सुख समृद्धि के लिए रमा एकादशी, चातुर्मास की अंतिम एकादशी,

जयपुर से राजेंद्र गुप्ता


हिन्दू धर्म में रमा एकादशी बहुत महत्व है। इस एकादशी को लक्ष्मी जी के नाम पर रमा एकादशी कहा जाता है। इस एकादशी पर महालक्ष्मी के रमा स्वरूप के साथ-साथ भगवान विष्णु के पूर्णावतार केशव स्वरुप के पूजन का विधान है। यह चातुर्मास की अंतिम एकादशी है। इस एकादशी व्रत के प्रभाव से जीवन में सुख-समृद्धि आती है।

रमा एकादशी की तिथि..

शुक्रवार, 21 अक्टूबर 2022

एकादशी तिथि प्रारंभ: 20 अक्टूबर 2022 अपराह्न 04:04 बजे

एकादशी तिथि समाप्त: 21 अक्टूबर 2022 शाम 05:22 बजे

रमा एकादशी व्रत की पूजा विधि

एकादशी व्रत के नियमों का पालन दशमी के दिन से ही शुरू हो जाते हैं। अत: दशमी के दिन सूर्यास्त के बाद भोजन ग्रहण नहीं करना चाहिए। एकादशी पर होने वाले धार्मिक कर्म इस प्रकार हैं:

  1. रमा एकादशी के दिन प्रात:काल स्नान के बाद व्रत का संकल्प लेना चाहिए और भगवान विष्णु की पूजा करनी चाहिए।
  2. पूजन में भगवान विष्णु को धूप, तुलसी के पत्तों, दीप, नैवेद्य, फूल और फल आदि अर्पित करना चाहिए।
  3. रात्रि में भगवान विष्णु का भजन-कीर्तन या जागरण करना चाहिए।
  4. एकादशी के अगले दिन द्वादशी पर पूजन के बाद जरुरतमंद व्यक्ति या ब्राह्मण को भोजन और दान-दक्षिणा देकर, अंत में भोजन करके व्रत खोलना चाहिए।

क्या है नवांश कुण्डली का महत्व और प्रभाव

रमा एकादशी व्रत का महत्व

पद्म पुराण में उल्लेखित वर्णन के अनुसार रमा एकादशी व्रत कामधेनु और चिंतामणि के समान फल देता है। इस व्रत को करने से मनुष्य के सभी पाप कर्मों का नाश होता है और उसे पुण्य फल की प्राप्ति होती है। इस व्रत के प्रभाव से धन-धान्य की कमी दूर होती है।

रमा एकादशी व्रत की कथा

 प्राचीनकाल में विंध्य पर्वत पर क्रोधन नामक एक महाक्रूर बहेलिया रहता था। उसने अपनी सारी जिंदगी, हिंसा,लूट-पाट, मद्यपान और झूठे भाषणों में व्यतीत कर दी। जब उसके जीवन का अंतिम समय आया तब यमराज ने अपने दूतों को क्रोधन को लाने की आज्ञा दी। यमदूतों ने उसे बता दिया कि कल तेरा अंतिम दिन है। मृत्यु भय से भयभीत वह बहेलिया महर्षि अंगिरा की शरण में उनके आश्रम पहुंचा। महर्षि ने दया दिखाकर उससे पापाकुंशा एकादशी का व्रत करने को कहा। इस प्रकार पापाकुंशा एकादशी का व्रत-पूजन करने से क्रूर बहेलिया को भगवान की कृपा से मोक्ष की प्राप्ति हो गई।


ज्योतिषी और हस्तरेखाविद/ सम्पर्क करने के लिए मो. 9611312076 पर कॉल करें


 

Religion

सनातन संस्कृति के संरक्षक श्रीगुरु तेग बहादुर,

देह रहे या नष्ट हो जाये, गुरु की वाणी अमर और अविनाशी होती है, कानपुर। गुरु तेगबहादुर सनातन संस्कृति के संरक्षक और संवाहक हैं। उनके बलिदान की गाथा को भारत के प्रत्येक शिशु को जानने का प्रबंध होना चाहिए। भारत वस्तुतः ऐसे अनेक बलिदानी महापुरुषों की भूमि है। इसीलिए यह धरती का एक टुकड़ा अथवा […]

Read More
Religion

कुंडली में यदि बुध ठीक है तो, जीवन में सब कुछ ठीक है बुध खराब तो, सब कुछ खराब!

डॉ उमाशंकर मिश्र ज्योतिष में बुधवार का दिन नवग्रहों में राजकुमार माने जाने वाले बुध देवता की पूजा के लिए समर्पित है। यदि आपकी कुंडली में बुध ग्रह कमजोर होकर अशुभ फल प्रदान कर रहे हों तो आप बुधवार के दिन इन सरल 15 उपायों में से कोई एक उपाय करके उस अशुभता को दूर […]

Read More
Religion

बजरंग बाण के आठ अचुक उपाय,

ज्योतिषाचार्य डॉ. उमाशंकर मिश्र मंगलवार हनुमानजी की आराधना का दिन होता है। उनकी पूजा करने से भक्तों के सारे संकट मिट जाते हैं और बड़े से बड़ा भय भी दूर हो जाता है। इसके अलावा हनुमानजी की आराधना से कुंडली में भी मंगल ग्रह प्रबल होता है और जातकों को इसका लाभ मिलता है। मंगलवार […]

Read More