Health

थोड़ी सी लापरवाही पड़ सकती है भारी,जानिए क्यों होता है खतरनाक रोग लीवर सिरोसिस

A little carelessness can be heavy, know why liver cirrhosis is a dangerous disease #nayalooknews

एक स्वस्थ व्यक्ति का लीवर कई तरह के कार्य करता है। लीवर में ऐसा ब्लड प्रोटीन बनता है जो खून के जमाव में मददगार होता है। संतृप्त वसा लीवर में ही घटकों में टूटती है और कोलेस्ट्रॉल का उत्पादन होता है। अतिरिक्त पोषक तत्व लीवर में ही संग्रहित किए जाते हैं और कुछ को रक्त-प्रवाह में भेजा जाता है। इसके अलावा ग्लूकोज का संग्रह भी लीवर में होता है।

इन कारणों से होता है लीवर सिरोसिस

  • वायरस जनित बीमारियों (हेपेटाइटिस ए,बी,सी एवं डी) के बाद।
  • लम्बे समय तक पीलिया का रहना।
  • अत्यधिक मदिरा का सेवन
  • लम्बे समय तक कब्ज व एसिडिटी की समस्या
  • मलेरिया, पेचिश आदि संक्रामक रोग अधिक दिन रह जाने से।
  • प्लास्टिक एनीमिया (खून की कमी) के कारण।
  • दर्द निवारक दवाओं के नियमित प्रयोग के कारण
  • क्षय रोग, हृदय रोग आदि की स्थितियों में भी।
  • पैक्ड फूड, जंक फूड और पानी की समस्या से।
  • मेहनत कम करना।
  • खुले एवं लगातार बाहर का भोजन करना।

जानिए क्या होता है लीवर सिरोसिस का लक्षण

  1. 10 से कम हीमोग्लोबिन।
  2. 70 हजार से कम प्लेटलेट्स।
  3. एल्बूमिन पॉजीटिव।
  4. शरीर का तापमान 110 फारेनहाइट।
  5. पेशाब में पीलापन आना।
  6. पेट, पैर, एड़ी व तलवों के साथ-साथ बॉडी में सूजन।
  7. भूख का मर जाना या कम लगना।
  8. जीभ पीली या सफेद होना।

लाइलाज नहीं लीवर सिरोसिस

रोग प्रतिरोधक क्षमता ठीक हो तो लीवर स्वयं ठीक हो सकता है। लीवर की जो कोशिकायें नष्ट हो जाती हैं, उनकी जगह लीवर नई कोशिकायें स्वयं बनाने की क्षमता रखता है। इसलिए लीवर सिरोसिस बीमारी का पता लगते ही विशेषज्ञ चिकित्सक से परामर्श करें। रासायनिक दवाएं लीवर पर प्रतिकूल प्रभाव डालती हैं। आयुर्वेदिक दवाओं का सेवन करना लाभप्रद रहता है।

आहार का रखे ध्यानः रोग में आहार की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। लीवर सिरोसिस की समस्या में नमक, मिर्च, अल्कोहल, धूम्रपान व रासायनिक दवाओं के सेवन से परहेज रखना चाहिए। इस रोग में अनार, पपीता, ज्वार का रस, नीम गिलोय का सत, आंवला महत्वपूर्ण है।

Related Articles

Back to top button