Bundelkhand

हाईटेक बांदा जेल से भाग निकला कैदी, शासन, जेल मुख्यालय व जिला प्रशासन के सुरक्षा दावों की खुली पोल

Hi-tech prisoner escaped from Banda jail, open poll of security claims of government, jail headquarters and district administration

जेल बंद होने के समय हुई जेल अफसरों को फरारी की जानकारी


राकेश यादव


लखनऊ। शासन, जेल मुख्यालय व जिला प्रशासन के तमाम सुरक्षा दावों को धता बताकर बांदा जेल से एक बन्दी भाग निकला। जेल प्रशासन के अधिकारियों ने घटना को तीन घंटे तक छिपाए रखा। काफी खोजबीन के बाद जब बन्दी का कोई सुराग नही मिला तो इसकी जानकारी जिला प्रशासन को दी गयी। यह घटना उस जेल में हुई जिसमें माफिया डॉन मुख्तार अंसारी भी निरुद्ध है। उधर जेल प्रशासन के अधिकारी फ़ोन ही नही उठा रहे है। हाईटेक जेल से हुई इस फरारी ने जेल प्रशासन की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े कर दिए।

मिली जानकारी के मुताबिक बांदा मण्डलीय कारागार से रविवार को एक विचाराधीन बन्दी विजय अरख जेल की हाईटेक सुरक्षा व्यवस्था को चकमा देकर फरार हो गया। सूत्रों का कहना है कि डकैती व लूट के आरोप में पुलिस ने विजय को गिरफ्तार कर जेल भेजा था। फरवरी माह से वह जेल में बंद था। विचाराधीन बन्दी विजय अरख के फरार होने की जानकारी जेल प्रशासन के अधिकारियों को शाम को जेल बंद करने के समय हुई। सूत्र बताते है कि देर शाम जब जेल बंद कराने की प्रक्रिया चल रही थी तो अधिकारियों को गिनती में एक बन्दी कम मिला। पड़ताल में पता चला कि बन्दी विजय अरख जेल में नही है। करीब तीन घंटे जेल में खोजबीन के बाद भी जब बन्दी का कोई पता नही चला तो इसकी सूचना पुलिस व जिला प्रशासन के अधिकारियों को दी गयी। सूत्रों की माने तो बन्दी को खोजने के लिए टीम गठित कर उन्हें रवाना भी कर दिया गया है।

पाक में दो ट्रेनों की आमने-सामने की भिडंतः देश में नया नहीं है रेल दुर्घटना

मालूम हो बीते दिनों पंजाब की रोपड़ जेल से माफिया डॉन मुख्तार अंसारी को बांदा जेल लाया गया था। माफिया डॉन के जेल आगमन पर जेल की सुरक्षा व्यवस्था को पूरी तरहबसे चाक चौबंद किया गया। जेल में जगह जगह सीसीटीवी समेत अन्य आधुनिक उपकरण लगाए गए। एक कंपनी पीएसी के साथ अन्य सुरक्षाबलों को तैनात किया गया। जेल मुख्यालय में लगी वीडियो वाल से जेल की मॉनिटरिंग की जा रही थी।

इस सारी व्यवस्थाओं को धता बताकर फरार हुए कैदी ने जेल सुरक्षा इंतजामो की पोल खोल दी। इस संबंध मे जब जेल मुख्यालय के अधिकारियों से संपर्क करने का प्रयास किया गया तो उनका फ़ोन ही नही उठा।

Related Articles

Back to top button