स्वर्ग जाने हेतु खुद ही मरना पड़ता है

कर्नल आदि शंकर मिश्र
कर्नल आदि शंकर मिश्र

काँटे से काँटा खुद ही निकालना पड़ता है,
स्वर्ग जाने के लिये खुद ही मरना पड़ता है।

दुखों से जूझकर ही सुख मिलता है,
तिमिर बीत जाने पर प्रकाश होता है।

विगत निशा, तो अरुणोदय होता है,
जन्म तो मृत्यु, और पुनर्जन्म होता है।

मनुष्य जीवन सचमुच अनमोल होता है,
लाखों योनियाँ भटक कर प्राप्त होता है।

अभिमान का पाखंड खंड खंड कर,
मान सम्मान स्वाभिमान मिलता है।

ग़ुरूर का ज्ञान होने पर इंसान बनता,
इंसान, इंसान बन फ़रिश्ता बनता है।

घृणा द्वेष मिटने पर स्नेह पनपता है,
सत्य अहिंसा पर चल गाँधी बनता है।

हिंसा त्याग कर अशोक महान बनता है,
माया मोह त्याग कर गौतम बुद्ध बनता है।

‘आदित्य’ आज युग का तकाजा है,
मानव के लिये मानव जगाये जज़्बा है।

काँटे से काँटा खुद ही निकालना पड़ता है,
स्वर्ग जाने के लिये खुद ही मरना पड़ता है।

 

Litreture

कविता : क्या भूलें क्या याद रखें

एक प्रश्न ‘क्या भूलूँ क्या याद रखूँ’ अक़्सर अति विचारणीय होता है, निंदा करने वालों से दूर नहीं रहना, निंदा पर विचार प्रोत्साहन देता है। सब कुछ श्रेष्ठ होने की उम्मीद ही एक सकारात्मक सोच नहीं होती है, जिस पल जो कुछ होता है की सोच उस पल के लिए सदा संतोष देती है। लोग […]

Read More
Litreture

अध्यात्म ध्यान की तन्मयता

भोज्य पदार्थ ग्रहण करना, पर ध्यान रहे उनकी शुचिता, वैचारिक मर्यादा एवं सुंदरता, अध्यात्म ध्यान की तन्मयता। धर्म सुरक्षित सात्विक परायणता, ज्ञान सुरक्षित अभ्यास परायणता, रूप सुरक्षित निरंतर क्रियाशीलता, परिवार सुरक्षित मर्यादित चरित्रता। वैभव असुरक्षित कारण कृपणता, मधुमक्खी मधु संचय कृत मधु छत्ता, मधु पीवत भ्रमर औरन की मानुषता, पूत-कपूत हों तो क्यों करते चिंता। […]

Read More
Litreture

गलतियों से सीख एवं चरित्र निर्माण

जब मनुष्य अपनी गलतियों से सीख लेता है तो अपने जीवन में आगे बढ़ पाता है, लेकिन यदि ग़लत सीख ले लेता है। तो यह ग़लत सीख इंसान की प्रगति को रोक भी लेती है। हम सभी इंसानों में कमियाँ भी होती हैं और ग़लतियाँ भी सब से होती हैं। हमें कमियाँ दूर करना आना […]

Read More