Bihar

BJP ने अपने बागी MLC टुन्ना पांडेय को पार्टी से निकाला, निलबिंत

BJP expelled its rebel MLC Tunna Pandey from the party, Nilbint

बिहार के सीएम नीतीश को शहाबुद्दीन के बाद टुन्ना ने कहा था-परिस्थितियों के सीएम हैं नीतीश

पटना। बिहार के पूर्व सांसद और माफिया डॉन शहाबुद्दीन ने लालहवेली से निकलने के बाद नीतीश कुमार का परिस्थितियों का सीएम बताया था। बिहार भारतीय जनता पार्टी (BJP) के MLC टुन्ना पांडेय ने भी नीतीश कुमार को परिस्थितियों का सीएम बोला था। उनके इस आचरण पर भाजपा ने उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी किया था। चर्चा है कि कारण बताओ नोटिस पाने के बाद टुन्ना पांडेय ने शहाबुद्दीन के बेटे ओसामा से मुलाकात की और जवाब देने की बजाय अपना बागी रुख अख्तियार कर लिया था। टुन्ना पांडेय जवाब देने की बजाय उल्टे और तेजी से नीतीश पर हमला बोलने लगे। जाहिर है कार्रवाई न होने की हालत में NDA गठबंधन में खराब संकेत जाने के आसार थे।

नीम की डाली में युवक का लटकता मिला शव

लिहाजा आखिरकार पार्टी ने बागी एमएलसी टुन्ना जी पांडेय को पार्टी से निलंबित कर दिया। अपनी पार्टी के खिलाफ बयानबाजी और सीएम को आड़े हाथों लेना टुन्ना पांडेय को भारी पड़ गया। भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने टुन्ना पांडेय को पार्टी से निलंबित कर दिया है। BJP के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल ने शुक्रवार को इस संबंध में एक चिट्ठी जारी कर इसकी घोषणा की। बताते चलें कि नीतीश पर निशाना साधने वाले टुन्नां पांडेय के ट्वीट का हवाला देते हुए जदयू नेता उपेंद्र कुशवाहा ने भाजपा पर सवाल उठाया था। उन्होंने भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल से पूछा था यदि ऐसा ही बयान जदयू के किसी नेता ने भाजपा या उसके किसी नेता के बारे में दिया होता तो अब तक क्या कार्रवाई होती? सीएम पर टिप्पणी के बाद पार्टी में उनसे दस दिन में जवाब भी मांगा था।

BJP की चेतावनी के बाद टुन्ना पांडेय ने अपने बागी तेवर और कड़े कर लिए थे। इसके बाद तो बुधवार को वो पूर्व बाहुबली सांसद और राजद (RJD) के कद्दावर नेता रहे शहाबुद्दीन के बेटे ओसामा से भी मिलने चले गए। उन्होंने इसकी फोटो तक खिंचवाई और मीडिया में दे दी। ओसामा से मुलाकात के बाद ही ये तय हो गया था कि टुन्ना और बीजेपी में अब आर-पार की लड़ाई शुरू हो चुकी है। BJP MLC ने फिर कहा कि ‘नीतीश कुमार वाकई में परिस्थितियों के मुख्यमंत्री हैं। अपनी बात को साबित करने के लिए उन्होंने तर्क भी पेश किया। बीजेपी विधान पार्षद ने कहा कि शहाबुद्दीन ने गलत थोड़े कहा था कि नीतीश कुमार परिस्थितियों के सीएम हैं। पिछली दफा दूसरे नंबर की पार्टी के नेता थे फिर भी मुख्यमंत्री बने। इस बार तीसरे नंबर पर ठेला गये फिर भी मुख्यमंत्री बने।

Related Articles

Back to top button