Health

हांफना क्या है? आइए जाने कारण, लक्षण एवं इसके बचाव को

जिन्दगी अगर जीना है तो सांस लेना ही पड़ेगा। यदि आप एक मिनट में सामान्य से अधिक बार सांस लेता है तो उस अवस्था को हांफना कहते हैं। बहुत से लोगों को दमा की बीमारी होती है और सांस लेते समय घर्र-घर्र की आवाज आती है। ऐसे में बहुत से खाने-पीने की वस्तुओं को छोड़ना पड़ता है, खासकर ठंडा आइटम। अगर दूसरे शब्दों में तेजी से सांस लेने को हाइपरवेंटिलेशन भी कहा जाता है।व्यक्ति हार्ट फेलियर, फेफड़ों में संक्रमण, दम घुटने आदि के दौरान हांफने जैसे लक्षणों का सामना करना पड़ता है। इस तरह के घटना को बीमारी का रूप नही कहा जाता है। लेकिन ये किसी गंभीर बीमारी का लक्षण हो सकता है। ऐसे में कमजोरी, चक्कर आना, बेहोशी आदि जैसे लक्षण भी हांफने के दौरान नजर आते हैं। आज हम आपको सांस फूलने के पीछे क्या कारण छिपे होते हैं। आइए जानते है-

हांफने के कारण (Reasons for Gasp )


1 -सीओपीडी (Chronic obstructive pulmonary disease) : फेफड़े एक आम बीमारी है, जिसमें ब्रोंकाइटिस में सांस की नली में सूजन और एंफिसेमा में फेफड़ों में मौजूद छोटी हवाओं की थैली का नष्ट हो जाना, जैसी समस्या शामिल है।

3 – शरीर में पानी की कमी : जब शरीर में पानी की कमी हो जाती है वे लोग सांस लेने के तरीके में भी बदलाव महसूस करते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि शरीर की कोशिकाओं को पर्याप्त ऊर्जा पानी की कमी से नहीं मिल पाता। ऐसे लोग निर्जलीकरण की समस्या के शिकार हो जाते हैं और जल्दी-जल्दी हांफते हैं।

2 – अस्थमा : जब कोई जल्दी सांस लेता है तो यह अस्थमा के अटैक के लक्षण भी हो सकते हैं। बता दें कि जब सांस नली में सूजन आ जाती है तो सांस लेने की समस्या पैदा हो जाती है।

6 – डायबिटिक कीटोएसिडोसिस : यह बेहद गंभीर समस्या होती है। जब शरीर पर्याप्त इंसुलिन नहीं बना पाता, जिसके कारण शरीर में केटोंस नामक एसिड का निर्माण होता है और व्यक्ति हांफना शुरू कर देता है।

4 – खून के थक्के के कारण : जब पल्मोनरी एंबॉलिज्म की परेशानी शरीर में होती है तो फेफड़ों में खून का थक्का जमने लगता है, जिसके कारण छाती में दर्द, दिल का तेजी से धड़कना, सांस लेने में तकलीफ की शिकायत होती है।

5 – पैनिक अटैक :  डर और चिंता के चलते शारिरीक प्रक्रिया की समस्या पैदा हो जाती है, जिसके कारण व्यक्ति चिंता विकार के लक्षणों का सामना करता है। इन लक्षणों में हांफना भी शामिल है।

हांफने के लक्षण (Symptoms of Gasp)


  • दिल की गति का तेज हो जाना
  • शरीर के तापमान में बदलाव महसूस करना।
  • गले में जलन और फेफड़ों में जलन महसूस करना।
  • आंखों में पानी आ जाना
  • चक्कर आना या बेहोशी महसूस करना
  • सांस लेते वक्त आवाज निकलना

हांफने के बचाव (Prevention of Gasp)


  •  छाती की जगह डायाफ्राम से सांस लेने की कोशिश करें।
  •  कपालभाती, सरल प्राणायाम, अनुलोम विलोम प्राणायाम से हांफने की समस्या को दूर किया जा सकता है।
  • हांफने के दौरान अगर जल्दी इलाज किया जाए तो आराम मिलता है।
  • अपने ध्यान को केंद्रित करें।
  • नियमित व्यायाम करने से हाइपरवेंटिलेशन की समस्या को रोका जा सकता है, ऐसे में आप चलना, दौड़ना, साइकिल चलाना आदि को अपनी दिनचर्या में शामिल कर सकते हैं।
  • अल्कोहल और धूम्रपान के सेवन से बचें। ये आदतें फेफड़ों को क्षति पहुंचाती हैं।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Live Updates COVID-19 CASES