक का सबसे खराब प्रदर्शन है। वहीं गुजरात में सरकार बनाने का दावा करने के लक्ष्य से उतरी अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी दहाई का आंकड़ा भी नहीं छू सकी। उसके सभी बड़े चेहरे भारी अंतर से चुनाव हार गए। गुजरात में कांग्रेस का सक्रिय नहीं होना, खरगे के रावण वाले बयान और आप की एंटी  को भी BJP की इस बड़ी जीत का कारण माना जा रहा है। नाराजगी और गुस्से से बौखलाये ल्लिकार्जुन खरगे ने अहमदाबाद की रैली में वो गलती कर दी जो गुजरात चुनाव में पूरी कांग्रेस पर भारी पड़ गई। PM मोदी के खिलाफ कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे की ’रावण’ टिप्पणी ने गुजरात में बीजेपी के पक्ष में काम किया है। जैसे  सोनिया गांधी की ’मौत का सौदागर’ तंज कई चुनावों में गूंजता रहा। जबकि खरगे के बयान के बाद मोदी ने मध्य गुजरात के पंचमहल जिले के कलोल तालुका में अपनी जनसभाओं यह कहकर मुद्दाबना दिया था कि, खरगे को मेरी तुलना रावण से करने के लिए सिखाया गया था, जब कांग्रेस भगवान राम में विश्वास नहीं करती है। वे राम सेतु के अस्तित्व को स्वीकार नहीं करते हैं। यह भगवान राम को मानने वालों की स्थिति है, जहां इस तरह के आरोप लोगों द्वारा कभी स्वीकार नहीं किए जाएंगे।

बता दें कि देश की आजादी के बाद गुजरात बॉम्बे प्रदेश का हिस्सा हुआ करता था। एक मई 1960 को बॉम्बे से महाराष्टं और गुजरात दो नए राज्य बने। गुजरात में 1960 के बाद से 2022 तक कुल 15वां विधानसभा चुनाव हो रहा है। और कांग्रेस सबसे करारी हार के मुहाने पर खड़ी है। 1990 के  विधानसभा चुनाव के दौरान गुजरात में कांग्रेस का सबसे बुरा प्रदर्शन देखा गया था। तब पार्टी सिर्फ 33 सीटें जीतने में सफल हुई थी। इसके बाद कांग्रेग्रेस की सीटें कुछ हद तक बढ़ती गईं। 2002 में कांग्रेस को 50, जबकि 2007 में 59 सीटें मिली थीं। 2017 में पार्टी ने 77 सीटें जीती थीं और बीजेपी को कड़ी टक्कर भी दी थी। दो दशकों में कांग्रेस ने 2017 में सबसे अच्छा प्रदर्शन किया था। 1962 से लेकर 1976 तक कांग्रेस ने गुजरात में एकछत्र राज किया था, लेकिन उसे पहला झटका आपातकाल के दौर में लगा और कांग्रेस की सीटें घटकर 75 पर आ गई थीं। इससे पहले तक कांग्रेस 100 सीटों से अधिक पर जीत हासिल करती रही है। इसके बाद कांग्रेस ने 1980 में दोबारा प्रचंड बहुमत के साथ वापसी की थी और 51 फीसदी वोटों के साथ 141 सीटें जीतने में सफल रही थी। इसके बाद 1985 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने सबसे बेहतर प्रदर्शन किया था। कांग्रेस 55.55 फीसदी वोटों के साथ 149 सीटें जीतने में सफल रही थी। कांग्रेस इस चुनाव के बाद से गुजरात में लगातार कमजोर हुई है और छह दशकों में सबसे खराब प्रदर्शन अभी तक 1990 के चुनाव में रहा था।  कांग्रेस 30।75 फीसदी वोटों के साथ महज 33 सीटें ही जीत सकी थी, लेकिन अब कांग्रेस इससे भी बुरी हार की ओर बढ़ती दिख रही है। कांग्रेस की सिर्फ सीटें ही नहीं बल्कि वोट शेयर भी काफी गिर गया है।

ये भी पढ़ें

अपना घर भी नहीं बचा पाए देश के बड़े नेता

फायदे में केजरीवाल

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व वाली आम आदमी पार्टी ने दो दिन में डबल फायदा हासिल  कर लिया है। गुजरात और हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव के नतीजों में हार कर भी अपना वोट परसेंटेज बढ़ाने में सफल रहे। या यूं कहे आप ने राष्ट्रीय पार्टी का दर्जा हासिल कर लिया है। जिसके बाद देश में राष्ट्रीय  दलों की संख्या बढ़कर नौ हो जाएगी। आप ने गुजरात में हुए चुनावों में 13 फीसदी वोट हासिल कर लिए हैं। इससे वह गुजरात में क्षेत्रीय पार्टी और राष्ट्रीय पार्टी बन गई है। इसका ऐलान चुनाव आयोग बाद में कर सकता है। चुनाव आयोग के अनुसार, कांग्रेस, बीजेपी, बीएसपी, तृणमूल कांग्रेस, एनसीपी, सीपीआई, सीपीआईएम और एनपीपी  राष्ट्रीय पार्टी हैं। एनपीपी को राष्ट्रीय दल का दर्जा साल 2019 में मिला था। आम आदमी पार्टी दिल्ली, पंजाब और गोवा में राज्य स्तर की पार्टी यानी क्षेत्रीय दल का दर्जा हासिल कर चुकी है। उसे गोवा में हुए पिछले विधानसभा चुनाव में 6.8 फीसदी वोट हासिल हुए थे। गुजरात में इस बार आम आदमी पार्टी भी पूरी तैयारी के साथ उतरी थी। आप के राष्ट्रीय संयोजक और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने गुजरात में खूब पसीना बहाया। उनकी मेहनत रंग भी लाई। गुजरात में आम आदमी पार्टी की एंटी हो चुकी है। आप को भले ही सिर्फ 5 सीटें मिल रही हों, लेकिन 12.09 फीसदी लोगों ने केजरीवाल पर भरोसा जताया। इसे देखकर साफ है कि पिछले चुनावों और इस चुनाव के नतीजों को देखें तो कांग्रेस का एक बड़ा वोटवर्ग केजरीवाल के साथ चला गया है।

ये भी पढ़ें

गुजरात में प्रचंड जीत के साथ ही राष्ट्रीय अध्यक्ष बन सकते हैं CR पाटिल

 

 

 

Bihar homeslider Raj Dharm UP

नीतीश की पुलिस सुपर फ्लॉप योगी की पुलिस सुपर कॉप

आदमी का ‘काम’ बोलता है ‘चाम’ नहीं। नीतीश कुमार और उनके डिप्टी तेजस्वी यादव सिर्फ बड़ी-बड़ी बातें करते हैं, मगर दोनों ने बिहार पुलिस को उसकी असली ड्यूटी यानी पुलिसिंग करने से रोक रखा है। नीतीश-तेजस्वी की पुलिस जहां मिनिस्टर, MP-MLA की सिक्योरिटी में तैनात है। वहीं यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की पुलिस अपराधियों […]

Read More
Health homeslider International

भारतीय कम्पनियां बना रहीं मौत का ‘सिरप’

आशीष दूबे नई दिल्ली। गाम्बिया में हाल ही में 69 बच्चों की मौत के बाद भारतीय दवा कम्पनियां फिर से सुर्खियों में आ गई हैं। खबरें आईं कि मरने वाले बच्चों को भारत में निर्मित कफ सिरप दी गई थी। इसे पीने के बाद बच्चों की हालत बिगड़ी और उनकी मौत हो गई। इस सिरप […]

Read More
homeslider Sports

Aus Vs India: 42 दिन, सात मैच, कौन बनेगा सिकंदर, किसकी होगी हार?

क्या मिस्टर 360 को मिलेगा मौका या फिर बाहर से निहारेंगे मैच तीसरे टेस्ट की मेजबानी के लिए तैयार हुआ हिमाचल गुरुवार सुबह 9.30 से नागपुर में होगी आस्ट्रेलिया की पहली परीक्षा कुलदीप मिश्र लखनऊ। हिमाचल प्रदेश में मार्च के प्रथम सप्ताह में होने वाले भारत-ऑस्ट्रेलिया टेस्ट मैच को लेकर जिला प्रशासन की ओर से […]

Read More