यह संसार आठ अरब लोगों का घर है,

कर्नल आदि शंकर मिश्र
कर्नल आदि शंकर मिश्र

यह संसार आठ अरब लोगों का घर है,
भारत का हिस्सा 1.41 अरब है उसमें से,
सब कुछ गड्डमगड्य हो गया सुरसा के
मुख जैसी बढ़ती भारत की जन संख्या से।

अगले दो चार सालों में हम सबसे
ज़्यादा जन संख्या वाले हो जाएँगे,
चीन को पीछे छोड़ जाएँगे, हम अब
नम्बर एक जनसंख्या वाले बन जाएँगे।

विश्व गुरु बनने से पहले आबादी
में हम दुनिया के गुरू बन जाएँगे,
खेती पाती, जगह ज़मीन जंगल,
सब धीरे धीरे समाप्त हो जाएँगे।

कविता : आत्मा की सोच व सोच का अहम्

कंकरीट के बहुमंज़िला जंगल होंगे,
बिल्डर सभी भारत में मालामाल होंगे,
छोटे छोटे अपार्टमेंट में हम बहुसंख्यक,
बनकर ग़ुलामी की सीढ़ी चढ़ते होंगे।

किसी राजनीतिक दल की इच्छा शक्ति
अब नहीं जनसंख्या वृद्धि रोक पाने की,
अल्पसंख्यक भी अब पचास करोड़ होंगे,
वोटों की राजनीति से सारे घायल होंगे।

लोकतन्त्र का ऐसा बाना अब नहीं
मुआफ़िक है आज हमारे भारत के,
इस पर कुछ अधिक सोचना होगा,
नियंत्रण हो, ऐसा दिखलायें करके।

आदित्य पर्यावरण संरक्षण करके,
पेंड़ पौधे अधिक से अधिक लगाकर,
जनसंख्या पर पूर्ण नियंत्रण करके,
रखना पूरे भारत को ख़ुशहाल करके।

 

Litreture

कविता : क्या भूलें क्या याद रखें

एक प्रश्न ‘क्या भूलूँ क्या याद रखूँ’ अक़्सर अति विचारणीय होता है, निंदा करने वालों से दूर नहीं रहना, निंदा पर विचार प्रोत्साहन देता है। सब कुछ श्रेष्ठ होने की उम्मीद ही एक सकारात्मक सोच नहीं होती है, जिस पल जो कुछ होता है की सोच उस पल के लिए सदा संतोष देती है। लोग […]

Read More
Litreture

अध्यात्म ध्यान की तन्मयता

भोज्य पदार्थ ग्रहण करना, पर ध्यान रहे उनकी शुचिता, वैचारिक मर्यादा एवं सुंदरता, अध्यात्म ध्यान की तन्मयता। धर्म सुरक्षित सात्विक परायणता, ज्ञान सुरक्षित अभ्यास परायणता, रूप सुरक्षित निरंतर क्रियाशीलता, परिवार सुरक्षित मर्यादित चरित्रता। वैभव असुरक्षित कारण कृपणता, मधुमक्खी मधु संचय कृत मधु छत्ता, मधु पीवत भ्रमर औरन की मानुषता, पूत-कपूत हों तो क्यों करते चिंता। […]

Read More
Litreture

गलतियों से सीख एवं चरित्र निर्माण

जब मनुष्य अपनी गलतियों से सीख लेता है तो अपने जीवन में आगे बढ़ पाता है, लेकिन यदि ग़लत सीख ले लेता है। तो यह ग़लत सीख इंसान की प्रगति को रोक भी लेती है। हम सभी इंसानों में कमियाँ भी होती हैं और ग़लतियाँ भी सब से होती हैं। हमें कमियाँ दूर करना आना […]

Read More