Science & Tech

भारत के सामने झुका टि्वटर, कहा- शर्त मानने को तैयार

Twitter bowed in front of India, said- ready to accept the condition

  • भारत के प्रति जिम्मेदार था और जिम्मेदार रहेगा टि्वटर

नई दिल्ली। भारत सरकार और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्विटर के बीच चल रही जंग अब थमती नजर आ रही है।
नए नियमों के अनुपालन को लेकर पिछले शनिवार को माइक्रो ब्लागिंग साइट ट्विटर को केंद्र सरकार की ओर से आखिरी नोटिस भेजा गया। इस नोटिस का ट्विटर ने जवाब दाखिल किया और कहा कि ट्विटर भारत के प्रति पूरी तरह से प्रतिबद्ध रहा है और रहेगा। हमने भारत सरकार को आश्वासन दिया है कि नए दिशानिर्देशों का पालन करने के लिए हर संभव प्रयास हो रहा है। हम अपनी प्रगति का अवलोकन विधिवत साझा करेंगे। हम भारत सरकार के साथ अपनी रचनात्मक बातचीत जारी रखेंगे।

गौरतलब है कि विभिन्न इंटरनेट मीडिया प्लेटफार्म को यूजर्स के लिए सुरक्षित और भरोसेमंद बनाने की दिशा में तय नए नियमों को लेकर ट्विटर की आनाकानी पर केंद्र सरकार नकेल कस रही है। केंद्र सरकार के नोटिस में कहा गया था कि यह आखिरी चेतावनी है। अब भी नियमों का पालन नहीं हुआ तो IT कानून और अन्य दंडात्मक कानूनों के तहत ट्विटर के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। ट्विटर का इंटरमीडियरी का दर्जा खत्म किया जा सकता है, जिससे ट्विटर को मिली हुई कई छूट समाप्त हो जाएगी। इससे ट्विटर के लिए भारत में संचालन मुश्किल हो सकता है।

नियम पालन में कोताही करता रहा टि्वटर

इलेक्ट्रॉनिक्स व IT मंत्रालय की तरफ से भेजे गए नोटिस में कहा गया था कि नियमों के पालन में कोताही से भारत के लोगों के प्रति ट्विटर की प्रतिबद्धता में कमी जाहिर होती है। 26 मई से नए नियम लागू हो चुके हैं। इसके तहत सभी इंटरनेट मीडिया प्लेटफार्म को शिकायतों के निवारण के लिए चीफ कंप्लायंस आफिसर के साथ नोडल आफिसर और रेसीडेंट ग्रीवांस आफिसर नियुक्त करना है।

यहां भी ट्विटर ने की थी मनमानी

बताते चलें कि टि्वटर में कुछ दिनों पहले भारत के उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के मुखिया मोहन भागवत के अकाउंट को अनवेरीफाई कर दिया था। उसके बाद मचे हो हल्ले के कारण उसने दोनों हस्तियों को ब्लू टिक वापस कर दिया था। तभी से यह लगने लगा था कि ट्विटर के खिलाफ भारत सरकार अब आर-पार के मूड में है। अब ट्विटर भारत सरकार की नीतियों को मानने के लिए तैयार है, इसलिए कहा जा सकता है कि इस मामले का पटाक्षेप हो जाएगा।

Related Articles

Back to top button