DelhiHot Brides OnlineInternationalNationalराष्ट्रीय

WHO पर नया वैश्विक दबाव, कोरोना मामले की जांच दोबारा करें

New global pressure on WHO, re-investigate Corona case

अमेरिकी के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प कोरोना को कह चुके हैं चीनी वायरस

ब्रिटेन के एक लेखक ने भी वुहान में कोविड-19 की हुई उत्पत्ति, कर चुके हैं खुलासा


नई दिल्ली। कोरोना संक्रमण की शुरुआत से ही इसकी उत्पत्ति को लेकर सवाल उठने लगे हैं। दुनिया के कई देशों ने चीन पर इसे लैब में तैयार करने के आरोप लगाए हैं। अमेरिका के तत्कालीन राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने तो इसे ‘चीनी वायरस’ करार दिया था। अब अमेरिका और ब्रिटेन COVID-19 की संभावित उत्पत्ति की गहराई से जांच करने को लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन WHO पर लगातार दबाव बना रहे हैं।

हालांकि एक ब्रिटिश लेखक वेड भी यह खुलासा कर चुके हैं कि चीन के वुहान लैब से कोरोना वायरस निकला और पूरी दुनिया को तबाह कर दिया। दोनों देशों का मानना है कि कोरोना वायरस की उत्पत्ति का पता लगाने के लिए WHO की टीम को चीन का नए सिरे से दौरा करना चाहिए। WHO और चीनी विशेषज्ञों ने बीते मार्च में एक रिपोर्ट जारी करके इस महामारी के उत्पन्न होने की चार संभावनाओं के बारे में जानकारी दी थी। संयुक्त टीम का मानना है कि इस बात की प्रबल आशंका है कि कोरोना वायरस चमगादड़ों से किसी अन्य जानवर के माध्यम से इंसान में प्रवेश कर गए।

यह संभावना बेहद कम है कि यह वायरस किसी प्रयोगशाला में तैयार किया गया है। जिनेवा में अमेरिकी मिशन ने गुरुवार को एक बयान जारी कर कहा था कि कोविड-19 की उत्पत्ति को लेकर संयुक्त टीम की ओर से की गई पहले चरण की जांच अपर्याप्त और अनिर्णायक है। इसलिए तय समय के भीतर पारदर्शी तरीके से विशेषज्ञों के नेतृत्व में साक्ष्य-आधारित दूसरे चरण की जांच की जानी चाहिए। इसके लिए दोबारा चीन का दौरा किया जाना चाहिए। भारत ने COVID-19 की उत्पत्ति को लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन की अगुवाई में शुरू वैश्विक अध्ययन को पहला महत्वपूर्ण कदम बताते हुए शुक्रवार को कहा कि इसके बारे में ठोस निष्कर्ष तक पहुंचने एवं आगे आंकड़ा जुटाने के लिये अगले चरण के अध्ययन की जरूरत है।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने शुक्रवार को अपने बयान में यह बात कही। उन्होंने कहा, ” WHO द्वारा COVID-19 की उत्पत्ति के बारे में वैश्विक अध्ययन पहला महत्वपूर्ण कदम है । यह इस बारे में ठोस निष्कर्ष तक पहुंचने एवं आगे और आंकड़े जुटाने के लिये अगले चरण के अध्ययन की जरूरत को रेखांकित करता है। WHO रिपोर्ट पर आगे की कार्रवाई तथा आगे अध्ययन में सभी के सहयोग एवं समझ की जरूरत है। मार्च में विश्व डब्ल्यूएचओ ने COVID-19 की उत्पत्ति को लेकर चीन के वैज्ञानिकों के साथ संयुक्त रूप से लिखी गई एक रिपोर्ट जारी की जिसमें कहा गया था ।

कि इसके किसी प्रयोगशाला में शुरू होने की संभावना ”बेहद कम है। डब्ल्यूएचओ(WHO) के विशेषज्ञों द्वारा चीन में महामारी के केंद्र वुहान सहित अन्य स्थानों पर अभियान के संचालल के तौर तरीकों तथा बीजिंग से पर्याप्त सहयोग की कमी को लेकर अमेरिका और कुछ अन्य देशों ने चिंता जतायी है। खबरों के अनुसार, डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक टेड्रोस अदहानोम गेब्रिएसस ने भी इसपर सहमति व्यक्त की है कि वायरस की उत्पत्ति को लेकर आगे और अध्ययन की आवश्यकता है।(BNE)

 

Related Articles

Back to top button