बीते सप्ताह निवेशकों के डूबे 15 लाख करोड़ से अधिक

मुंबई ।  वैश्विक स्तर पर बढ़ती महंगायी को काबू में करने के लिए केन्द्रीय बैंकों द्वारा ब्याज दरों में की जा रही बढोतरी से घबराये निवेशकों की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बीते सप्ताह की गयी भारी बिकवाली का असर घरेलू स्तर पर भी दिखा जहां गिरावट के कारण निवेशकों के 15 लाख करोड़ रुपये से अधिक डूब गये। समीक्षाधीन अवधि में बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 2943.02 अंकों की गोता लगाकर 52 हजार अंक के मनोवैज्ञानिक स्तर से नीचे 51360.42 अंक पर आ गया। सप्ताह के दौरान सेंसेक्स 51 हजार से भी नीचे उतरा है। इसी तरह से नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) का निफ्टी 908.3 अंकों की गिरावट के साथ 15293.50 अंक पर रहा।

दिग्गज कंपनियों की तरह ही छोटी और मझौली कंपनियों में भी बिकवाली का दबाव रहा जिससे समीक्षाधीन अवधि में बीएसई का मिडकैप 1194.39 अंक टूटकर 21295.93 अंक पर और स्मॉलकैप 1723.54 अंक गिरकर 24133.88 अंक पर रहा। बाजार में बीते सप्ताह की बिकवाली में निवेशकों को भारी नुकसान उठाना पड़ा है क्योंकि गत 10 जून को जब सप्ताहांत पर बीएसई बंद हुआ था उस समय उसका बाजार पूंजीकरण 25184358.86 करोड़ रुपये था जो इस शुक्रवार को 1506542.78 करोड़ रुपये की साप्ताहिक गिरावट लेकर 23677816.08 करोड़ रुपये पर आ गया।

इस बिकवाली में विदेशी निवेशकों की बड़ी भूमिका रही है क्योंकि अमेरिकी फेडरल रिजर्व द्वारा ब्याज दरों में 0.75 प्रतिशत की बढोतरी किये जाने के बाद उन्होंने जमकर बिकवाली की।  विश्लेषकों का कहना है कि अगले सप्ताह भी बाजार पर दबाव दिख सकता है हालांकि अभी बाजार जिस स्तर पर आ चुका है वहां से अब तेजी की उम्मीद की जा रही है। लेकिन वैश्विक कारकों का असर बना रह सकता है। घरेलू स्तर अग्निपथ योजना का हो रहे विरोध का असर भी बाजार पर दिख सकता है। लेकिन वैश्विक कारकों से अधिक उतार चढ़ाव दिख सकता है। (वार्ता)

Biz News National

बस दो दिन बाद पेट्रोल-डीजल हो सकते हैं 30 रुपए तक सस्ते, मोदी सरकार के सलाहकार ने दिए संकेत

नई दिल्ली। महंगाई को बढ़ाने में पेट्रोल, डीजल और रसोई गैस की कीमतों का बड़ा हाथ होता है। इनकी कीमतें बढ़ने से चीजें महंगी होती हैं और आपका हमारा बजट भी बिगड़ता है। बीते दिनों केंद्र की मोदी सरकार ने पेट्रोल और डीजल पर दो बार एक्साइज ड्यूटी घटाकर आम लोगों को राहत देने का […]

Read More
Biz News Science & Tech

ATM Turns 55: देश में तीन दशक से रुपए निकालने के लिए लोगों का हमसफर बना एटीएम, साल 1967 में हुई शुरुआत

शंभू नाथ गौतम आज चर्चा एटीएम की करेंगे। रुपए निकालने की एक ऐसी मशीन जो देशवासियों की जिंदगी से भी जुड़ी हुई है। आपको चौराहे पर या किसी विशेष स्थान पर एटीएम लगी हुई दिखाई पड़ जाती होगी। साल 2016 में जब मोदी सरकार ने देश में नोटबंदी की थी तब उस समय एटीएम के […]

Read More
Biz News

GST परिषद मासिक GST भुगतान फॉर्म में परिवर्तन पर करेगी विचार

नई दिल्ली। जीएसटी परिषद अगले सप्ताह होने वाली अपनी बैठक में मासिक कर भुगतान फॉर्म ‘जीएसटीआर-3बी’ में बदलाव करने संबंधी प्रस्ताव पर विचार कर सकती है। इसमें स्वत: बिक्री रिटर्न से संबंधित आपूर्ति आंकड़ें और कर भुगतान तालिका शामिल होगा जिसमें बदलाव नहीं किया जा सकेगा। इस कदम से जाली बिलों पर अंकुश लगाने में […]

Read More