Madhya Pradesh

ब्लैक फंगस का अजीबोगरीब केसः न कोविड न स्टेरॉयड फिर भी हुआ इन्फेक्शन

Strange case of black fungus: neither covid nor steroid still got infection#naya look news

मध्यप्रदेश के रीवा में आया चौंकाने वाला मामला, डॉक्टर अध्ययन में जुटे

रीवा। कोरोना की तरह ब्लैक फंगस भी अपने लक्षण दिनोंदिन बदल रहा है। ताजा मामला मध्यप्रदेश के रीवा शहर का है। जहां ब्लैक फंगस का एक ऐसा मामला सामने आया है, जिसमें युवक न तो कोविड संक्रमित था और न ही उसने स्टेरॉइड लिया था। बावजूद इसके उसे ब्लैक फंगस हो गया। पीआईबी के अनुसार ब्लैक फंगस कोविड-19 से उबर चुके हैं या ठीक हो रहे मरीजों में ही होता है। इसके अलावा, जिसे भी मधुमेह है और जिसकी प्रतिरक्षा प्रणाली ठीक से काम नहीं कर रही है, उसे इसे लेकर सावधान रहने की जरूरत है।

वहीं भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) द्वारा जारी किए गए एक परामर्श के अनुसार, कोविड-19 रोगियों में निम्नलिखित दशाओं से म्यूकोर्मिकोसिस संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है, जिनमें 1. अनियंत्रित मधुमेह, 2. स्टेरॉयड के उपयोग के कारण प्रतिरक्षा प्रणाली का कमजोर होना, 3. लंबे समय तक ICU/अस्पताल में रहना 4. सह-रुग्णता 5.अंग प्रत्यारोपण के बाद और 6.कैंसर वोरिकोनाजोल थेरेपी।

मुम्बईः पेस्ट्री और केक में पैक कर पहुंचाए जाते थे ड्रग्स

चौंकाने वाली बात यह है कि दो दिन के अंदर तीन ऐसे केस सामने आए हैं, जिनमें कोरोना वायरस की केस हिस्ट्री नहीं मिली है और न कोई ऐसी हिस्ट्री मिली कि मरीज लम्बे समय तक पीड़ित था या स्टेरॉयल ले रहा था। अब मेडिकल कॉलेज के डॉक्टर इस मामले में अध्ययन कर रहे हैं कि आखिर युवक ब्लैक फंगस की चपेट में कैसे आ गया। बताते चलें कि ब्लैक फंगस घातक बीमारी साबित हो रही है। महंगा इलाज होने के बाद इसमें बचने का औसत भी 50-50 होता है।

तीन साल में इंदिरा हृदयेश समेत उत्तराखंड ने खोए पांच विधायक

ब्लैक फंगस इंफेक्शन के लिये चयनित रीवा के श्याम शाह मेडिकल कॉलेज की सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल में चौंकाने वाले ब्लैक फंगस के केस सामने आ रहे हैं। पिछले दिनों यहां तीन मरीजों की मौत हो चुकी है और 17 मरीजों का इलाज चल रहा है। इसी दौरान ब्लैक फंगस इंफेक्शन वार्ड में एक ऐसा मरीज सामने आया है, जिसमें कोरोना संक्रमण के लक्षण नही थे। डॉक्टर इसकी एंजियोग्राफी कर पता लगाने की कोशिश में है कि आखिर इसमें किन कारणों में इंफेक्शन हुआ है।

ब्लैक फंगस के क्या हैं सामान्य लक्षण

सामान्य लक्षण क्या हैं?

हमारे माथे, नाक, गाल की हड्डियों के पीछे और आंखों एवं दांतों के बीच स्थित एयर पॉकेट में त्वचा के संक्रमण के रूप में म्यूकोर्मिकोसिस दिखने लगता है। यह फिर आंखों, फेफड़ों में फैल जाता है और मस्तिष्क तक भी फैल सकता है। इससे नाक पर कालापन या रंग मलिन पड़ना, धुंधली या दोहरी दृष्टि, सीने में दर्द, सांस लेने में कठिनाई और खून की खांसी होती है।

Related Articles

Back to top button