homesliderRaj Dharm UP

साइलेंसर की बूम… संभल जाओ शोहदों, आ गया कोर्ट का कड़ा ऑर्डर

Bike cartion, boom of silencer... take care of the people, the court's strict order has come #NayaLookNews

दोपहिया वाहनों के साइलेंसर में बदलाव पर इलाहाबाद हाई कोर्ट(Allahabad High Court) ने सख्तह रुख अपनाया है। साइलेंसर मॉडिफिकेशन के जरिए कानफोड़ू आवाज पैदा करने को अदालत ने दूसरों की आजादी में खलल करार दिया है। अदालत ने उत्तनर प्रदेश सरकार (Government of Uttar Pradesh) से कहा है, कि वह ऐसी बाइक्स  चलाने वालों के खिलाफ सख्त  ऐक्श न ले। कानून के तहत ऐसे बदलावों की अनुमति नहीं है। ऐसे साइलेंसर्स धुआं तो ज्याचदा उगलते ही हैं, तय सीमा से कई गुना ज्यानदा आवाज पैदा करते हैं जिससे दूसरों को परेशानी होती है।

कई गुना तेज हो जाती है, आवाज

पर्यावरण (संरक्षण) नियम, 1986 के अनुसार, मोटरसाइकिल(Motorcycle) और स्कू टर्स के लिए अधिकतम ध्वजनि सीमा 80 डेसिबल है। फैक्ट्री। मॉडल(Factory Model) के स्टॉ क साइलेंसर में तीन फिल्टमर होते हैं जो कम आवाज करते हैं। मगर मॉडिफाइड साइलेंर्स के चलते कम से कम 120 डेसिबल की आवाज निकलती है। ऐसे एक्जॉहस्टफ सिस्ट म्से को लगाने का खर्च कुछ हजार रुपये होता है। कुछ बाइक्स  में पटाखों जैसी आवाज करने वाले साइलेंसर्स भी लगाए जाते हैं।

उच्चक न्यालयालय ने रॉयल एनफील्डे (बुलेट), हाले डेविडसन समेत कई हाई-पावर बाइक्सह की तेज आवाज का संज्ञान लिया है। कोर्ट ने कहा कि बाइक्सल के साइलेंसर में बदलाव का आजकल फैशन हो गया है। इससे बीमार लोगों, बुजुर्गों और बच्चोंस को बड़ी परेशानी होती है। अदालत ने MV ऐक्टप की धारा 52 के हवाले से कहा कि फैक्ट्रीर मॉडल में बदलाव पर बैन है। अदालत ने इसी अधिनियिम के अन्य  प्रावधानों का जिक्र करते हुए कहा कि यह नियम विदेशी बाइकों पर भी लागू होते हैं। फैक्ट्री  मॉडल में कोई भी बदलाव गैरकानूनी है, अगर रीजनल ट्रांसपोर्ट ऑफिस (Regional Transport Office) से अप्रूवल न लिया गया हो। मॉडिफाइड साइलेंसर लगाने के लिए कैटलिटिक कनवर्टर हटाना पड़ता है। जबकि यही एक्जॉुस्टै गैसों को फिल्टार करता है, ताकि खतरनाक कण वातावरण में ना फैल सकें। BS6 उत्स‍र्जन मानकों का पालन करने के लिए कैटलिटिक कनवर्टर जरूरी है। अगर आप कैटलिटिक कनवर्टर हटवा कर कोई और हाई-परफॉर्मेंस एक्जॉलस्ट लगवाते हैं, तो आपकी गाड़ी BS6 के मानकों पर खरी नहीं उतरती।

फिर कैसे बदलवाएं साइलेंसर?

अगर आपको ऑफ्टरमार्केट एक्जॉ स्टक लगवाना ही है, तो वैसे साइलेंसर लगवाएं जो आधिकारिक रूप से बिकते हों। बाजार में ऐसे कई एक्जॉटस्ट्सा भी मौजूद हैं, जिनमें डेसिबल किलर लगा होता है। (इनपुट एजेंसी)

Related Articles

Back to top button