सोनौली बॉर्डर से नेपाल भेजे जा रहे नकली दवाएं

 कैंसर की नकली दवा बेचने वाला अंतर्राज्यीय गिरोह, नेटवर्क तोड़ने में जुटा प्रशासन


रतन गुप्ता


महराजगंज। सोनौली सीमा से भारी पैमाने पर नकली दवा का कारोबार किया जा रहा है अधिकर नकली दवा नेपाल भेजे जा रहे है। प्रदेश में करीब 25 करोड़ रुपये का एंटी कैंसर दवाओं का कारोबार है। ये दवाएं महंगी होती हैं। कीमोथेरेपी में प्रयोग होने वाली दवा की एक डोज करीब 10 से 30 हजार के बीच होती है। ऐसे में यह गिरोह नामचीन कंपनियों के रैपर का सहारा लेता है। कैंसर रोधी और विटामिन की नकली दवाओं के कारोबार का जाल फैला है। इसमें अंतर्राज्यीय गिरोह शामिल है। यह गिरोह दिल्ली, हरियाणा और हिमाचल सहित अन्य राज्यों से दवाएं लाता है। इसे नए रैपर में पैक करके उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों में आपूर्ति कर रहा है। इसमें आगरा के कई व्यापारी शामिल हैं। प्रदेश में करीब 25 करोड़ रुपये का एंटी कैंसर दवाओं का कारोबार है। ये दवाएं महंगी होती हैं। कीमोथेरेपी में प्रयोग होने वाली दवा की एक डोज करीब 10 से 30 हजार के बीच होती है।

ऐसे में यह गिरोह नामचीन कंपनियों के रैपर का सहारा लेता है। वे नकली अथवा अधोमानक दवाओं को नामचीन कंपनी के पैकेट में पैक करके अस्पतालों के आसपास स्थित मेडिकल स्टोर तक पहुंचाते हैं। फिर मेडिकल स्टोर के एजेंट मरीजों तक पहुंचाते हैं। सस्ती दवा का झांसी देकर रसीद भी नहीं देते हैं।  सूत्रों का कहना है कि खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन (FSDA) विभाग को सुराग मिला है कि दिल्ली, हरियाणा और हिमाचल प्रदेश में तैयार होने वाली नकली व अधोमानक दवाएं गाजियाबाद, आगरा और लखनऊ के जरिए पूरे प्रदेश के मेडिकल स्टोर पर पहुंच रही हैं। इसमें ज्यादातर एंटी कैंसर की दवाएं हैं। कुछ हार्ट, किडनी व लिवर के मरीजों से जुड़ी दवाएं भी हैं। विभाग के आला अफसरों ने इस नेटवर्क को तोड़ने के लिए रणनीति बनाई गई है।

सभी ड्रग इंस्पेक्टरों को निर्देश दिया है कि सप्ताह में कम से कम दो दिन अलग-अलग इलाके के स्टोर की दवाएं जांची जाएं। संबंधित दवा के बिल व वाउचर का मिलान किया जाए। जिस दुकान पर बिना बिल की दवाएं मिले, उसके खिलाफ तत्काल कार्रवाई करें। संबंधित मेडिकल स्टोर का लाइसेंस निरस्त करने की भी कार्रवाई की जाएं। लखनऊ, कानपुर, आगरा, गोरखपुर सहित जहां सुपर स्पेशियलिटी सेवाओं से जुड़े अस्पताल हैं। वहां विशेष निगरानी रखने का निर्देश दिया गया है।

गाजियाबाद और हिमाचल से भी मिला सुराग

गाजियाबाद के ट्रानिका सिटी में 11 नवंबर को पकड़े गए लोगों से भी FSDA को दवा आपूर्ति के ठिकानों की जानकारी मिली है। यहां करीब पांच करोड़ की दवाएं पकड़ी गई थीं। मौके पर बांग्लादेश, यूएसए, कंबोडिया में बनी दवाएं और नकली रैपर बनाने वाली मशीन मिली थी। इस कारोबार में डॉक्टर और इंजीनियर भी शामिल थे। पूछताछ में आगरा, लखनऊ के कारोबारी के यहां दवाएं भेजवाने की बात सामने आई है। इसी तरह हिमाचल के बद्दी में पकड़ी गई बिना लाइसेंस के विटामिन बनाने वाले कारखाने से आगरा के व्यापारी के यहां दवाओं की आपूर्ति होने की बात सामने आई है। FSDA की टीम आगरा निवासी व्यापारी की तलाश में जुटी है। हिमाचल प्रदेश सहित अन्य राज्यों से मिले इनपुट के आधार पर निगरानी की जा रही है। हर जिले में टीम सक्रिय है। बिना बिल दवा बेचने पर रोक है। मरीजों से अपील है कि दवा खरीदते समय बिल जरूर लें। गाजियाबाद में पकड़ी गई दवा का सैंपल जांच के लिए भेजा गया है। रिपोर्ट आने के बाद संबंधित बैच को बैन किया जाएगा।

Purvanchal

दुकान बंद होने पर हो जाएगी सील तो बढ़ेगी समस्या

राजेश जायसवाल नौतनवां/ महराजगंज । स्टेट GST की टीम इन दिनों दुकानों की जांच करने में जुटी है। इससे व्यापारियों को बढ़ाने की जरूरत नहीं है। देखा जा रहा है कि GST  टीम से डरकर लोग अपनी दुकानें बंद किए हुए हैं। दुकान बंद रखने का मतलब कहां न कहीं आप कुछ गड़बड़ कर रहे […]

Read More
Purvanchal

अधिशासी अभियंता से मिले वाहन चालक, समस्या निदान की मांग

सिद्धार्थनगर। राजकीय वाहन चालक महासंघ का एक प्रतिनिधिमंडल अधिशासी अभियंता लोक निर्माण विभाग प्रांतीय खंड से मुलाकात की। इस मौके पर पूर्व में सौंपे गए मांगपत्र पर सहमति के बाद भी अब तक कोई कार्रवाई न होने पर रोष जताया। साथ ही लंबित समेत अन्य समस्याओं का निस्तारण की मांग की। महासंघ के जिला मंत्री […]

Read More
Purvanchal

दलों ने नहीं खोले पत्ते, चुनाव लड़ने वालों की धड़कनें तेज

विभिन्न दलों में टिकट मांगने वाले अध्यक्ष से लेकर सभासदों की लंबी कतार जिले में है दो नगर पालिका व नौ नगर पंचायत सिद्धार्थनगर। जिले में होने वाले नगर निकाय चुनाव के लिए अध्यक्ष व सभासदों की आरक्षण सूची जारी हो चुकी है। हर दल में अध्यक्ष व सभासद का टिकट मांगने वालों की लंबी […]

Read More