Central UPEducationNationalPurvanchalRaj Dharm UPUttar Pradesh

CBSE की तरह ISC ने भी 12वीं की परीक्षा रद्द की

Like CBSE, ISC also canceled the 12th examination

नई दिल्ली। कोरोना वायरस महामारी के खतरे को देखते हुए काउंसिल फॉर द इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट एग्जामिनेशंस (CISCE) ने ICSE कक्षा 12 की परीक्षाओं को रद्द कर दिया है। दरअसल, CBSE द्वारा 12वीं की परीक्षा रद्द करने के बाद अब CISCE की ओर से ISC 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं को स्थगित कर दिया गया है। CISCE के मुख्य कार्यकारी और सचिव जी एराथून ने इस बाबत जानकारी दी है। बताते चलें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक उच्च स्तरीय बैठक बुलाई थी। बैठक में परीक्षाओं को रद्द करने का निर्णय किया गया है। CBSE कक्षा 12वीं की परीक्षा 2021 के लिए लगभग 14.5 लाख छात्र पंजीकृत हैं, जिनकी परीक्षा रद्द कर दी है। गौरतलब है कि देश में कोविड-19 के चलते कई छात्रों ने अपने परिवार वालों को खोया है। ऐसे में इस समय परीक्षा कराना न सिर्फ लाखों छात्रों और टीचर्स की सुरक्षा के लिए खतरा है, बल्कि उनके परिवार वालों के लिए भी यह परेशानी का सबब है।

12वीं की CBSE परीक्षा को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बैठक की। इस बैठक में CBSE के चेयरमैन, शिक्षा मंत्रालय के सेक्रेटरी के अलावा कई केंद्रीय मंत्री शामिल रहे। शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक एम्स में भर्ती होने के कारण इस बैठक मैं शामिल नहीं है। बताते चलें कि देशभर में 12वीं की परीक्षा को लेकर राज्यों ने अपने सुझाव केंद्र सरकार को भेजे हैं। महाराष्ट्र, झारखंड, केरल, मेघालय, अरुणाचल, तमिलनाडु और राजस्थान ने भी परीक्षा से पहले टीके का सुझाव दिया है। महाराष्ट्र ने ऑनलाइन परीक्षा की बात भी कही है।
पीएम मोदी ने कहा कि यह निर्णय छात्रों के हित में लिया गया है। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के कारण शैक्षणिक सत्र प्रभावित हुआ है और बोर्ड की परीक्षा के मुद्दे को लेकर छात्रों , अभिभावकों और अध्यापकों में असमंजस था जिस पर विराम लगाया जाना जरूरी था। बैठक में गृह, रक्षा, वित्त, वाणिज्य, सूचना एवं प्रसारण तथा अन्य मंत्रियों के अलावा विभिन्न वरिष्ठ अधिकारियों ने हिस्सा लिया।

पीएम मोदी की बैठक में बड़ा फैसला, सीबीएसई 12वीं बोर्ड परीक्षा रद्द

यूपी, जम्मू-कश्मीर, गुजरात, असम, हिमाचल, चंडीगढ़, सिक्किम, पंजाब, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, बिहार और ओडिशा चाहते हैं कि सिर्फ मुख्य विषयों की परीक्षा हो और परीक्षा का समय कम कर दिया जाए। करीब एक हफ्ता पहले चीफ जस्टिस एनवी रमना को 3000 छात्रों में चिट्ठी लिखी थी। कहा था, ‘कोरोना के बीच फिजिकल एग्जाम कराने का CBSE का फैसला रद्द कर दिया जाए। सुप्रीम कोर्ट असेसमेंट का वैकल्पिक तरीका तय करने का निर्देश दें। CBSE के इस आदेश को देखते हुए ISC ने भी 12वीं की परीक्षा रद्द कर दी है।

Related Articles

Back to top button